GiridihJharkhand

फर्जीवाड़ा : जिस जमीन पर दौड़ रही गिरिडीह-कोडरमा के बीच ट्रेन, वार्ड पार्षद ने उसकी रजिस्ट्री करा ली

विज्ञापन

Manoj Kumar Pintu

Giridih : गिरिडीह-कोडरमा लाइन पर ट्रेन तो दौड़ रही है, लेकिन पटरी का कुछ हिस्सा जिस जमीन से गुजरता है, दस्तावेजों में उसकी मालकिन भाजपा नगर अध्यक्ष सदानंद वर्मा की पत्नी सह पचंबा की वार्ड पार्षद रानी देवी हैं.

गिरिडीह निबंधन कार्यालय के मौजूद दस्तावेजों से सामने सामने आये इस फर्जीवाड़े की जांच का आदेश डीसी राजेश पाठक ने दे दिया है. हालांकि सूत्र बताते हैं कि उन्होंने मौखिक आदेश ही दिया है. जिन पदाधिकारियों को जांच करनी है उनके हाथ में लिखित आदेश नहीं गया है.

advt

जब इस फर्जीवाड़े का खुलासा हुआ तो ईस्ट रेल जोन के साथ गिरिडीह प्रशासन के होश उड़ गये.

सदर अचंल के सीओ रवीन्द्र सिन्हा का का कहना है कि बड़े पैमाने पर पर गड़बड़ी हुई है. सवार उठ रहा है कि जिस प्लाॅट का रेलवे ने अधिग्रहण किया उसको किसी रैय्यतदार ने किन दस्तावेजों के आधार पर बेच दिया.

सिन्हा ने कहा कि सोमवार से इस फर्जीवाड़े की जांच की जायेगी.

इसे भी पढ़ें : लातेहार : TPC का कैंप ध्वस्त, एक उग्रवादी गिरफ्तार, तीन राइफल समेत भारी मात्रा में गोला-बारूद बरामद

adv

कुछ साल पहले हुआ था अधिग्रहण 

जिस प्लाॅट के फर्जीवाड़े की बात हो रही है, उसका अधिग्रहण रेलवे ने कुछ साल पहले किया था. सदर अचंल के सीओ की मानें तो पचंबा के अदुंडीह मौजा के खाता नंबर 187/ प्लाॅट नंबर 85 में कुल प्लाॅट डेढ़ एकड़ के होने की बात कही जा रही है. जबकि वार्ड पार्षद रानी देवी के नाम से रघुवर सरकार की योजना के अनुरुप महज एक रुपये में एक एकड़ छह डिस्मिल जमीन की रजिस्ट्री कर दिया गयी.

सूत्रों के अनुसार अदुंडीह मौजा के खाता नंबर 187 और प्लाॅट नंबर 85 में जिन प्लाॅटो की रजिस्ट्री की गयी, उसमें प्लाॅट नंबर 63, 49, 82, 85 और 133 शामिल हैं.

इस प्लाॅट की जमाबंदी शिवलाल सहाय के नाम पर काफी साल से दर्ज है. हैरानी की बात यह भी है कि सालों पहले दर्ज जमाबंदी के बाद नया कोई जमाबंदी और लगान रसीद तक नहीं काटा गया, इसके बावजूद शिवलाल सहाय के खतियान का फायदा उठाकर शिवलाल के पोते भवानी शंकर प्रसाद ने करीब 10 दिन पहले रानी देवी के नाम पर रजिस्ट्री कर दी.

इसे भी पढ़ें : देवबंद से आते हैं भाजपा की हार के लिए वजीफे पढ़ने के फतवे, तो मुसलमानों को कहां से  टिकट मिलेगा :  खान

निबंधन कार्यालय की लापरवाही या कोई बड़ा खेल?

हैरान करने वाली बात यह भी है कि भवानी शंकर प्रसाद ने जिस प्लाॅट को रानी देवी के नाम रजिस्ट्री किया है, उस प्लाॅट को कई साल पहले ही गिरिडीह-कोडरमा रेल परियोजना के लिए अधिग्रहण कर लिया गया था.

हालांकि यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि प्लाॅट के रैय्यतदार को जमीन अधिग्रहण को लेकर रेलवे की ओर से कितना मुआवजा दिया गया था.

ऐसे में सवाल उठ रहा है कि आखिर निबंधन कार्यालय ने देखे-समझें बगैर किन दस्तावेजों के आधार पर जमीन की रजिस्ट्री कर दी.

इधर भाजपा के नगर अध्यक्ष सदानंद वर्मा ने कहा है कि वे अब  डीड के साथ ही अपनी बात रखने आयेंगे.

इसे भी पढ़ें : पलामू: बैठने के लिए कुर्सी नहीं मिली तो भड़के पंचायत प्रतिनिधि, स्वास्थ्य मंत्री के कार्यक्रम का किया बहिष्कार

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button