JamshedpurJharkhand

वादाखिलाफी : मजदूर की मौत पर नहीं दिया मुआवजा, फ्रीगेट टेक्नोलॉजी के तीन अफसरों पर मुकदमा

Jamshedpur : जोजोबेड़ा स्थित न्यूवोको सीमेंट प्लांट में काम करनेवाली फ्रीगेट टेक्नोलॉजी प्राइवेट लिमिटेड के पदाधिकारी मनीष बख्शी समेत तीन लोगों के खिलाफ कोर्ट में धोखाधड़ी व समझौता तोड़ने का मुकदमा (420 और 406 धारा के तहत) दर्ज किया गया है. मामला बीते 12 जून को कंपनी में फ्रीगेट टेक्नोलॉजी प्राइवेट लिमिटेड के मजदूर धनंजय सिंह की मौत से जुड़ा है.

धनंजय सिंह प्लांट के अंदर ही चक्कर खाकर गिरकर बेहोश हो गए थे. उन्हें साथी मजदूरों ने टाटा मोटर्स अस्पताल में भर्ती करावाया था. वहां उसी रात करीब साढ़े दस बजे इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई थी. इसकी रात में ही मजदूर नेता ओम प्रकाश सिंह दी गई थी. 13 जून की सुबह ओम प्रकाश सिंह अस्पताल पहुंचे और फ्रीगेट के पदाधिकारी मनीष बक्शी को फोन कर अस्पताल में बुलवाया. उन्हें मृतक की विधवा को उचित मुआवजा और नौकरी देने का अनुरोध किया, लेकिन वे टाल-मटोल करने लगे. उसके बाद कई मजदूर संगठन अस्पताल पहुंचे. उन्होंने न्यूवोको सीमेंट प्लांट के गेट को जाम करने का निर्णय लिया. गेट पर हुए धरना-प्रदर्शन के दबाव में ठेकेदार के पदाधिकारी ने 7 लाख रुपये मुआवजा देने का लिखित समझौता मजदूर प्रतिनिधियों के साथ किया. साथ ही एक लाख रुपया टाटा मोटर्स अस्पताल का बिल, डेथ बॉडी ले जाने लिए पैतृक गांव औरंगाबाद व श्राद्ध कर्म के लिए मृतक की विधवा को दिया गया. उसके बाद मृतक का विधवा वीणा देवी को शेष रकम चेक से देने में आन-कानी करने लगे. इसी को लेकर वीणा देवी ने अपने अधिवक्ता के माध्यम कोर्ट में यह मामला दर्ज कराया है. ताकि उन्हें न्याय मिल सके.

इसे भी पढ़ें – जुबली पार्क पर बन्ना-बीजेपी के सुर मिले, अभय सिंह के मुकाबले उतरी मंत्री की फौज

advt

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: