न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रिम्‍स में वाटर फिल्‍टर देता है करंट का झटका, मरीज व परिजन परेशान

25

Ranchi: शुद्ध पानी पीने के उद्देश्य ये लगाये गये वाटर फिल्टर के पास भी कोई व्यक्ति जाना नहीं चाहता. दरअसल इन फिल्टरों से पानी तो निकलता नहीं है, लेकिन ये मशीन बिजली का झटका जरुर देते हैं. मरीज के परिजन बताते हैं कि कई बार फिल्टर का नल छूते ही करंट लगता है. रिम्स के सुरक्षाकर्मी ने भी बताया कि वाटर फिल्टर से करंट की शिकायत बार-बार मिल रही थी. जिसकी वजह से मशीन का बिजली का कनेक्‍शन निकाल दिया गया है. सुरक्षाकर्मियों ने बगल में एक पोस्टर चिपका रखा है. जिसमें लिखा है मशीन खराब है, प्‍लग न लगायें. इसकी आवश्यकता इसलिए पड़ी क्योंकि लोग पानी निकलने की उम्मीद में खुद से प्‍लग लगा देते थे जिसके बदले उन्हें करंट का झटका लगता था.

जानकारी नहीं थी, जल्द ही ठीक करा लिया जायेगा: सुप्रीटेंडेंट

रिम्‍स सुप्रीटेंडेंट डॉ विवेक कश्‍यप ने कहा कि मरीजों की परेशानी को देखते हुए ही वाटर फिल्टर लगाया गया था. खराब होने की जानकारी मुझे नहीं मिली है. सभी तो खराब नहीं होंगे, जो भी मशीन खराब होगा उसे दिखवा कर मरम्मत करा दिया जायेगा.

मरीजों की इस समस्या को ‘न्यूज विंग’ ने पहले भी उठाया गया था. जिसके बाद हरकत में आते हुए रिम्स प्रबंधन ने इनडोर में चार वाटर फिल्टर लगाये थे. लेकिन, रखरखाव के अभाव में ये वाटर फिल्टर भी बीते दस दिनों से खराब पड़े हैं. चार में सिर्फ एक वाटर फिल्टर ठीक है. बाकी सभी की मरम्‍मती की जरूरत है. वहीं मरीजों को वाटर फिल्टर के कनेक्शन से भी परिजन पानी ले रहे हैं. यह भी पीने लायक शुद्ध पनी नहीं रहता, फिर भी लोग इस पानी को पीने में इस्‍तेमाल करने के लिए मजबूर हैं. वे आवश्यकता पड़ने पर बार-बार घर नहीं जा सकते और रिम्स में ईलाज कराने आने वाले ज्यादातर मरीज आर्थिक रुप से कमजोर होते हैं. ऐसे में बार-बार पानी खरीद कर पीना भी इनके लिए संभव नहीं है.

रिम्‍स में बिकता है पानी

रिम्‍स के इमरजेंसी में लगाये गये वाटर फिल्‍टर से 24 घंटे पानी उपलब्‍ध है. यहां से मरीज कभी भी पानी ले सकते हैं. खास बात यह है कि यहां पानी बिकता है. आप यहां से 5 रुपये का सिक्‍का डालकर एक लीटर पानी निकाल सकते हैं.

इसे भी पढ़े: देखें वीडियो : पत्रकार कहता रहा कि मैं प्रेस से हूं, एसडीएम ने छीनी डायरी और पुलिस ने पकड़ा कॉलर, भरी भीड़ में उठा कर ले गए

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: