JharkhandSaraikela

पर्यावरणीय लोक सुनवाई में रूंगटा स्टील प्लांट चालियामा के विस्तारीकरण को ग्रामीणों की हरी झंडी

विस्तारीकरण के बाद 1382.53 एकड़ में होगा संयंत्र, उत्पादन क्षमता 2.8805 एमटीपीए से 7.0185 एमटीपीए होगी, लोगों ने कंपनी से रोजगार और प्रभावित क्षेत्र में मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराने की मांग रखी

Ad
advt

Kandra : राजनगर प्रखंड क्षेत्र के चालियामा स्थित रूंगटा माइंस लिमिटेड के एकीकृत स्टील सयंत्र के विस्तारीकरण की पर्यावरणीय स्वीकृति को मंगलवार को मध्य विद्यालय चलयामा के प्रांगण में जिले के अपर उपायुक्त सुबोध कुमार की अध्यक्षता में लोकसुनवाई का आयोजन किया गया. इसमें अनुमंडल पदाधिकारी रामकृष्ण कुमार, झारखंड प्रदूषण नियंत्रण पर्षद, रांची के संजय श्रीवास्तव, क्षेत्रीय पदाधिकारी जीतेंद्र कुमार सिंह, वैज्ञानिक पदाधिकारी सत्य प्रकाश, साहेल खान एवं गणेश प्रकाश सिंह मुख्य रूप से मौजूद थे. लोकसुनवाई में प्रभावित गांव चालियामा, बांक साई, कुजू, आराहासा तथा मिड़की के ग्रामीण शामिल हुए. कार्यक्रम की शुरुआत में डॉ मरिसा ने संयंत्र विस्तारीकरण को लेकर पर्यावरण पर पड़नेवाले प्रभाव एवं प्रबंधन योजना की संक्षिप्त जानकारी लोगों के समक्ष प्रस्तुत की. इसके बाद प्रभावित गांव के ग्रामीणों ने बारी-बारी से अपनी बात कंपनी प्रबंधन के समक्ष रखी. लोगों ने स्वास्थ्य, शिक्षा, सड़क, पेयजल, प्रदूषण रोकथाम एवं पर्यावरण का मुद्दा उठाया. ग्राम चालियामा के ग्राम प्रधान सुजीत कुमार नायक ने कंपनी प्रबंधन के समक्ष शिक्षा, स्वास्थ्य, पेयजल एवं रोजगार का मुद्दा उठाते हुए कहा कि कंपनी स्थानीय लोगों को रोजगार दे, जिससे कंपनी के प्रति लोगों समर्थन बना रहे.

इसे भी पढ़ें – टिस्को मिल्स कंबाइंड क्रेडिट सोसाइटी का चुनाव 20 को, 18 निदेशकों में से आधी महिलाएं होंगी

advt

हरे कृष्णा प्रधान ने कहा कि रूंगटा कंपनी बसने से यहां के लोगों को रोजगार के लिए के लिए अन्य प्रदेशों में जाना नहीं पड़ रहा है. लोगों को रोजगार में प्राथमिकता दे. साथ ही उन्होंने चालियामा से जिला मुख्यालय को जोड़ने वाली सड़क बनाने की मांग की. गीता सुंडी ने कहा कि कंपनी को हम लोगों ने जमीन देकर यहां बसाया है. कंपनी महिलाओं को रोजगार से जोड़ने तथा प्रभावित गांवों में मूलभूत सुविधाएं उपलध कराये,  जिसमें शौचालय बहुत जरूरी है. कंपनी को जमीन दाता के साथ परिवारिक संबंध स्थापित करना चाहिए.

advt

सांसद प्रतिनिधि मोती लालगौड़ ने कंपनी प्रबंधन से प्रभावित गांव में मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराने तथा जमीन दाता को स्थाई नौकरी देने की मांग की.  विधायक प्रतिनिधि धर्मा मुर्मू ने कहा कि कंपनी लगने से यहां रोजगार का सृजन हुआ है प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से लोगों को रोजगार मिल रहा है. उन्होंने मांग की कि झारखंड सरकार के नियमानुसार कंपनी 75 प्रतिशत स्थानीय बेरोजगारों को रोजगार प्रदान करे. उपप्रमुख विनय कुमार सिंह देव ने कहा कि कंपनी सीएसआर के तहत ईचा हाई स्कूल, प्राथमिक विद्यालय जोलडीहा, आराहासा, कमरबासा, पोटका एवं लोधा विद्यालय की चारदीवारी एवं शौचालय निर्माण कराये. इसके अलावा शिव मंदिर चालियामा एवं विवाह मंडप का जीर्णोद्धार किया जाये. साथ ही कुजू, पोटका, कटंगा एवं तेलाई चौक चौराहे पर हाईमास्ट लाइट लगायी जाये. इस दौरान सांसद प्रतिनिधि मोती लाल गौड़, प्रमुख विशु हेंब्रम, उपप्रमुख विनय सिंहदेव, विधायक प्रतिनिधि धार्मा मुर्मू,  दाशमत मार्डी, कमलेश्वर महतो भुवनेश्वर महतो अनिल महतो सुरेश सिंह सिद्धू, झिंगी बंकिरा, छोटेलाल जारिका, मेघराय मार्डी, सलुका जारिका, गणेश माहली, हिमांशु प्रधान, बीजू बास्के, मनोज लोहार, सिकंदर हेम्ब्रम, नवीन कुमार प्रधान, विशु हेम्ब्रम, राष्ट्रपति सरदार, नील गिरी, हेमन्त सिंहदेव, चांदनी तापे, चामी मुर्मू एवं मुखिया लक्ष्मी टुडु ने अपने विचार रखे.

इसे भी पढ़ें – मोबाइल को लेकर हुए भाई से झगड़े के बाद युवती ने जहरीला फल खाकर आत्महत्या का प्रयास किया

advt
Adv

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: