JharkhandKhuntiRanchi

खेती के साथ मनरेगा से भी जुड़ें ग्रामीण : राजेश्वरी बी

  • मनरेगा आयुक्त ने कर्रा प्रखण्ड के गुनी ग्राम में महिलाओं से मिलकर उन्हें प्रेरित किया
  • गुनी ग्राम में योजनाओं के सफल क्रियान्वयन से खूंटी जिला राज्य के लिए बनेगा आदर्श- मनरेगा आयुक्त

Ranchi: मनरेगा आयुक्त राजेश्वरी बी ने शुक्रवार को कर्रा प्रखण्ड के गुनी ग्राम का दौरा किया. मौके पर मुख्य रूप से उप विकास आयुक्त, अनुमंडल पदाधिकारी, प्रखण्ड विकास पदाधिकारी, कर्रा सहित प्रखण्ड स्तर के अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे.

मौके पर जेएसएलपीएस की दीदियों द्वारा सांस्कृतिक रूप से स्वागत किया गया. मनरेगा आयुक्त ने ग्रामीणों का उत्साहवर्धन करने के लक्ष्य को साझा करने के लिए दीनदयाल ग्राम स्वालंबन योजना की लोक प्रेरक दीदियों से बात-चीत की.

इस अवसर पर उन्होंने ग्रामीणों को खेती के साथ-साथ मनरेगा की योजनाओं से जुड़ने हेतु प्रोत्साहित किया. उन्होंने कहा कि मनरेगा के तहत संचालित योजनाओं के प्रति ग्रामीणों की उत्साह और आत्मविश्वास से भरी परिवर्तन की ललक सराहनीय है.

advt

इसे भी पढ़ें :गोपालगंज में बाढ़ से परेशान हैं लोग, सरकार से राहत की कर रहे हैं मांग

ग्रामीण केवल जागरूक नहीं, स्वावलंबी भीः मनरेगा आयुक्त

मौके पर मनरेगा आयुक्त द्वारा ग्रामीणों को सम्बोधित करते हुए बताया गया कि हमें योजनाओं का सफल क्रियान्वयन सुनिश्चित करना है, जिससे हर व्यक्ति स्वावलंबन और आत्मविश्वास को सिद्ध कर सके. उन्होंने कहा कि गुनी के ग्रामीणों का यह उत्साह देखकर प्रतीत होता है कि विकास की ओर हम सभी अग्रसर हैं. खूंटी जिला पूरे राज्य के लिए सही उदाहरण बन कर उभरेगा.

adv

उन्होंने इन कार्यो को सफल रूप प्रदान करने के लिए जिला प्रशासन और दीनदयाल ग्राम स्वावलंबन की लोक प्रेरक दीदियों के साथ जनसामान्य की भी सराहना की. साथ ही इस दिशा में आगे बढ़ने के लिए ग्रामीणों का आत्मबल भी बढ़ाया.

इस दौरान उप विकास आयुक्त द्वारा ग्रामीणों को संबोधित करते हुए बताया गया कि सखी मण्डल की प्रेरक दीदियों के माध्यम से हर व्यक्ति अपने स्तर से जागरूक बन रहे हैं.

इसे भी पढ़ें :JAC ने जारी किये 12वीं के तीनों संकायों के रिजल्ट, 90.71 स्टूडेंट्स पास

गुनी ग्राम में 12 एकड़ भूमि में लेमन ग्रास की खेती

गुनी ग्राम में दीन दयाल ग्राम स्वावलम्बन योजना के तहत जल संरक्षण की विभिन्न संरचनाओं का निर्माण यथा टीसीबी, मेढ़ बंदी, सोखता गड्ढा आदि के तहत लगातार सक्रिय प्रयास जारी है. 12 एकड़ में लेमनग्रास की खेती की गई है.

गुनी गांव की आबादी कुल 75 परिवार है. सभी परिवारों को मनरेगा की योजना से जोड़ा जा चुका है. गरीबी, नशे की लत से निजात दिलाने में प्रेरक दीदियों की मदद से लोगों को ग्राम सभा मजबूत किया गया. साथ ही गांव 90 प्रतिशत नशामुक्त बन चुका है.

इसे भी पढ़ें :खिलाड़ियों की सीधी नियुक्ति: 12 प्लेयर्स के लिये ‘मंगलमय’ होगा आने वाला मंगल

प्रेरक दीदियों ने साझा किए अपने अनुभव

इस दौरान सखी मण्डल की दीदियों ने बताया कि महिलाएं अब आत्मविश्वास से पूर्ण हैं. महिलाओं ने अपने विचार रखे. दीदियों द्वारा बताया गया कि अब लोग साफ-सफाई और स्वच्छता के लिए गंभीर दृष्टिकोण अपना रहे हैं.

उन्होंने कहा कि ग्राम सभा में योजनाओं के विषय में व इससे जुड़े लाभ से व्यापक रूप से ग्रामीणों को अवगत कराया जा चुका है. उन्होंने बताया कि किस प्रकार विचार में परिवर्तन आने से जीवन में सकारात्मक दिशा मिली है.

नर्सरी का भी अवलोकन किया

इसी कड़ी में मनरेगा आयुक्त ने खूंटी प्रखण्ड के गुटजोरा गांव में दीदी बगिया योजना के तहत सखी मण्डल द्वारा विकसित नर्सरी का अवलोकन किया. दीदी बगिया योजना के तहत उक्त नर्सरी में लगभग 15,000 केला एवं पपीता के पौधे हैं एवं लगभग 4500 सागवान, सीसम, गमहार एवं महोगोनी के पौधे शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें :रामगढ़ : CBSE 12 वीं का रिजल्ट जारी, कॉमर्स में खुशी व साइंस में आयुष बने अग्रसेन स्कूल के टॉपर

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: