न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

वेंडर मार्केट में फुटपाथ दुकानदारों को बसाने का रास्ता साफ, स्क्रूटिनी के बाद बचे केवल 429 दुकानदार

43

Ranchi : 16 नवंबर को मुख्यमंत्री रघुवर दास ने जिस अटल स्मृति वेंडर मार्केट का उद्घाटन किया था, उसमें वेंडरों को बसाना निगम के लिए एक चुनौती बना हुआ था. कारण यह था कि मार्केट में जहां फुटपाथ दुकानदारों के लिए 472 दुकानें बनायी गयी थीं, वहीं कचहरी चौक से लेकर सर्जना चौक के ऐसे दुकानदारों की संख्या 660 तक आयी थी. अब निगम की यह चुनौती कम हो गयी है. क्योंकि, निगम द्वारा की गयी स्क्रूटिनी के बाद इन फुटपाथ दुकानदारों की संख्या 660 से घटकर अब केवल 429 हो गयी है. ऐसे में वेंडर मार्केट में इन दुकानदारों को बसाने का रास्ता साफ हो गया है. मार्केट में मांस, मछली, फल व सब्जी बेचनेवालों को दुकानें नहीं दी जायेंगी, बल्कि इन्हें नागाबाबा खटाल में बन रहे सब्जी मार्केट में शिफ्ट किया जायेगा. वहीं जो कपड़ा, कंबल, जैकेट, पर्दा, बेल्ट, बैग, जूता, चप्पल के व्यवसाय से जुड़े हुए हैं, उन्हें ही अटल वेंडर मार्केट में दुकानें दी जायेंगी.

वेंडर्स की सूची पर हुई समीक्षा

कचहरी रोड स्थित अटल स्मृति वेंडर मार्केट में वेंडर्स को जगह दिये जाने को लेकर निगम सभागार में टाउन वेंडर कमिटी की समीक्षा बैठक हुई. इस दौरान वेंडर्स की पहचान के आधार पर ही उनको जगह दिये जाने पर सहमति बनी. जानकारी के मुताबिक, जनवरी से इस मार्केट में दुकानदारों को बसाया जाने लगेगा. फुटपाथ दुकानदारों को व्यवस्थित करने के कार्य से जुड़े सिटी मिशन मैनेजर विकास कुमार ने बताया कि समीक्षा में जिन 429 फुटपाथ दुकानदारों को चिह्नित किया गया है, उनमें कई ऐसे हैं जो फल, सब्जी, मछली, अंडा व भूंजा बेचने का काम करते हैं. ऐसे व्यक्तियों को निगम वेंडर मार्केट की बजाय नागाबाबा खटाल में बन रहे वेजिटेबल मार्केट में बसाने की योजना बना रहा है. ऐसे में इन दुकानदारों की संख्या इस सूची से भी निकाल दी जाये, तो इन इलाकों में लगनेवाले फुटपाथ दुकानदारों की संख्या 429 से भी काफी कम हो जायेगी.

नो वेंडिंग जोन में दुकान लगाने पर जब्त होगा सामान

विकास कुमार के मुताबिक, जब इन फुटपाथ दुकानदारों को दुकान आवंटित की जायेगी, तो कचहरी चौक से लेकर सर्जना चौक के एरिया को रांची नगर निगम नो वेंडिंग जोन घोषित करेगा. इसके बाद अगर इस सड़क पर कहीं पर कोई भी दुकानदार सड़क किनारे दुकान लगाता है, तो निगम उसके सारे सामान को जब्त कर लेगा. निगम की यह तैयारी है कि दोबारा इस सड़क पर अब कहीं पर दुकान लगने ही नहीं दी जायेगी.

इसे भी पढ़ें- झारखंड में सबसे ठंडा हुआ पलामू, PTR में बदला गया हाथियों का आशियाना

इसे भी पढ़ें- राजधानी के 13837 भवनों की जानकारी से निगम अंजान, अब कर रहा होल्डिंग्स को निष्क्रिय करने की तैयारी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: