RanchiTOP SLIDER

देखें वीडियो- रांची में बीएमडब्ल्यू की लग्जरियस कार से कौन और क्यों ढो रहा है कचरा !

Pankaj Saw

Ranchi : सड़कों पर फर्राटा भरती बीएमडब्ल्यू की लग्जरियस गाड़ियों के क्या कहने! पर क्या आपने कभी इन गाड़ियों से कचरे की ढुलाई देखी है. राजधानी रांची में इन दिनों ऐसा ही नजारा देखने को मिल रहा है. हिनू इलाके निवासी प्रिंस श्रीवास्तव इन दिनों अपनी बीएमडब्ल्यू गाड़ी से कचरा ढोते हुए दिख रहे हैं. अब भला इतनी महंगी कार से कोई कचरा क्यों ढो रहा है? यह सवाल पूछने पर प्रिंस श्रीवास्तव ने जो बातें बतायीं वो बेहद चौंकानेवाली थीं.

देखें वीडियो

बीएमडब्ल्यू कंपनी की गाड़ी, यहां से शोरूम संचालक और सर्विस सेंटर से उन्हें बहुत शिकायतें हैं. इन शिकायतों पर ध्यान न दिये जाने की वजह से उन्होंने उस गाड़ी से कचरा ढोने का फैसला किया. जब उनकी इस बात की जानकारी राजधानी रांची और झारखंड अन्य बीएमडब्ल्यू कार मालिकों को हुई तो उन्होंने भी उनका साथ देने की ठानी है. जल्द ही 18 अन्य कार मालिक उनके साथ राजधानी रांची की सड़कों पर बीएमडब्ल्यू गाड़ी से कचरा ढोते हुए दिख सकते हैं.

क्रिकेटर इशान किशन और अजातशत्रु को भी हैं शिकायतें

रणजी क्रिकेटर अजातशत्रु जी की भी ऐसी ही शिकायत है. उन्होंने बताया कि लगभग एक साल पहले बीएमडब्ल्यू की कार खरीदने के बाद से ही वो परेशानी झेल रहे हैं. कार की सर्विसिंग और रिपेयरिंग से जुड़े कई इश्यूज हैं. बार-बार शिकायत के बाद भी रांची में स्थित सर्विसिंग सेंटर और शो-रूम प्रबंधन की ओर से संतोषजनक कार्रवाई नहीं हो पाती.
अजातशत्रु और प्रिंस श्रीवास्तव की मानें तो स्टार क्रिकेटर ईशान किशन भी बीएमडब्ल्यू की सर्विस को लेकर परेशान हैं. कई महीनों तक उनकी गाड़ी खड़ी रही, लेकिन गड़बड़ी दूर नहीं हुई.

क्या हैं शिकायतें

प्रिंस श्रीवास्तव बताते हैं कि जब से उन्होंने बीएमडब्ल्यू गाड़ी खरीदी है, सिवाय परेशानी के उन्हें कुछ भी हासिल नहीं हो पाया है. कभी उनकी गाड़ी के टायर फट जाते हैं, कभी और कोई समस्या.

इसे भी पढ़ें – स्टूडेंटस हो जायें तैयार,जल्द जारी होगी 10वीं और 12वीं की सीबीएसई बोर्ड परीक्षाओं के लिए डेटशीट

क्या है आगे की योजना

प्रिंस श्रीवास्तव ने कहा कि यदि कंपनी ने उनकी समस्याओं पर संज्ञान नहीं लिया, तो रांची के और 18 बीएमडब्ल्यू मालिक एक साथ शोरूम के बाहर प्रदर्शन करेंगे. दिल्ली से ढोल-नगाड़े वालों को बुलाया गया है. ढोल-नगाड़ों से साथ वहां एक साथ इन गाड़ियों से कचरा उठाया जायेगा. जरूरत पड़ी तो इसके बाद हम लोग कंपनी के खिलाफ कोर्ट जायेंगे.

इसे भी पढ़ें – कोविड 19 : सुप्रीम कोर्ट चिंतित, राज्यों से रिपोर्ट मांगी, कहा, राज्य तैयारी करें, नहीं तो दिसंबर में हालात होंगे खराब… 

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: