न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मध्य प्रदेश-मिजोरम में कड़ी सुरक्षा के बीच मतदान जारी, वोटिंग से पहले शिवराज सिंह ने की नर्मदा की पूजा

मध्य प्रदेश की 230 और मिजोरम की 40 सीटों के लिए वोटिंग, 11 दिसंबर को आएंगे नतीजे

18

Bhopal: मध्य प्रदेश विधानसभा की 230 सीटों के लिये बुधवार को वोटिंग हो रही है. जहां 227 विधानसभा क्षेत्रों में सुबह 8 बजे से शाम 5 बजे तक जबकि बालाघाट जिले के 3 नक्सल प्रभावित विधानसभा क्षेत्रों परसवाड़ा, बैहर एवं लांजी में सुबह 7 बजे से दोपहर 3 बजे तक मतदान होगा. इधर मिजोरम की 40 सीटों के लिए भी वोटिंग जारी है. मिजोरम में मुख्य मुकाबला कांग्रेस और मिजो नेशनल फ्रंट के बीच है, हालांकि बीजेपी भी यहां अपनी उपस्थिति दर्ज कराना चाह रही है. इस बार के चुनाव में मुख्यमंत्री लाल थानहावला हैट्रिक लगाना चाह रहे हैं.

सत्ता बचाने की जुगत में बीजेपी

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में भाजपा लगातार चौथी दफा प्रदेश की सत्ता में आने के लिये जीतोड़ कोशिश कर रही है. वहीं विपक्षी दल कांग्रेस पिछले 15 साल से सत्तारुढ़ भाजपा को सत्ता से बेदखल करने का प्रयास कर रही है. भाजपा ने अबकी बार 200 पार का लक्ष्य तय किया है. वोटिंग से पहले सीएम शिवराज ने नर्मदा नदी की पूजा की. वही कांग्रेस के कमलनाथ हनुमान जी के मंदिर पहुंचे. पीएम मोदी और राहुल गांधी दोनों ने ही जनता से भरपूर वोट करने की अपील की है.

सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

राज्य के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी वी एल कांता राव ने बताया कि एमपी चुनाव में कुल 5,04,95,251 मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर रहे हैं. इनमें से 65,000 सर्विस मतदाता डाक मतपत्र से पहले ही मतदान कर चुके हैं. बाकी 5,04,33,079 मतदाता आज अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे. उन्होंने बताया कि इस चुनाव के लिए 1,094 निर्दलीय उम्मीदवार सहित कुल 2,899 उम्मीदवार मैदान में हैं, जिनमें से 2,644 पुरूष, 250 महिलाएं एवं पांच ट्रांसजेंडर शामिल हैं.

राज्य में 65,367 मतदान केंद्र स्थापित किए गए हैं. इनमें से 17,000 मतदान केन्द्र संवेदनशील घोषित किये गये हैं, जहां केन्द्रीय पुलिस बल और वेबकास्टिंग के साथ माइक्रो पर्यवेक्षक भी तैनात किये गये हैं. सभी मतदान केन्द्रों पर मतदान के लिये ईवीएम के साथ वीवीपैट का उपयोग होगा. राज्य में शांतिपूर्वक, स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव संपन्न कराने के लिए 1.80 लाख सुरक्षा कर्मी तैनात किये गये हैं, जिनमें केन्द्रीय और राज्य के सुरक्षाकर्मी शामिल हैं.

भाजपा एवं कांग्रेस के बीच मुकाबला

मध्य प्रदेश में इस बार भी मुख्य रूप से चुनावी जंग बीजेपी-कांग्रेस के बीच ही नजर आ रही है. हालांकि, प्रदेश में पहली बार विधानसभा चुनाव लड़ रही आम आदमी पार्टी (आप) का दावा है कि वह दिल्ली वाली अपनी सफलता को राज्य में दोहराएगी, जहां 2015 के चुनाव में उसने कांग्रेस और भाजपा का सूपड़ा साफ कर दिया था. इसके अलावा, कई अन्य पार्टियां इस बार मैदान में हैं, जिनमें अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निरोधक) अधिनियम पर उच्चतम न्यायालय के फैसले को केंद्र सरकार द्वारा पलटे जाने के विरोध में सवर्ण संगठनों द्वारा बनाई गई सपाक्स समाज पार्टी शामिल है.

भाजपा ने सभी 230 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं, जबकि कांग्रेस ने 229 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे हैं और एक सीट अपने सहयोगी शरद यादव के लोकतांत्रिक जनता दल के लिये छोड़ी है. आप 208 सीटों पर चुनाव लड़ रही है. वही बसपा 227, शिवसेना 81 और सपा 52 सीटों पर चुनावी मैदान में है. ये छोटी पार्टियां प्रदेश की मुख्य दलों भाजपा एवं कांग्रेस के लिए सिर दर्द बन गई हैं, क्योंकि ये इनकी जीत को हार में बदलने की अहम भूमिका अदा कर सकते हैं. ज्ञात हो कि दोनों ही राज्यों के नतीजे 11 दिसंबर को आयेंगे.

इसे भी पढ़ेंःपारा शिक्षकों को अन्य राज्यों की तर्ज पर मिले वेतनमान : मंत्री सरयू राय

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: