National

पश्चिम बंगाल कांग्रेस के अध्यक्ष सोमेन मित्रा का हार्ट अटैक से निधन

छात्र जीवन से राजनीति में कदम रखनेवाले मित्रा सात बार विधायक रहे.

Kolkata: पश्चिम बंगाल कांग्रेस के अध्यक्ष सोमेन मित्रा का बुधवार देर रात शहर के एक अस्पताल में निधन हो गया. वो 78 वर्ष के थे. मित्रा जिस निजी अस्पताल में भर्ती थे वहां के सूत्रों ने बताया कि ह्रदय और उम्र संबंधी बीमारियों के कारण उनका निधन हुआ.

इसे भी पढ़ेंःCoronaUpdate: एक दिन में पहली बार 52 हजार से अधिक नये केस, 775 लोगों की मौत

दिल का दौरा पड़ने से निधन

अस्पताल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘नियमित जांच के दौरान उनका क्रिएटिनिन स्तर अधिक पाए जाने के बाद कुछ दिन पहले उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था. वह फेफड़ों की बीमारी (सीओपीडी) के मरीज थे और उन्हें उम्र संबंधी अन्य बीमारियां भी थीं.’ अस्पताल सूत्रों ने बताया कि मित्रा का दिल का दौरा पड़ने के बाद देर रात करीब डेढ़ बजे निधन हुआ. वह कोरोना वायरस से संक्रमित नहीं पाए गए थे.

advt


उनके परिवार में पत्नी और बेटा है. कांग्रेस नेता के परिवार के एक सदस्य ने बताया कि उन्हें नियमित स्वास्थ्य जांच के लिए कुछ दिन पहले अस्पताल ले जाया गया था. मित्रा जब लोकसभा सांसद थे तब उनकी बाइपास सर्जरी भी हुई थी.

कांग्रेस सांसद और राज्य में पार्टी मामलों के अखिल भारतीय कांग्रेस समिति (एआइसीसी) प्रभारी गौरव गोगोई ने पश्चिम बंगाल प्रदेश कांग्रेस समिति के अध्यक्ष के निधन पर शोक जताया.

adv

गोगोई ने ट्वीट किया, ‘मुझे लेफ्टिनेंट सोमेन मित्रा के परिवार के लिए बहुत दुख महसूस हो रहा है. वह बंगाल की दिग्गज शख्सियत थे और उन्होंने अपने लंबे सफर में लाखों लोगों की जिंदगियों को बदला. मेरी संवदेनाएं उनके परिवार और प्रशंसकों के प्रति हैं. उनकी विरासत को भुलाया नहीं जाएगा.’’
इसे भी पढ़ेंःमेनहर्ट घोटाला 13: ‘सांच को आंच क्या’ का दंभ भरने वाले अपनी चमड़ी बचाने के लिये जांच की आंच पर राजनीति का पानी डालने में लग गये

छात्र जीवन में राजनीति से जुड़े थे

‘छोरदा’ (मंझला भाई) के तौर पर पहचाने जाने वाले मित्रा 1960 और 1970 के सबसे तेजतर्रार नेताओं में से एक थे. वह 60 के दशक में छात्र राजनीति के जरिए कांग्रेस में पहुंचे. कांग्रेस की पश्चिम बंगाल ईकाई के 1992-1996, 1996-1998 और सितंबर 2018 से अब तक तीन बार अध्यक्ष रहे मित्रा सियालदह विधानसभा क्षेत्र से सात बार विधायक चुने गए.

उन्होंने प्रगतिशील इंदिरा कांग्रेस राजनीतिक पार्टी बनाने के लिए 2008 में कांग्रेस छोड़ दी. बाद में 2009 के लोकसभा चुनाव के मद्देनजर उन्होंने अपनी पार्टी का तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) में विलय कर दिया और उस साल डायमंड हार्बर संसदीय सीट से टीएमसी के टिकट पर चुनाव जीते. मित्रा 2014 में टीएमसी छोड़कर फिर से कांग्रेस में शामिल हो गए.

उनकी 2016 विधानसभा चुनाव के दौरान पश्चिम बंगाल में माकपा के नेतृत्व वाले वाम मोर्चा और कांग्रेस के बीच गठबंधन कराने में अहम भूमिका थी.

इसे भी पढ़ेंःआखिर क्यों नाराज होकर दिल्ली शिकायत करने पहुंचे झारखंड के 3 कांग्रेसी विधायक

advt
Advertisement

7 Comments

  1. It’s really very complex in this full of activity
    life to listen news on Television, therefore I simply use world wide web
    for that reason, and obtain the most up-to-date information.

  2. I’m extremely impressed along with your writing skills as smartly as with the format
    for your weblog. Is that this a paid topic or did you modify it yourself?
    Anyway keep up the excellent quality writing, it’s rare to see a great blog like this one today..

  3. Hello just wanted to give you a quick heads up. The text in your content seem to be running off the screen in Safari.
    I’m not sure if this is a format issue or something to
    do with web browser compatibility but I figured I’d
    post to let you know. The layout look great though! Hope you get the problem resolved
    soon. Kudos cheap flights y2yxvvfw

  4. Pretty section of content. I just stumbled upon your web site and in accession capital to assert that
    I acquire in fact enjoyed account your blog posts.
    Any way I’ll be subscribing to your augment and even I achievement you access consistently quickly.

  5. I do believe all of the ideas you have presented in your post.
    They’re really convincing and will definitely work. Still, the posts are very brief for
    starters. May just you please extend them a little from
    next time? Thank you for the post. adreamoftrains best web hosting company

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button