न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

गोमिया बीडीओ के आदेश का उल्लंघन: साढ़े तीन माह बाद भी नहीं जमा की गयी जुर्माने की राशि

मनरेगा के तहत कुआं निर्माण में बरती गयी अनियमितता का मामला

152

Bermo: मुखिया, पंचायत सचिव अब जिला प्रशासन की नहीं सुनते. इसकी बानगी गोमिया में देखने को मिली. जहां तत्कालीन बीडीओ सुधीर प्रसाद के आदेश का उल्लंघन किया जा रहा है. और आदेश के साढ़े तीन माह बाद भी जुर्माने की राशि जमा नहीं की गई. दरअसल मनरेगा योजना के तहत गलत तरीके से खर्च की गयी और जुर्माना की राशि लगभग 1 लाख 88 हजार रुपये पंचायत की मुखिया के अलावा पंचायत सचिव,कनीय अभियंता,ग्राम रोजगार सेवक को जमा करने थे. लेकिन अबतक ना ही राशि जमा की गयी है. ना जुर्माना नहीं भरने पर इन लोगों के खिलाफ कोई कार्रवाई ही की गई, जो अपने आप में सवालिया निशान लगा रहा है.

इसे भी पढ़ेंःरिम्स के जिस कैंसर विंग पर सरकार 82 करोड़ से अधिक कर चुकी है खर्च, वहां हैं सिर्फ दो डॉक्टर

क्या था मामला

दरअसल, गोमिया प्रखंड अंतर्गत खम्हरा पंचायत की मुखिया फूलो देवी के द्वारा खम्हरा निवासी अशोक पासवान के घर के सामने गलत तरीके से जमीन का चयन कर मनरेगा योजना के तहत 1 लाख 87 हजार 971 रुपये की राशि से कूप का निर्माण करवाया गया था. गलत स्थान का चयन एवं कूप निर्माण में पंचायत की मुखिया के अलावा पंचायत सचिव, कनीय अभियंता, ग्राम रोजगार सेवक सभी की आपसी रजामंदी थी.

ज्ञात हो कि मनरेगा के तहत कुआं बनाने के लिए 3 लाख 51 हजार की राशि प्रदान की जाती है. जिनमें से 1 लाख 87 हजार रुपये निर्माण सामान के लिए दिए जाते हैं. जबकि बाकी की राशि मजदूरी में खर्च होती है. कुआं निर्माण में बरती गई अनियमितता को देखते हुए तत्कालीन बीडीओ ने निर्माण सामान की राशि लौटाने के आदेश दिए थे.

पहली बारिश में ही धंस गया कुआं

गलत जमीन पर बने कुएं को बनाने में भी अनियमितता बरती गई. और अशोक पासवान के घर के सामने मनरेगा से निर्मित कूप पहली बारिश ही नहीं झेल पाया. कुआं पूरी तरह से धंस गया, जो निर्माण में बरती गई अनियमितता को साफ दर्शाता है.

बीडीओ ने लिया संज्ञान

कुएं के पहली बारिश में ही धंसने के बाद गोमिया के तत्कालीन बीडीओ सुधीर ने मामले में संज्ञान लिया और कूप निर्माणाधीन स्थान का जाकर निरीक्षण किया. बीडीओ ने 23 जुलाई 2018 को पंचायत की मुखिया,पंचायत सचिव, कनीय अभियंता, ग्राम रोजगार सेवक सभी को प्रेषित एक आदेश मनरेगा योजना से निर्मित कूप निर्माण में बरती गयी अनियमितता एवं गलत स्थान चयन को लेकर राशि वसूली एवं जुर्माना को लेकर लिखा. बीडीओ के आदेश में लिखा गया था कि 6 जुलाई के तहत अशोक पासवान के घर के सामने कूप निर्माण एवं गलत स्थान चयन को लेकर स्पष्टीकरण की मांग किया था जो कि अब तक प्राप्त नहीं हुआ है. कूप निर्माण के समय काम की गुणवत्ता एवं पर्यवेक्षण पर भी ध्यान नहीं दिया गया, जिसके कारण कूप पहली ही बारिश में पूरी तरह से धंस गया.

इसे भी पढ़ें- 18 साल बाद भी अधर में झारखंड-बिहार के बीच 2584 करोड़ की पेंशन देनदारी, कई राउंड बैठकों के बाद भी…

बीडीओ ने लिखा कि उक्त आलोक में मनरेगा अधिनियम की धारा 25 के तहत मुखिया, पंचायत सचिव,कनीय अभियंता,ग्राम रोजगार सेवक सभी को 500 रुपया प्रति करके जुर्माना की राशि लगाया गया है. साथ ही दो दिनों के अंदर उपरोक्त सभी से कूप निर्माण की व्यय की गयी 1 लाख 87 हजार 971 राशि को प्रखंड के नाजीर के पास जमा करवाने को सुनिश्चित किया गया था. इस आदेश के बावजूद राशि साढ़े तीन माह बाद भी जमा नहीं की गयी है.

इसे भी पढ़ें- रांची नगर निगम के नाम से शेयर, बॉन्ड जारी करेगी सरकार

क्या कहती हैं बीडीओ

इस संबंध में जब गोमिया की बीडीओ मोनी कुमारी से पूछा गया तो उनका कहना था कि मनरेगा योजना से कूप निर्माण में जो राशि गलत तरीके से गलत स्थान का चयन कर खर्च की गयी है. उसके अलावा जुर्माना की राशि को जमा करने का आदेश दिया गया था. परंतु ना तो खर्च की गयी राशि और ना ही जुर्माना की राशि ही जमा की गयी है. उन्होंने कहा कि मामले के उपरोक्त सभी को फिर से शो कॉज किया जाएगा और इस पर भी राशि जमा नहीं की गयी तो आगे कार्रवाई के लिए लिखा जाएगा.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: