NEWSWING
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जेएमएम ने कहा-मसानजोर डैम हमारा मुद्दा, बीजेपी को नहीं है विस्थापितों की परवाह

बीजेपी का जवाब- हेमंत को झारखंड से ज्यादा महागठबंधन की चिंता

209

Dumka: मसानजोर डैम बंगाल का या फिर झारखंड का? डैम की जमीन किसकी, उसके पानी पर किसका अधिकार होना चाहिए. इस तरह के तमाम सवाल संताल के चौक-चौराहों पर चर्चा का विषय बने हुए हैं. इस सवाल पर राजनीति भी खूब हो रही है. चंद दिनों पहले मंत्री लुईस मरांडी ने कहा था कि मसानजोर डैम पर झारखंड का हक है और उसपर नजर डालने वालों की आंखें निकाल ली जाएंगी.

इसे भी पढ़ें-मसानजोर डैम पर झारखंड-बंगाल में बढ़ता तनाव, मंत्री लुइस के बाद भाजयुमो अध्यक्ष की ममता सरकार को दो टूक

अब हेमंत सोरेन ने ट्विट कर कहा है कि

बीजेपी को मसानजोर के विस्थापितों से मतलब नहीं, वे सिर्फ वोटबैंक की राजनीति कर रही है. जेएमएम लगातार मसानजोर डैम के विस्थापितों का मुद्दा उठाता रहा है.

इसके साथ ही हेमंत सोरेन ने अपने ट्विट में उन चिट्ठियों को भी अटैच किया है जो समय-समय पर जेएमएम नेताओं ने मसानजोर डैम को लेकर लिखे थे.

25 अगस्त 2015 को जेएमएम के नलिन सोरेन ने उठाया था मसानजोर विस्थापितों का मुद्दा
25 अगस्त 2015 को जेएमएम के नलिन सोरेन ने उठाया था मसानजोर विस्थापितों का मुद्दा

इसे भी पढ़ें-मसानजोर डैम की तरफ आंख उठाकर देखने वाले की आंखें निकाल ली जायेगीः लुईस मरांडी

भावनाओं को भड़काकर हिंसा फैलाना बीजेपी का मकसद- जेएमएम

झारखंड मुक्ति मोर्चा ने कहा कि मसानजोर डैम के मसले पर बीजेपी भावनाओं को भड़काकर वोटबैंक पॉलिटिक्स कर रही है. उन्होने कहा कि बीजेपी झारखंडियों और बंगालियों के बीच हिंसा फैलाना चाहती है. जेएमएम का आरोप है कि पार्टी ने विस्थापितों का मुद्दा उठाया लेकिन उसने कभी गलत भाषा का प्रयोग नहीं किया.

मसानजोर डैम को लेकर 11 मार्च 2016 को हेमंत सोरेन द्वारा लिखी गई चिट्ठी
मसानजोर डैम को लेकर 11 मार्च 2016 को हेमंत सोरेन द्वारा लिखी गई चिट्ठी

इसे भी पढ़ें-सरकार के दबाव में न झुकें मीडिया मालिक, एडिटर्स गिल्ड ने की अपील

हेमंत को झारखंड से ज्यादा महागठबंधन की चिंता- बीजेपी

मसानजोर डैम को जेएमएम का पुराना मुद्दा बताये जाने को लेकर बीजेपी ने तंज कसा है. बीजेपी ने कहा है कि अगर हेमंत ये मानते हैं कि मसानजोर डैम पर झारखंड के लोगों का हक होना चाहिए तो वे इसके लिए आवाज उठाएं. दुमका बीजेपी के जिलाध्यक्ष ने कहा कि हेमंत सोरेन इसलिए खामोश हैं क्योंकि उन्हे ममता बनर्जी के साथ बन रहे महागठबंधन की चिंता ज्यादा है और झारखंड के लोगों के हक की कम. उन्होने कहा कि हेमंत बताएं कि उन्होने चिट्ठियां लिखने के अलावा विस्थापितों के लिए क्या किया. अब जब बीजेपी झारखंड के लोगों को न्याय दिलाने के लिए लड़ रही है तो जनता के आक्रोश से बचने के लिए वे पुराने खत दिखा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें-झारखंड कैडर के 87 आईएफएस हो गये हैं पीछे, आईएएस व आईपीएस तीन साल निकले आगे

मसानजोर पर यथास्थिति बनाए रखने पर सहमति

राजनीतिक बयानबाजी के बीच बुधवार को वीरभूम और दुमका के प्रशासनिक अधिकारियों के बीच बैठक हुई. लगभग तीन घंटे तक चली इस बैठक के बाद ये तय हुआ कि मसानजोर पर फिलहाल यथास्थिति बरकरार रखी जाएगी. ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि वीरभूम के डीएम किसी कारणवश बैठक में नहीं आ सके. उनकी जगह वीरभूम के एडीएम और कार्यपालक अभियंता बैठक में शामिल हुए.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

nilaai_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.