न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बांग्लादेशी घुसपैठिये राजनीतिक पार्टियों के लिए वोट बैंक का मुद्दा: डॉ रमेश कुमार पांडे

बांग्लादेशी घुसपैठ: राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए गंभीर खतरा एवं समाधान विषयक संगोष्ठी का आयोजन

167

Ranchi: अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् की ओर से बांग्लादेशी घुसपैठ : राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए गंभीर खतरा एवं समाधान विषय पर संगोष्ठी का आयोजन किया गया. आयोजन केंद्रीय पुस्तकालय के शहीद स्मृति भवन में किया गया. कायर्क्रम में मुख्य अतिथि कुलपति डॉ रमेश कुमार पांडे ने कहा कि समाज को जागरूक करने के लिए विशेष जन आंदोलन की आवश्यकता है. यह एक गंभीर विषय है, जो 70-80 के दशक में प्रारंभ हुआ. बांग्लादेश से सटी देश के सीमा के साथ देखते ही देखते यह समस्या देश के अन्य भागों में भी फैल गयी. श्री पांडे ने कहा कि ये घुसपैठिये देश के विभिन्न भागों में रह कर देश विरोधी कार्यों में संलग्न है. कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा पर किसी तरह का समझौता नहीं होना चाहिए. इसमें सरकार के साथ समाज के लोगों को भी आगे आना चाहिए. ऐसे मुद्दों का प्रयोग राजनीतिक पार्टियां वोट पाने के लिए करती है, जिनका कतई देश की किसी भी समस्या या समाधान से सरोकार नहीं.

इसे भी पढ़ें: राय यूनिवर्सिटी को नहीं मिल रहे छात्र, नैक टीम की चेतावनी के बाद भी नहीं सुधरे हालात

बांग्लादेशी घुसपैठियों ने हर तरफ अपना कब्जा कर रखा है

राजमहल विधायक अनंत ओझा ने कहा कि बांग्लादेशी घुसपैठियों ने हर तरफ अपना कब्जा कर रखा है. मुख्य रूप से हजारीबाग, चतरा, पाकुड., साहेबगंज आदि स्थानों पर है. उन्होंने बताया कि ये भोली भाली आदिवासी समाज की युवतियों को अपने जाल में फंसा कर विवाह करते हैं और जल, जंगल, जमीन को हड़पने का काम कर रहे है. श्री ओझा ने कहा कि ऐसे लोगों के कारण ही बेरोजगारी की समस्या उत्पन्न हो रही है और इसका खामियाजा राज्य के युवा झेल रहे है. कहा कि लोगों में इसके लिए जागरूकता होनी चाहिए. ऐसे मुद्दों पर लोगों को आगे आना चाहिए. तभी समस्या का समाधान होगा. मौके पर हरि बेरिकर, डॉ पंपा सेन विश्वास, कृष्णा मिश्र, संतोषी गुप्ता, याज्ञवल्क्य शुक्ला, डॉ दीपनारायण जायसवाल, आनंद ठाकुर, डॉ दिनेश समेत अन्य लोग उपस्थित थे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: