न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नक्सली गतिविधियों और चुनाव बहिष्कार की घोषणा से सख्ती से निबटें : विवेक दुबे

चुनाव में सुरक्षा व्यवस्था को लेकर विशेष पुलिस प्रेक्षक ने की समीक्षा बैठक

65
  • संबंधित जिलों के जिला निर्वाची पदाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक के साथ की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग

Ranchi :  झारखंड में लोकसभा चुनाव के लिए नियुक्त विशेष पुलिस प्रेक्षक ने 29 अप्रैल और छह मई को होनेवाले मतदान की तैयारियों की समीक्षा की. उन्होंने पुलिस अधिकारियों और जिला निर्वाची पदाधिकारियों से कहा कि वे नक्सली गतिविधियों, चुनाव बहिष्कार की धमकी देनेवालों से सख्ती से निबटें.

उन्होंने कहा कि मतदान क्षेत्रों की सेंसीटिविटी प्रोफाइलिंग करते हुए स्वच्छ एवं शांतिपूर्ण मतदान सुनिश्चित कराया जाये. आइइडी विस्फोटक, सांप्रदायिक और जातिगत तनाव उत्पन्न करने के प्रयास, वोट के लिए नकद या शराब का प्रलोभन देनेवालों की पहचान कर उनके विरुद्ध कार्रवाई की जाये.

श्री विवेक दुबे द्वारा झारखण्ड में प्रथम एवं द्वितीय चरण में होनेवाले चुनाव से संबंधित जिलों के अधिकारियों और एसपी से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये तैयारियों की समीक्षा की गयी.

उन्होंने चुनाव के सफल और सुरक्षित संचालन की दिशा में केंद्रीय अर्द्धसैनिक बलों की नियुक्ति, अंतर राज्य सीमा पर चौकसी, आचार संहिता उल्लंघन के मामलों पर की गयी कार्रवाई का जायजा भी लिया.

इसे भी पढ़ेंः सरकारी विभागों में खाली पड़े पदों को भरना मुश्किल, इस साल रिटायर हो जायेंगे 33 विभागों के 3359 कर्मचारी

मतदाता को भयभीत करनेवालों पर नजर रखें

उन्होंने कहा कि मतदाताओं का भयादोहन न हो. इसके लिए सभी लाइसेंसी हथियार को जिला प्रशासन के पास जमा कराया जाये और अवैध हथियार जब्त किये जायें. भारतीय दंड विधान की धारा 107 के अधीन की जानेवाली कार्रवाई और गैर जमानती वारंट से संबंधित मामलों के निष्पादन पर संतोष व्यक्त किया.

उन्होंने कहा कि दुर्गम और अति उग्रवाद प्रभावित इलाकों में हेलीकाप्टर ड्रापिंग, शैडो एरिया में सैटेलाइट फोन, वायर लेस की सुविधा उपलब्ध करायी जाये. सभी संवेदनशील मार्गों में रूट सेंसीटाइजेशन और डी-माइनिंग गतिविधियां चलाये जाने पर बल दिया. आवश्यकता के अनुरूप बम विरोधी दस्ते की तैनाती के निर्देश दिये गये.

फ्लाइंग स्‍क्‍वाएड बना कर करें जब्ती

श्री दुबे ने कहा कि अंतरराज्यीय सीमा पर चेकनाका बनाया जाये, जिसकी निगरानी सीसीटीवी के जरिये की जाये. स्वच्छ एवं शांतिपूर्ण मतदान के लिए निर्धारित सीमा से अधिक नकदी और निषिद्ध वस्तुओं के परिवहन पर नियंत्रण के लिए फ्लाइंग स्कवाएड दल, स्टैटिक निगरानी दल एवं वीडियो निगरानी दल के माध्यम से लगातार निगरानी करायी जाये. राजनीतिक दलों द्वारा किसी स्थान पर जनसभा आयोजित करने के संबंध में दिये गये आवेदनों पर विवेकपूर्ण ढंग से विचार करते हुए इस तरह से अनुमति दी जाये.

इसे भी पढ़ेंःलालू ने किया दावाः महागठबंधन में वापस आना चाहते थे नीतीश, प्रशांत किशोर को भेजा था मिलने

गैर कानूनी गतिविधियों पर स्वत: संज्ञान लें

विशेष प्रेक्षक ने कहा कि चुनाव को प्रभावित करने वाले गैर-कानूनी गतिविधियों का स्वत: संज्ञान लेने की जरूरत है. वैसे क्षेत्र, जहां पोस्टर, लिफलेट, पांपलेट आदि के माध्यम से या मौखिक रूप से चुनाव बहिष्कार की धमकी दी गयी है, उन क्षेत्रों में केंद्रीय अर्द्धसैनिक बलों द्वारा फ्लैग मार्चिंग करायी जाये.

उन्होंने कहा कि राजनीतिक दलों एवं स्थानीय जनता के साथ बैठक करते हुए चुनाव बहिष्कार से संबंधित संदेशों को निष्फल करने का कार्य किया जाये. ऐसी जगहों पर जिले के उपायुक्त और एसपी खुद जायें.

इसे भी पढ़ेंः दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी बीजेपी को नहीं मिल रहा झारखंड जैसे छोटे राज्य में अदद उम्मीदवार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: