NEWSWING
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

हम सदन चलने के पक्ष में, सरकार हठधर्मिता छोड़े : हेमंत

387

Ranchi: सदन नहीं चलने का एक बहुत बड़ा कारण सरकार है, क्योंकि सरकार जवाब देने से बचना चाहती है. मौजूदा हालात में भी भूमि अधिग्रहण कानून को लेकर सवाल का जवाब नहीं देकर सरकार ने इसे जबरदस्ती लागू करने की जिद ठान रखी है. सरकार अपनी हठधर्मिता से हटे और एक स्वच्छ परंपरा की शुरुआत करे. यह बात नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन ने सोमवार को अपने आवास में विपक्षी दलों के विधायकों के साथ बैठक के दौरान कही. उन्होंने कहा कि विधानसभा सत्र का आज पहला दिन था. आज से सत्र शुरू हो गया है. विधानसभा अध्यक्ष की कार्य मंत्रणा के बाद मंगलवार से विधानसभा चलने की बात हुई है.

इसे भी पढ़ें- इसे भी पढ़ें-भूमि अधिग्रहण बिल पर विपक्ष ने फूंका बिगुल, हेमंत ने कहा – जनता पर थोपा जा रहा काला कानून

सदन सुचारू रूप से चलाने की जिम्मेदारी सरकार की

विपक्षी दल भी सदन को चलाने के पक्ष में है. इन सबके बीच सदन को सुचारू रूप से चलाने की जिम्मेदारी सरकार की है. विपक्ष सवाल का जवाब चाहता है और उम्मीद भरी निगाहों से देखता है. सदन से पूरे राज्य के विकास की बात होती है. सदन से राज्य की जनता तक विकास की बातें पहुंचायी जाती हैं. सड़क, बिजली से लेकर नीति सिद्धांत तक की बातें होती हैं. लेकिन, अफसोस के साथ कहना पड़ रहा है कि विगत कई सत्रों से सरकार ने राज्य के ज्वलंत विषयों पर चुप्पी साध रखी है.

इसे भी पढ़ें- सरकार बदली और करोड़ों की योजनाएं हो गयीं बर्बाद

उम्मीद है विपक्ष के सवालों का जवाब देगी सरकार

सरकार सीएनटी-एसपीटी एक्ट, नियोजन नीति, स्थानीयता, भूमि अधिग्रहण कानून जैसे विषयों पर गंभीरता से विचार नहीं करेगी, तो इसका प्रभाव राज्य पर अच्छा नहीं पड़ेगा. उन्होंने कहा कि जन आंदोलन के माध्यम से कई बार सरकार को अपने निर्णय से पीछे हटना पड़ा है. सड़क से सदन तक राज्यव्यापी आंदोलन कर विपक्ष राज्य के ज्वलंत मुद्दे पर सरकार से सवाल पूछ रहा है. लेकिन, सरकार विपक्ष के सवालों का जवाब न देते हुए प्रोपेगेंडा के माध्यम से तरह-तरह के कुचक्र रचकर विपक्ष की बातों को दबाने का प्रयास कर रही है. राज्य की जनता की भावनाओं का सम्मान होना चाहिए. नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि हम अपने सवालों के साथ सदन में जायेंगे. विपक्ष के बगैर सत्ता पक्ष सदन नहीं चला सकता है. सदन में जितनी महत्वपूर्ण भूमिका सत्ता पक्ष की है, उतनी ही विपक्ष की भी है. इसलिए, हम अपनी बातों को सदन में रखेंगे और उम्मीद करते हैं कि सरकार विपक्ष के सवालों का जवाब देगी.

palamu_12

इसे भी पढ़ें- तीन करोड़ 63 लाख रुपये बर्बाद करने जा रही राज्य सरकार

ये रहे मौजूद

नेता प्रतिपक्ष के आवास पर विधायक दल की बैठक में झारखंड विकास मोर्चा के विधायक प्रदीप यादव, कांग्रेस के आलमगीर आलम, इरफान अंसारी, बादल पत्रलेख, देवेंद्र सिंह झारखंड मुक्ति मोर्चा के कुणाल षाड़ंगी, स्टीफन मरांडी, जोबा मांझी, चंपई सोरेन मौजूद रहे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

ayurvedcottage

Comments are closed.

%d bloggers like this: