न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नदी महोत्सव में विष्णुदयाल राम ने कहा, विश्व की सभी संस्कृति एवं सभ्यता का विकास नदी किनारे हुआ

297

Garhwa : वन पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन विभाग की ओर से सोमवार को बहियार में बांकी और सुखड़ा नदी के संगम तट पर नदी महोत्सव सह वृहद वृक्षारोपण कार्यक्रम का विधिवत शुभारंभ हुआ. महोत्सव का उदघाटन मुख्य अतिथि सांसद विष्णुदयाल राम विशिष्ट अतिथि विधायक भानू प्रताप शाही, डीसी डॉ नेहा अरोड़ा, बीस सूत्री उपाध्यक्ष सिद्धेश्वर लाल अग्रवाल ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्ज्वलित कर किया.  उस मौके पर सांसद विष्णुदयाल राम ने कहा कि विश्व की सभी संस्कृति एवं सभ्यता का विकास नदी किनारे हुआ है. फिर भी आज लगभग सभी नदियों का अस्तित्व खतरे में है. नदियों के साथ साथ वनों के अस्तित्व पर भी खतरा मंडरा रहा है. नदी, वन एवं वन्यजीव का संरक्षण जनसहभागिता के बिना संभव नहीं है. जन को वन एवं नदी के संवेदनशील बनाने और इसकी रक्षा में जनसहभागिता बढाने के लिए झारखंड की 24 नदियों के किनारे 9 लाख पौधे लगाये जा रहे हैं. इसके लिए मुख्यमंत्री बधाई के पात्र हैं. उन्होंने कहा कि लकडी की अवैध कटाई के कारण वनों का क्षरण हो रहा है और नदियां सूखती जा रही है इसे रोकना आवश्यक है. उन्होंने कहा कि केंद्र एवं राज्य सरकार द्वारा पर्यावरण संरक्षण के लिए कई कार्यक्रम का आयोजित किया जा रहे हैं. वनों की कटाई रोकने एवं वन संरक्षण में केंद्र सरकार की उज्ज्वला योजना काफी कारगर साबित हो रही है. उन्होंने बच्चों से पेड़ पौधे लगाने और बचाने की अपील की.

इसे भी पढ़ें- पुलिस आधुनिकीकरण पर करोड़ों खर्च और जवानों की दुर्दशा, ऊपर भी पानी-नीचे भी पानी (देखें वीडियो)

नदी एवं जंगल बचाने तथा अधिक से अधिक पेड़ पौधे लगाने की अपील

विधायक भानु प्रताप शाही ने कहा कि वृक्षारोपण के लिये नगर ऊंटारी-भवनाथपुर के मध्य स्थित सबसे लंबी बांकी नदी के तट का चयन किया जाना गौरव की बात है. वनरक्षियों के चयन के लिए सीएम रघुवर दास के प्रति आभार व्यक्त करते हुए भानू प्रताप शाही ने कहा कि अब वन विभाग की परिस्थितियों में काफी बदलाव हुआ है. पहले वन विभाग में दलालों के राज था. अब सीएम रघुवर दास द्वारा नए वनरक्षियों की बहाली के बाद वन विभाग के लोग सीधे जंगल तक पहुंच रहे हैं. उन्होंने कहा कि जलसंकट के लिए हम सभी जिम्मेदार हैं. पेड़ कटने के कारण भू जलस्तर नीचे चला जा रहा है. उन्होंने बच्चों से भविष्य बचाने के लिए नदी एवं जंगल को बचाने तथा अधिक से अधिक पेड़ पौधे लगाने की अपील की. बीस सूत्री के जिला उपाध्यक्ष सिद्धेश्वर लाल अग्रवाल ने कहा कि नदी एवं वन जीवन के आधार हैं. नदी किनारे वृक्षारोपण सरकार का अद्भुत कार्यक्रम है. जिससे नदी का कटाव भी रुकेगा और वन का दायरा भी बढ़ेगा. उन्होंने लोगों से निजी भूमि में भी पेड़ पौधा लगाने की अपील की. उस मौके पर सीएफ राजीव कुमार राय, डीएफओ नार्थ गढ़वा अशोक कुमार दूबे, एसडीओ कमलेश्वर नारायण ने भी अपने अपने विचार व्यक्त किये.

