न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

निगम का पेवर ब्लाॅक पार्षदों की वोट बैंक की राजनीति का माध्यम !

38

Dhanbad : धनबाद के वार्डों में पेवर ब्लाॅक बिछाना वोट बैंक की राजनीति का बड़ा माध्यम बन गया है. पार्षद उनके घरों और धार्मिक स्थलों के सामने ही पेवर ब्‍लाॅक बिछाते हैं जहां उन्हें वोट मिलने की उम्मीद है. यह मामला झरिया वार्ड नंबर 35 का है. क्षेत्र के लोगों ने आरोप लगाया है कि यहां के पार्षद निरंजन कुमार पेवर ब्लाक केवल खास मुहल्ले के लोगों को खुश करने के लिये बिछा रहे हैं.

इसे भी पढ़ेंःराज्य प्रशासनिक सेवा के 420 पोस्ट खाली, 25 अफसरों पर गंभीर आरोप, 07 सस्पेंड, 06 पर डिपार्टमेंटल प्रोसिडिंग, 05 पर दंड अधिरोपण

कई मुहल्‍लों की जा रही है अनदेखी

hosp1

सिंह नगर के लोगों का कहना है कि पार्षद को कई बार कहने पर भी कोई काम नहीं किया है. त्योहार पर भी मंदिरों के बाहर लोगों के कहने पर भी ईंटे नहीं बिछाई गई. यहां तक कि लाइट भी नहीं लगायी गयी. जबकि अन्य मुहल्लों के लोगों को खुश करने के लिये पहले ही पेवर ब्लाक और लाइट लगवा चुके हैं. गौरतलब है कि उनको चुनाव के वक़्त एना इस्लामपर, इन्डस्ट्री के आसपास के लोगों का अच्छा समर्थन मिला था. यह उनकी जीत के लिए निर्णायक साबित हुआ. आरोप है कि वोट बिगड़ न जाये इसलिये वह तुष्टीकरण का काम कर रहे हैं. जबकि अन्य मुहल्लों की अनदेखी कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ेंःJPSC: एक पेपर जांचने के लिए चाहिए 60 से अधिक टीचर, मेंस एग्जाम की कॉपी चेक करना बड़ी चुनौती

क्या कहते हैं पार्षद

वार्ड 35 के पार्षद निरंजन कुमार ने कहा कि हमारे पास फंड कम होने के कारण मंदिरों में पेवर ब्लाक  नहीं लगाए गए हैं. चूंकि दूसरे धर्म के धार्मिक स्थल कम और छोटे हैं इसलिये 3,4 जगह पर उन्होंने ब्रिक्स लगावाये हैं.

इसे भी पढ़ेंःबकोरिया कांडः डीजीपी के कारण गृहमंत्री की हैसियत से मुख्यमंत्री रघुवर…

छठ घाटों की सफाई होगी लेकिन गली-मुहल्लों में कचरा बिखरा रहेगा

‌पार्षद ने बातचीत के दौरान ही बताया कि अभी कुछ दिनों के लिये गली. मुहल्लों की सफाई नहीं हो सकेगी. क्योंकि उनके सभी मजदूर छठ घाटों की सफाई में लगाये जायेंगे. इसके अलावा कई मजदूर को राजा तालाब की सफाई के लिए भी मांगा गया है, जिससे उनके पास मजदूर नहीं है. इसलिये सफाई का और अन्य काम अभी नहीं हो पाएगा.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: