Education & Career

एमिटी यूनिवर्सिटी में वेबिनार, विशेषज्ञों ने कहा- राज्य में आदिवासियों के मुद्दे बहुत हैं जिन पर अभी और काम करना बाकी

Ranchi : एमिटी यूनिवर्सिटी झारखंड एवं निर्मला कॉलेज रांची के सहयोग से दो दिवसीय वेबिनार का आयोजन किया गया. इस वेबिनार को यूजीसी ने स्पांसर किया था. झारखंड के आदिवासी मुद्दों पर आयोजित इस वेबिनार में स्टूडेंट्स झारखंड की जनजाति और संस्कृति की रूपरेखा से अवगत हुए.

इस वेबिनार के मुख्य अतिथि विनोबा भावे विवि के पूर्व कुलपति डॉ रमेश शरण उपस्थित थे. इसके अलावा कोल्हान विवि के फिलॉसफी विभाग की पूर्व एचओडी डॉ पद्मजा सेन, सीनियर रिसर्च डिपार्टमेंट ऑफ सोशल ज्योग्राफी रीजनल डिपार्टमेंट चार्ल्स यूनिवर्सिटी प्राग की डॉ राधिका बोरे, असिस्टेंट प्रोफेसर मास कम्युनिकेशन डिपार्टमेंट संत जेवियर कॉलेज रांची के डॉक्टर संतोष किड़ो शामिल हुए.

इसे भी पढ़ें – रांची में कोरोना से एक और की मौत, कोकर का रहनेवाला था

झारखंड में असीम संभावनाएं

कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य छात्रों को जनजातीय और आदिवासी संस्कृति की रूपरेखा के साथ-साथ झारखंड के विभिन्न आदिवासी मुद्दों और उसमें हो रहे विकास एवं उनके विभिन्न आयामों को समझाना था. मुख्य अतिथि डॉ रमेश शरण ने कहा कि झारखंड में आदिवासी मुद्दे बहुत हैं जिन पर अभी और काम करना बाकी है. सरकार एवं लोगों की मदद से इस पर और कार्य किया जा रहा है. मुद्दों की बात करें तो उन्होंने यह भी कहा झारखंड में असीम संभावनाएं हैं. अगर सभी का प्रयास रहा तो झारखंड आगे आनेवाले समय में बहुत उन्नति करेगा.

इसे भी पढ़ें – कार्रवाई : तबलीगी जमात से जुड़े 2200 विदेशी नागरिकों को गृह मंत्रालय ने 10 साल के लिए किया बैन

Telegram
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close