 lllइसे भी पढ़ें- नदी किनारे महिला से सामूहिक दुष्कर्म

देववृक्ष कल्पतरु का पौधारोपण कर नदी महोत्सव का शुभारंभ किया गया

इस अवसर पर सांसद ने दुर्लभ देववृक्ष कल्पतरु का पौधा रोपण कर इस नदी महोत्सव का शुभारंभ किया. महोत्सव सह वृहद वृक्षारोपण कार्यक्रम के दौरान विधायक भानू प्रताप शाही, डीसी डॉ नेहा अरोड़ा, बीस सूत्री उपाध्यक्ष सिद्धेश्वर लाल अग्रवाल समेत सभी सम्मानित अतिथियों, समाज विभिन्न क्षेत्रों में काम करने वाले लोगों व कार्यक्रम में शामिल सभी स्कूलों के छात्र छात्राओं ने सामूहिक रूप से पौधारोपण किया. महोत्सव में सीआरपीएफ 172 बटालियन के द्वितीय कमान अधिकारी पीके घोष, गढ़वा साउथ के डीएफओ अरविंद कुमार, सामाजिक डीएफओ सामाजिक वानिकी श्याम बिहारी प्रसाद, भाजपा नेता अलखनाथ पांडेय, मुकेश निरंजन सिन्हा, सांसद प्रतिनिधि शिवकुमार पांडेय, नगर ऊंटारी नगर पंचायत अध्यक्ष विजयलक्ष्मी देवी, नगर ऊंटारी सीओ अरुणिमा एक्का, बीडीओ मुरली यादव, रमना बीडीओ दयानंद कारजी समेत विभिन्न स्कूलों के छात्र छात्राएं हेडमास्टर, शिक्षक व वन विभाग के कर्मी उपस्थित थे.

नगर ऊंटारी एवं रमना प्रखंड के पांच विद्यालयों के छात्र छात्राएं शामिल हुए

नदी महोत्सव सह वृहद वृक्षारोपण कार्यक्रम में नगर ऊंटारी एवं रमना प्रखंड के पांच विद्यालयों के छात्र छात्राएं शामिल हैं. जिसमे स्तरोन्नत हाईस्कूल जतपुरा, प्राथमिक विद्यालय पाल्हे कला, मध्य विद्यालय सिरियाटोंगर, मध्य विद्यालय बहियार कला एवं डीएवी पब्लिक स्कूल नगर ऊंटारी के बच्चे उपस्थित थे. कार्यक्रम को लेकर स्कूली बच्चों में काफी उत्साह देखने को मिल रहा था. बच्चों को इस अभियान से जोड़ने के लिए सीएफ राजीव कुमार राय, डीएफओ नार्थ गढ़वा अशोक दुबे व गढ़वा के रेंजर गोपाल गुप्ता ने काफी मेहनत की थी. सभी अधिकारियों ने उपरोक्त सभी विद्यालयों में जाकर बच्चों में नदी महोत्सव के लिए उत्साह का संचार एवं पौधारोपण के लिए प्रेरित किया था. कार्यक्रम में डीएवी पब्लिक स्कूल नगर ऊंटारी की छात्राओं ने स्वागत गान, प्रगति गान, हरियाली गीत समेत कई सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया. डीएवी पब्लिक स्कूल के छात्र छात्राओं पंक्तिबद्ध होकर सभी सम्मानित अतिथियों का पुष्प वर्षा कर भव्य स्वागत किया.

डीएफओ ग्रामीणों के साथ बैठक कर निजी भूमि में वृक्षारोपण के लिए प्रेरित किया

नदी महोत्सव सह वृहत वृक्षारोपण के लिए बांकी नदी के तट को चुने जाने के बाद से वन विभाग की टीम कार्यक्रम को सफल बनाने के लिये लगी हुई है. वृक्षारोपण कार्य का नेतृत्व डीएफओ उत्तरी वन प्रमंडल अशोक दुबे कर रहे हैं. पिछले दो माह से इसकी तैयारी चल रही है. बहियार पुल से पाल्हे कला आशुतोष महादेव मंदिर तक बांकी नदी के दोनों किनारे 5 किलोमीटर तक तीस हजार फलदार और छायादार पौधे लगाए जा रहे हैं. पिट की खुदाई एवं मवेशियों से पौधों को बचाने के लिए घेराबंदी का कार्य एक साथ पूरा कर लिया गया है. पिट खुदाई के दौरान नदी किनारे के रैयतों द्वारा निजी भूमि में पौधारोपण से मना कर दिया था. डीएफओ अशोक दुबे ने ग्रामीणों के साथ बैठक कर लोगों को निजी भूमि में भी वृक्षारोपण के लिए प्रेरित किया जिसके बाद कई लोगों ने अपनी जमीन पर पौधा लगाने की सहमति प्रदान की.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: