न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

रांची में विजुअल स्टोरीटेलर वर्कशॉप 23 जून से, युवाओं को फिल्ममेकिंग के गुर सिखायेंगे जाने-माने फिल्मकार

युवाओं को विजुअली कहानी कहने व फिल्ममेकिंग के गुर सिखाने के लिए इस कार्यशाला का आयोजन झारखंडी भाषा साहित्य संस्कृति अखड़ा की ओर से किया जा रहा है.

40

Ranchi : कला और सिनेमा की आधारभूत समझ और तकनीकी पहलुओं की जानकारी देने के लिए 23 जून से 30 जून तक रांची में विजुअल स्टोरीटेलर वर्कशॉप आयोजित किया जा रहै है. राज्य के युवाओं को विजुअली कहानी कहने व फिल्ममेकिंग के गुर सिखाने के लिए इस कार्यशाला का आयोजन झारखंडी भाषा साहित्य संस्कृति अखड़ा की ओर से किया जा रहा है.

eidbanner

सप्ताह भर चलने वाले इस विजुअल स्टोरीटेलर वर्कशॉप में झारखंड व देश के सुप्रसिद्ध लेखक, पत्रकार, स्टोरीटेलर और फिल्ममेकर क्लास लेंगे. कार्यशाला के निदेशक हैं जाने-माने फिल्मकार और फिल्म एवं टेलिविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एफटीआईआई) के रंजीत उरांव.

इसे भी पढ़ें – रांची में 1 अरब 22 करोड़ 40 लाख रुपये का है मेडिकल-इंजीनियरिंग कोचिंग कारोबार

कार्यशाला में भाग लेने के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य

विजुअल स्टोरीटेलर वर्कशॉप के बारे में जानकारी देते हुए अखड़ा की महासचिव वंदना टेटे और कार्यशाला निदेशक रंजीत उरांव ने बताया कि कार्यशाला नि:शुल्क है, लेकिन इच्छुक प्रतिभागियों को इसमें भाग लेने के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य है. फिल्ममेकर रंजीत ने कहा कि झारखंड में प्रतिभा, कहानी और लोकेशंस की कमी नहीं है.

झारखंडी और आदिवासी भाषाओं में बहुत सारी फिल्में भी यहां के युवा लोग बना रहे हैं. लेकिन कला और सिनेमा की समझ, तकनीक, वित्तीय समर्थन, स्क्रीनिंग और प्रोत्साहन का अभाव है. हमारी कोशिश है कि इस वर्कशॉप के माध्यम से हम इस कमी को दूर करने की दिशा में कुछ पहल कर सकें.

Related Posts

ट्विंकल शर्मा कांड : धनबाद में कैंडल मार्च निकाला गया, आरोपी को कठोर सजा देने की मांग

बच्ची ट्विंकल शर्मा के साथ हुए आपराधिक यौनाचार के विरोध में रविवार की देर शाम कैंडल मार्च का कार्यक्रम रखा गया.

इसे भी पढ़ें –  अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की तैयारियों का मुख्य सचिव ने लिया जायजा, प्रभात तारा मैदान में होगा कार्यक्रम

झारखंड में फिल्म निर्माण और प्रशिक्षण संस्थान का अभाव

झारखंडी भाषा साहित्य संस्कृति अखड़ा की महासचिव वंदना टेटे ने कहा कि फिल्म एक लोकप्रिय विधा है. इसलिए हर कोई अपनी कहानी और कल्पनाओं को विजुअली दुनिया को सुनाना और दिखाना चाहता है. पर झारखंड में फिल्म निर्माण और प्रशिक्षण संस्थान का अभाव है. आदिवासी और झारखंडी कला की दृष्टि से यहां आज तक सिनेमा पर कोई पहल नहीं हुई है.

विजुअल स्टोरीटेलर वर्कशॉप में झारखंड के पहले हिंदी फिल्मकार और आक्रांत फेम डा विनोद कुमार, जानी-मानी डॉक्यूमेंट्री फिल्मेमकर पूनम केरकेट्टा, दूरदर्शन और बीबीसी से जुड़े वरिष्ठ पत्रकार रवि प्रकाश, राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता फिल्मकार बीजू टोप्पो, वीडियो वोलंटियर के पूर्व स्टेट हेड दीपक बाड़ा और सुप्रसिद्ध रंगकर्मी और कथाकार अश्विनी कुमार पंकज क्लास लेंगे. टेटे ने बताया कि इस फिल्ममेकिंग वर्कशॉप में ऑनलाइन आवेदन की आखिरी तारीख 21 जून है. ऑनलाइन आवेदन यहां किया जा सकता है . www.kharia.in/vstworkshop.html

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: