न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नये झारखंड हाईकोर्ट भवन और विधानसभा परिसर में जलापूर्ति जनवरी 2019 से

पेयजल और स्वच्छता विभाग उपलब्ध करायेगा पानी. हटिया डैम से होगी जलापूर्ति.

140

Ranchi : झारखंड हाईकोर्ट के नये परिसर और निर्माणाधीन विधानसभा भवन में जनवरी 2019 से जलापूर्ति व्यवस्था शुरू हो जायेगी. पेयजल और स्वच्छता विभाग की तरफ से इन दोनों सरकारी महकमे में पानी उपलब्ध करायी जायेगी. विभाग की तरफ से अवर प्रमंडल हटिया को यह जवाबदेही सौंपी गयी है. इसके लिए आवश्यक आधारभूत संरचना समेत पाइपलाइन बिछाने का काम भी चल रहा है. नये विधानसभा परिसर तक पाइपलाइन बिछाने के लिए 7.74 करोड़ रुपये भी खर्च किये जा रहे हैं. इसके लिए निविदा को भी अंतिम रूप दे दिया गया है. वहीं झारखंड हाईकोर्ट परिसर को लेकर भी पाइपलाइन बिछाने और संप बनाने का काम पूरा कर लिया गया है.

इसे भी पढ़ें : जमशेदपुर एफसी के खिलाड़ी की उम्र में विसंगति के मामले की जांच करेगा एआईएफएफ

हटिया डैम से शहर के आधे हिस्से में होती है जलापूर्ति

hosp3

राजधानी के हटिया डैम से शहर के आधे हिस्से में जलापूर्ति की जाती है. 19 वार्ड के 40 से अधिक मुहल्लों समेत प्रोजेक्ट भवन, विधानसभा परिसर, सभी सरकारी भवन, रांची एयरपोर्ट, हटिया रेलवे स्टेशन, रेलवे कालोनी, तुपुदाना औद्योगिक परिसर, एचइसी के सभी आवासीय परिसर, एचइसी की सभी फैक्टरियां, सीआरपीएफ कैंप जगन्नाथपुर, हिनू, बिरसाचौक, हवाईनगर, न्यू एरिया गांधीनगर, पीएचइडी कालोनी, न्यू पीएचइडी कालोनी समेत अन्य हिस्से शामिल हैं. इन सभी जगहों पर प्रति दिन 10 लाख मिलियन गैलन पानी (एमजीडी) की आपूर्ति विभाग की तरफ से की जाती है. इतना ही नहीं दो एमजीडी रॉ पानी एचइसी के विभिन्न प्लांटों के लिए की जाती है.

इसे भी पढ़ें : क्या लालपुर इलाके में रहने वाले लोग सबसे अधिक सहिष्णु व धैर्यवान हैं ?

डैम में अभी है 31फीट पानी

हटिया डैम में फिलहाल 31 फीट पानी है. हालांकि यह जल स्तर पिछले वर्ष की तुलना में छह से सात फीट कम है. विभागीय अधिकारी इस बात को लेकर संशय में हैं कि कैसे आनेवाले  दिनों में हटिया डैम से पानी की जरूरतें कैसे पूरी की जायेंगी. डैम के कैचमेंट हिस्से में अतिक्रमण होने की वजह से पानी का समुचित भंडारण भी नहीं हो पा रहा है. रिंग रोड के निर्माण से भी पानी का भंडारण कम हुआ है. डैम का निर्माण 60 के दशक में एचइसी की फैक्टरियों और आवासीय परिसर की जरूरत के लिए बनाया गया था.

इसे भी पढ़ें : अपराध से खौफ में रांची पुलिस, डीजीपी ने पुलिसकर्मियों को मुख्यालय ड्यूटी के बाद एंटी क्राइम चेकिंग…

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: