Business

कनाडा के वॉरेन बफेट प्रेम वत्स ने कहा, भारत में पांच साल में पांच अरब डॉलर निवेश करेंगे

NewDelhi : कनाडा के वॉरेन बफेट कहे जाने वाले अरबपति निवेशक प्रेम वत्स भारत में अगले पांच साल में पांच  अरब डॉलर का निवेश करेंगे. प्रेम वत्स ने भारत में आर्थिक सुस्ती की आशंकाएं खारिज करते हुए कहा कि यहां शानदार मौके हैं.  जान लें कि हैदराबाद में जन्मे  वत्स को कनाडा का वॉरेन बफेट कहा जाता है.

Jharkhand Rai

कनाडा के टोरंटो में  70 अरब डॉलर की फेयरफैक्स फाइनैंशल होल्डिंग्स का मुख्यालय है. इसके चेयरमैन प्रेम वत्स ने गुरुवार को इकनॉमिक टाइम्स को दिये  इंटरव्यू में कहा, मेरे हिसाब से भारत दुनिया का नंबर वन देश है.

फेयरफैक्स की कंपनियों में भारत में साढ़े तीन लाख लोग काम करते हैं. इन  कंपनियों ने ट्रैवल, ट्रांसपोर्टेशन, वेयरहाउसिंग, बैंकिंग और फाइनैंशल सर्विसेज सेक्टर में निवेश किया है.  उसके पास बेंगलुरु इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (बायल), थॉमस कुक इंडिया, कैथलिक सीरियन बैंक (सीएसबी), क्वेस कॉर्प, नैशनल कोलैटरल मैनेजमेंट सर्विसेज, सौराष्ट्र फ्रेट ऐंड प्रिवी ऑर्गेनिक्स की नियंत्रण वाली हिस्सेदारी है.  निर्मल जैन के इंडिया इन्फोलाइन ग्रुप में वह सबसे बड़ी शेयरहोल्डर है.  फेयरफैक्स के पास चेन्नई की सनमार केमिकल्स ग्रुप में भी 43 प्रतिशत स्टेक है.

इसे भी पढ़ेंःमंदी की मारः ऑटो सेक्टर में तेज गिरावट का सिलसिला जारी, मारुति की बिक्री 33 प्रतिशत घटी

Samford

आर्थिक सुस्ती की आशंकाओं को खारिज किया  वत्स ने

प्रेम वत्स ने  कहा, दुनिया की जीडीपी में भारत का योगदान तीन प्रतिशत है, लेकिन कुल वैश्विक निवेश में इसकी हिस्सेदारी एक प्रतिशत ही है, कहा कि अगर इसे बढ़ाकर दो प्रतिशत भी कर दिया जाये तो भारत में तीन लाख करोड़ डॉलर का निवेश बढ़ेगा, वत्स ने कहा कि फेयरफैक्स भारत सरकार के विनिवेश कार्यक्रम से जुड़ना चाहेगी.  प्रेम वत्स  के अनुसार उनकी कंपनी पिछले पांच साल में भारत में पांच अरब डॉलर का निवेश कर चुकी है और अगले पांच साल में इतनी ही रकम वह लगाने जा रही है.

आर्थिक सुस्ती की आशंकाओं को खारिज करते हुए वत्स ने देश के सुंदर भविष्य की उम्मीद जताई, उन्होंने कहा कि देश की 1.2 अरब आबादी इसकी आर्थिक समृद्धि और विकास का जरिया है, उन्होंने कहा, मैं दुनिया में कई जगह गया हूं. भारत में कमाल के मौके हैं.  कहा कि आज चीन और अमेरिका के बीच व्यापार को लेकर कुछ मतभेद चल रहे हैं.  ऐसे में लोग भारत में पैसा नहीं लगायेंगे तो कहां लगायेंगे? वे किसी बड़े बाजार में निवेश करना चाहते हैं, जहां लोकतंत्र हो.  जहां कानून का राज हो.

उन्होंने कहा कि सरकारी नीतियों में मामूली बदलाव होने और इकॉनमी को खोल जाने पर दुनिया के निवेशक भारत आ सकते हैं.  वत्स ने कहा, मुझे लग रहा है कि देश की ग्रोथ फिर 10 प्रतिशत तक पहुंचेगी.  मैं नहीं कह सकता कि ऐसा कब होगा, लेकिन मुझे ऐसा होने का पूरा भरोसा है.

वत्स ने प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ की

खबरों के अनुसार  प्रेम वत्स  प्रधानमंत्री मोदी से मिलने भारत आये  थे. आईआईटी मद्रास के एक कार्यक्रम में वत्स ने कहा कि सरकार ने कहा है कि वह तेल-गैस क्षेत्र में निवेश बढ़ाना चाहती है. वत्स ने कहा  कि कनाडा इस क्षेत्र में बड़ा निवेशक है.  हम इस पर गौर करेंगे.  तेल-गैस क्षेत्र में तजुर्बा रखने वाली कनाडा की किसी कंपनी को हम यहां पार्टनर बना सकते हैं.  वत्स  यहां कनाडा और अमेरिका की अच्छी कंपनियों को लाना चाहते हैं,

इस क्रम में वत्स ने कहा कि उनकी कंपनी एयर इंडिया की विनिवेश योजना पर गौर करेगी, लेकिन उन्होंने यह भी कहा कि उनकी कंपनी के पास इस क्षेत्र का तजुर्बा नहीं है. वत्स ने प्रधानमंत्री मोदी की जमकर तारीफ करते हुए कहा, भारत खुशकिस्मत है कि उसे मोदीजी जैसे बिजनस-फ्रेंडली नेता मिला हैय  उनका पूरा ध्यान देश के लिए अच्छा करने पर है.  वत्स ने कहा कि मोदी का गुजरात में 13 साल का शानदार रेकॉर्ड रहा है.   प्रधानमंत्री के रूप में उन्होंने अपने पहले कार्यकाल में भी  अच्छा काम किया है. वत्स ने कहा कि इस तरह का तजुर्बा ग्लोबल लीडर में कम ही होता है.

इसे भी पढ़ेंःजीएसटी संग्रह में गिरावट, जुलाई के 1.02 लाख करोड़ के मुकाबले अगस्त में  98,202 करोड़ रुपये  रहा

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: