न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

हमने कभी नहीं कहा,‘खाते में आयेंगे 15 लाख रुपये’- राजनाथ सिंह

759

New Delhi: लोकसभा चुनाव की तपिश के बीच केंद्रीय गृहमंत्री ने साफ किया है कि 2014 में बीजेपी ने कभी नहीं कहा था कि लोगों के खाते में 15 लाख रुपये ट्रांसफर किये जायेंगे. मंगलवार को एक न्यूज एजेंसी को दिये इंटरव्यू में उन्होंने ये बातें कहीं.

इसे भी पढ़ेंः गिरिडीह, रांची और जमशेदपुर लोकसभा सीटों पर महतो रूठा तो सबकुछ छूटा

बीजेपी ने नहीं किया था वादा

एएनआई को दिये इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि 2014 में बीजेपी ने कभी नहीं कहा कि लोगों के बैंक अकाउंट में 15 लाख रुपए भेजे जाएंगे. काले धन के खिलाफ कार्रवाई की गई. यह हमारी सरकार थी, जिसने ब्लैक मनी की जांच के खिलाफ स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (एसआईटी) का गठन किया.

उल्लेखनीय है कि गृह मंत्री राजनाथ सिंह का बयान ऐसे वक्त में आया है जब विपक्षी पार्टियां बीजेपी को 15 लाख रुपए के वादे पर घेर रही हैं. विपक्षी पार्टियां पुराने वादों को पूरा नहीं करने का आरोप लगाते हुए मोदी सरकार को जुमलों की सरकार बताती रही है.

इसे भी पढ़ेंःपूर्व नौकरशाहों ने राष्ट्रपति को लिखी चिट्ठी, निर्वाचन आयोग की निष्पक्षता पर उठाये सवाल

Related Posts

200 से ज्यादा लेखकों-सामाजिक कार्यकर्ताओं ने  पत्र जारी कर कहा,  जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल  370 हटाना असंवैधानिक

कार्यकर्ताओं ने जम्मू और कश्मीर को  दिया गया  विशेष राज्य का दर्जा खत्म करने के केंद्र के फैसले को अलोकतांत्रिक और असंवैधानिक करार दिया है.

SMILE
साथ ही कहा कि लोकसभा चुनाव 2014 में बीजेपी ऐसे ही वादे करके सत्ता में आई थी और अब 2019 में भी ऐसे ही वादे कर रही है.

गौर करने वाली बात ये भी है कि 2014 के लोकसभा चुनाव में कालेधन के खिलाफ कार्रवाई मुख्य चुनावी मुद्दों में से एक था.

हालांकि 2019 के घोषणा पत्र में बीजेपी के मेनिफेस्टो में भी समानांतर अर्थव्यवस्था के खिलाफ कार्रवाई की बात की गई है. लेकिन पार्टी के नेताओं के भाषणों में इस बात का जिक्र नहीं किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ेंः असमः गोमांस बेचने के आरोप में बुजुर्ग मुस्लिम के साथ बदसलूकी, जबरन खिलाया सूअर का मीट

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: