न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Vodafon_Idea हुआ बंद तो रोजगार होंगे प्रभावित, एयरटेल-जियो पर बढ़ेगा बोझ

623

New Delhi: टेलीकॉम कंपनियां को समय पर केंद्र सरकार के बकाया एडजस्टेड ग्रॉस रेवेन्यू (एजीआर) के जमा करने को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने वक्त नहीं दिया है. इसके बाद अब वोडाफोन आइडिया के भविष्य पर भी सवाल उठने लगे हैं.

सुप्रीम कोर्ट के वक्त नहीं दिये जाने और बकाया जमा करने के दबाव के बाद यह खबर आ रही है कि वोडाफोन आइडिया सर्विस बंद भी हो सकती है. अगर यह बात सच होती है तो कंपनी और टेलीकॉम सेक्टर ही नहीं देश की अर्थव्यवस्था के लिए भी यह बुरा होगा.

इसे भी पढ़ें- भारत दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था, ब्रिटेन-फ्रांस को पीछे छोड़ा: रिपोर्ट

गौरतलब है कि सरकार के टेलीकॉम विभाग का कहना है कि कंपनी पर 53,000 करोड़ रुपये का बकाया है. वहीं कंपनी का कहना है कि उसपर 18,000 से 23,000 करोड़ रुपये का बकाया है.

एडजस्टेड ग्रॉस रेवेन्यू (एजीआर) बकाये की वजह से अगर वोडाफोन आइडिया कंपनी बंद होती है तो इसका असर एयरटेल और रिलायंस जियो पर पड़ सकता है. दोनों की कंपनियों के ऊपर बोझ बढ़ सकता है.

Whmart 3/3 – 2/4

दोनों कंपनियों की लागत अचानक बढ़ सकती है. इसके संचालन का खर्ज भी काफी बढ़ सकता है. इस क्षेत्र के ऐनालिस्ट्स का मनना है कि 30 करोड़ के यूजर बेस वाले वोडाफोन आइडिया के बंद होने से एयरटेल और जियो की लागत 15 से 20 पर्सेंट तक बढ़ सकती है.

इसे भी पढ़ें- #China में उइगर मुस्लिम उत्पीड़न के शिकारः नमाज पढ़ने-दाढ़ी रखने के कारण कैद

भारतीये बैंकों पर वोडाफोन आइडिया का 25,000 करोड़ का बकाया

जानकारी के मुताबिक कंपनी दिवालिया कानून के तहत आवेदन कर सकती है. वोडाफोन आइडिया में 45% की हिस्सेदारी रखने वाली ब्रिटिश कंपनी वोडाफोन के सीईओ निक रीड ने पिछले दिनों यह कहा था कि भारत में स्थिति खराब है. अगर कंपनी की सर्विस भारत में बंद कर दी जाती है तो फिर उसका नुकसान हर तरफ से होगा.

अगर कंपनी को बंद किया जाता है तो भारत के बैंकों को झटका लग सकता है, ऐसा उन बैंकों को होगा जो पहले से ही एनपीए के संकट से जूझ रहे हैं. फिलहाल देश के बैंकों का वोडाफोन आइडिया पर लगभग 25 हजार करोड़ रुपये का बकाया है.

ऐसे समय पर अगर कंपनी डूबती है तो फिर भारतीय बैंकों की रकम भी फंस जायेगी. वहीं मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज की रिपोर्ट के अनुसार अगर वोडाफोन आइडिया कंपनी बंद होती है तो रोजगार के भी बड़े संकट पैदा हो सकते हैं. रिपोर्ट के मुताबिक यह कंपनी लगभग 1.2 खरब रुपये के कर्ज में डूबी है.

इसे भी पढ़ें- गर्मी से पहले राज्य में बिजली आपूर्ति लचरः  बढ़ी लोड शेडिंग, TTPS में भी बिजली उत्पादन है बाधित

कई लोग हो जायेंगे बेरोजगार

वोडाफोन आइडिया कंपनी के बंद होने पर 13,500 लोग बेरोजगार हो जायेंगे. भारत में प्रत्यक्ष रुप से कुल 13,500 लोग फिलहाल इस कंपनी में काम करते हैं. इसके अलावा कई वेंडर और अप्रत्यक्ष तौर पर बहुत से लोग जुड़े हैं, जिनके उपर भी कंपनी के बंद होने के बाद रोजगार के संकट होंगे. एक तो पहले से ही सरकार रोजगार की कमी के सवाल से जूझ रही है. अगर ऐसे में कंपनी बंद होती है तो उसके लिए और भी ज्यादा चुनौती होगी.

वोडाफोन कंपनी अगर अपने काम को भारत से समेट लेती है तो इसका असर यहां की अर्थव्यवस्था पर भी होगा. इसकी वजह से जो रोजगार का संकट पैदा होगा वह भी सरकार के लिए सोचने का विषय होगा.

न्यूज विंग की अपील


देश में कोरोना वायरस का संकट गहराता जा रहा है. ऐसे में जरूरी है कि तमाम नागरिक संयम से काम लें. इस महामारी को हराने के लिए जरूरी है कि सभी नागरिक उन निर्देशों का अवश्य पालन करें जो सरकार और प्रशासन के द्वारा दिये जा रहे हैं. इसमें सबसे अहम खुद को सुरक्षित रखना है. न्यूज विंग की आपसे अपील है कि आप घर पर रहें. इससे आप तो सुरक्षित रहेंगे ही दूसरे भी सुरक्षित रहेंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like