न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रंगदार के आगे नहीं झुकेंगे, ढुल्लू से हम कमजोर नहीं हैं

इंडस्ट्रीज एंड कॉमर्स एसोसिएशन के सदस्यों ने बैठक कर दिखाई एकजुटता

636

Dhanbad: इंडस्ट्रीज एंड कॉमर्स एसोसिएशन की बुधवार को हुई बैठक में सभी सदस्यों ने एकजुटता दिखाई. सबने लड़ाई जारी रखने पर बल दिया. एसोसिएशन की लड़ाई में चिरकुंडा के स्मॉल स्केल एंड बिहाइब एसोसिएशन ने हर तरह से साथ देने का वादा किया. कुछ सदस्यों ने बाघमारा के विधायक ढुल्लू महतो का नाम लेकर रंगदारी वसूलने का आरोप लगाया. एक सदस्य जग नारायण सिंह ने यहां तक कहा कि हमलोग ढुल्लू महतो से कमजोर नहीं हैं. लड़ाई को अंजाम तक पहुंचाने के लिए वह एसोसिएशन के साथ हैं. सदस्य राम कुमार सिंह ने कहा कि एक रंगदार से घबराने से काम नहीं चलेगा. एक सदस्य ने कहा कि एक आऊटसोर्सिंग कंपनी ने ढुल्लू के खिलाफ मुख्यमंत्री रघुवर दास से शिकायत की तो उसे आतंक से पूरी तरह राहत मिल गयी.

कैसे लड़ी जाए आगे की लड़ाई

सर्वसम्मति से फैसला किया गया कि इस माह एसोसिएशन के सदस्य बाघमारा क्षेत्र की कोलियरी में कोयला आवंटन के लिए डीओ नहीं लगाएंगे. सदस्यों को उन कोलियरियों का नाम भी बताया गया जहां डीओ नहीं लगाना है. सदस्यों ने डीओ नहीं लगाने का कारण बताते हुए बीसीसीएल के सीएमडी को पत्र लिखने का आग्रह एसोसिएशन से किया. एसोसिएशन के सदस्य अपने ट्विटर एकाउंट के माध्यम से रंगदारी के इस मामले का विरोध करेंगे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सभी सदस्य अलग-अलग इस मामले को लेकर ई-मेल करेंगे.

एसोसिएशन के अध्यक्ष बीएन सिंह ने बताया कि रंगदारी के मामले को लेकर लिखित रूप से प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री, मुख्य सचिव, उपायुक्त, एसएसपी सहित सभी पदाधिकारियों को रोज सूचना दी जा रही है. सदस्यों ने कहा कि ढुल्लू बोलते हैं कि वह कहां रंगदारी लेते हैं. वह तो मजदूरी भुगतान के लिए लड़ाई लड़ रहे हैं. इस पर अध्यक्ष बीएन सिंह ने कहा कि मजदूरी भुगतान वह मजदूरों के खाते में डिजिटल एप्प के माध्यम से करने को तैयार हैं. सदस्यों के आग्रह पर निर्णय लिया गया कि मामले को लेकर एक दिन तय कर स्थानीय प्रशासन के लोग यानी डीसी और एसएसपी से मुलाकात कर औपचारिक तौर पर एक स्मार पत्र सौंपा जाएगा. उसके बाद मुख्यमंत्री, नेता प्रतिपक्ष आदि से मिल कर ग्यापन सौंपा जाएगा. यह स्पष्ट कहा गया कि इस मामले में स्थानीय प्रशासन ने अभी तक न तो पहल की है और न कुछ करेगा.

याद दिला दें क्या है मामला

ढुल्लू महतो के वर्चस्ववाले कतरास क्षेत्र की कोलियरियों से कोयले का उठाव डीओधारकों ने कोयला लदाई के नाम पर होनेवाली रंगदारी वसूली में वृद्धि के खिलाफ बंद कर दिया है. पहले यहां 400 रुपये प्रतिटन रंगदारी की वसूली होती थी. इसे बाद में बढ़ाकर 650 रुपये कर दिया गया. थोड़ी हील-हुज्जत के बाद सदस्य रंगदारी की यह बढ़ी दर देकर कोयला उठाव करने को विवश हुए. अब 1250 रुपये प्रतिटन रंगदारी की मांग की जा रही है. इस मांग को स्वीकार करने के मूड में एसोसिएशन के सदस्य नहीं हैं.

विश्वकर्मा प्रोजेक्ट का भी मामला उठा

सदस्यों ने विश्वकर्मा प्रोजेक्ट में कोयला लोडिंग नहीं होने का मामला उठाया. इस पर अध्यक्ष ने बताया कि यहां मामला रंगदारी का नहीं बल्कि वर्चस्व का है. जहां तक मामले में निरसा विधायक अरूप चटर्जी की बात है, वह कोयला लोडिंग शुरू करवाने के लिए तैयार हैं. इधर से यानी गुड्डू सिंह की तरफ से जो परेशानी है, उसे दूर करने का प्रयास किया जा रहा है. मामला सुलझते ही जानकारी दे दी जाएगी. बैठक में अमितेश सहाय, रतन लाल अग्रवाल, केदारनाथ मित्तल, मैनेजर राय सहित सौ से अधिक सदस्य थे.

इसे भी पढ़ें – धनबाद : बिजली का 44 करोड़ बकाया रखनेवाले ‘लापता’

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: