न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

तीन साल में एक रुपया एक पैसा ही बढ़ी मनरेगा मजदूरी, क्या ये बनेगा लोकसभा में चुनावी मुद्दा?

232

Kumar Gaurav

Ranchi : राज्य और केंद्र की सरकार गरीबी दूर करने और बेरोजगारी दूर करने के कई दावे कर रही है, शायद सच भी हो. सरकार गरीबों और किसानों की आय को दोगुणी करने को लेकर कमर भी कस चुकी है. लेकिन राज्य के 24 लाख मनरेगा मजदूरों के लिए सरकार क्या कर रही है? सरकार मनरेगा मजदूरों की आय को बढ़ाने की दिशा में क्या कर रही है, इस बात का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि झारखंड के मनरेगा मजदूरों की मजदूरी पिछले तीन सालों में 1 रुपया 1 पैसा ही बढ़ा है. झारखंड में मनरेगा मजदूरों की स्थिति देश भर के अन्य राज्यों से सबसे ज्‍यादा बदतर है. राज्य में करीब 81 लाख मनरेगा मजदूर हैं, जिसमें से अभी मात्र 24 लाख ही एक्टीव मजदूर हैं. देश भर में सबसे कम मजदूरी झारखंड के मजदूरों को ही मिलता है.

इसे भी पढ़ें : 8 बार सांसद रहे शिबू सोरेन के लोकसभा क्षेत्र दुमका में है कुपोषण की समस्या

औसतन 10 रुपये भत्ता बढ़ता है प्रतिवर्ष, झारखंड में एक रुपया

देश भर के मनरेगा के आंकड़ों के मुताबिक सालाना दस रुपया दैनिक भत्ता बढ़ता है. लेकिन झारखंड में पिछले साल के आंकड़े को देखें तो सिर्फ एक पैसा बढ़ा था, 2016-2017 के आंकड़ों के हिसाब से भी एक रुपया भत्ता बढ़ा था. बिहार के मनरेगा मजदूरों की स्थिति भी झारखंड के जैसी ही है, पिछले चार सालों में बिहार में मनरेगा मजदूरों की दैनिक भत्ते में सिर्फ 16 पैसे की बढ़ोतरी हुई है. एक्सपर्ट बताते हैं कि दैनिक भत्ते के कम होने की वजह से मजदूर मनरेगा योजना के तहत काम नहीं करना चाहते हैं.

इसे भी पढ़ें : नॉर्थ कर्णपुरा के 1980 मेगावाट सुपर थर्मल पावर प्लांट से अगस्त 2020 से शुरू हो जायेगा उत्पादन

राज्य की न्यूनतम मजदूरी 239 रुपये, मनरेगा से मिलता है मात्र 167 रुपया

राज्य के मजदूरों के लिए न्यूनतम मजदूरी दर 239 रुपये है. वहीं राज्य के मनरेगा मजदूरों को 167 रुपये दिये जाते हैं. जो राज्य के मजदूरी से करीब 72 रुपये कम मिलते हैं. इस मामले को लेकर मनरेगा मजदूर कई बार आंदोलन भी कर चुके हैं, लेकिन कोई निष्कर्ष नहीं निकला. देश भर के एवरेज आय के मुकाबले राज्य के मनरेगा मजदूरों को दस रुपये कम मिलते हैं.

इसे भी पढ़ें :  ड्यूटी के दौरान गंभीर रूप से घायल हुए सिपाही अनिल पाठक को सरकार की ओर से नहीं मिल रही मदद

सरकार श्रमिकों बंधुआ मजदूरी करा रही है : जेम्स हेरेंज

मनरेगा वाच झारखंड के जेम्स हेरेंज ने कहा कि मजदूरी दर कानून की धारा 6 (1) के कहता है कि न्यूनतम मजदूरी अधिनियम, 1948 में किसी बात के होते हुए भी, केंद्रीय सरकार इस अधिनियम के प्रयोजनों के लिए अधिसूचना द्वारा मजदूरी दर विनिर्दिष्ट करेगी. राज्य के मनरेगा श्रमिकों के लिए यह दूसरा साल है, जिसमें 168 रुपये मनरेगा मजदूरी का प्रावधान है. जबकि राज्य की न्यूनतम मजदूरी दर 239 रुपये है. इस हिसाब से मनरेगा श्रमिकों को 71 रुपये प्रतिदिन कम भुगतान किया जा रहा है. यह सरकार एक प्रकार से श्रमिकों के साथ बंधुआ मजदूरी करा रही है.

Related Posts

लोहरदगा : PLFI नक्सलियों ने सीमेंट दुकान में की फायरिंग, मांगी 40 लाख की रंगदारी

लंबे समय के बाद किसी नक्सली संगठन ने लोहरदगा शहरी क्षेत्र में इस प्रकार से गोलीबारी करते हुए खौफ कायम करने की कोशिश की है.

SMILE

इसे भी पढ़ें : रांची में चोरी की घटना को अंजाम देने वाले गिरोह का खुलासा, 9 गिरफ्तार

क्या कहते हैं मनरेगा मजदूर

लातेहार की मनरेगा मजदूर शांति देवी ने कहा कि मनरेगा कानून बहुत संघर्ष के बाद मिला. आज हम लोगों ने 13 साल पूरे किये हैं. लेकिन सरकार मजदूरों के साथ अन्याय कर रही है. आज 13 वर्षों के बाद भी मात्र 168 रुपये मजदूरी ही मिल पा रही है. उन्होंने कहा कि मनरेगा में कम से कम 300 रुपये मजदूरी और 15 दिन के अंदर भुगतान होना चाहिए. क्योंकि मनरेगा ही ऐसा कानून है, जो गांव व मजदूरों को खुशहाल बना सकता है. उन्होंने कहा कि सरकारी तंत्र में फैले भ्रष्टाचार के कारण मनरेगा में लूट मची है.

इसे भी पढ़ें : 31 मार्च तक क्रय केंद्र आनेवाले किसानों के धान की हो खरीदारी : सरयू राय

साल                   झारखंड         बिहार             पंजाब                केरल

2018 19       167.99        176.96          234.08           274.22

2017 18      167.98        176.9             226.92          207.91

2016 17       166.98       176.85           214.01          243.09

इसे भी पढ़ें : सोनगर-गढ़वा रोड रेलखंड पर बनेगा थर्ड लाईन, हुआ भूमि पूजन

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: