West Bengal

प बंगाल :  लंबे समय बाद शुरू हुई हुगली जिले में फेरी सेवा, सुबह सात से शाम सात बजे तक चलेंगी नावें

विज्ञापन

Hugli :  लॉकडाउन (चार) की समाप्ति के बाद अब धीरे-धीरे जिंदगी पटरी पर लौट रही है. इसी क्रम में सोमवार से हुगली जिले के ज्यादातर फेरी घाटों पर फेरी सेवा पुनः शुरू कर दी गई है.

सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों को मानते हुए सुबह सात बजे से शाम सात बजे के बीच जिले के फेरी घाटों से यात्रियों को लेकर नावे चलेंगी. जिले में फेरी सेवा शुरू होने से यात्रियों ने राहत की सांस ली है.

इसे भी पढ़ेंः Jharkhand की तीन लोकल कंपनियां बन रहीं वोकल, लॉकडाउन के दौरान दिखा सौ फीसदी ग्रोथ

सोमवार को ऑफिस टाइम के दौरान यात्रियों की भीड़ देखी गई. हालांकि इस दौरान दो गज की दूरी (सोशल डिस्टेंसिंग) का भी ध्यान रखा गया. फेरी सेवा में यात्रा के लिए मास्क को अनिवार्य किया गया है. यात्रियों की मांग है कि नावों की संख्या को और बढ़ाया जाए.

रिसड़ा नगर पालिका के प्रशासक विजय सागर मिश्रा ने बताया कि अम्फान तूफान में रिसड़ा -खड़दह फेरी घाट का जेटी क्षतिग्रस्त हो गया था. इस कारण रिसड़ा में फेरी सर्विस शुरू नहीं हो पाई है.

इसे भी पढ़ेंः झारखंड स्टेट को-ऑपरेटिव बैंक: रिमांड पर 33 करोड़ के गबन मामले में सरायकेला शाखा के तत्कालीन प्रबंधक

फेरी सर्विस को रिसड़ा में भी जल्द ही बहाल कर दिया जाएगा. जोर-शोर से जेटी के मरम्मत का काम चल रहा है. उल्लेखनीय है की लॉक डाउन के बाद से ही हुगली जिले में फेरी सेवा बंद थी जिसके कारण नित्य यात्री बेहद परेशान थे.

दरअसल हुगली जिले के फेरी घाट हुगली और उत्तर 24 परगना जिले को जोड़ने में बेहद महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है. इन फेरी घाटों पर यात्रियों का दबाव भी काफी रहता है.

हुगली जिले में हालांकि ज्यादातर फेरी घाटों पर फेरी सेवाओं को पुनः बहाल कर दिया गया है. लेकिन तकनीकी समस्याओं के कारण रिसड़ा, भद्रेश्वर और तेलिनीपाड़ा में सोमवार तक फेरी सेवा बहाल नहीं की जा सकी थी.

इसे भी पढ़ेंः BJP ने की पहल, पश्चिम बंगाल के तूफान पीड़ितों के लिए भेजी तीन ट्रक राहत सामग्री

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close