DhanbadJharkhand

गांव की सरकार: दूसरे चरण की मतगणना जारी, धनबाद और बाघमारा से तपन, अलताफ और पुतुल रानी मुखिया निर्वाचित

Dhanbad: त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव का दूसरा चरण बाघमारा एवं धनबाद प्रखंड में हुआ है. दूसरे चरण के वोटों की गिनती शुरू हो चुकी है. परिणाम भी आने शुरू हो गए हैं. आज अपराह्न एक बजे तक धनबाद प्रखंड के नावाडीह पंचायत से तपन दत्ता मुखिया निर्वाचित हुए हैं. जबकि, बाघमारा प्रखंड के रघुनाथपुर पंचायत से मो अलताफ तथा फाटामहुल पंचायत से पुतुल रानी देवी मुखिया पद पर निर्वाचित घोषित किए गए हैं.

दूसरे चरण की मतगणना के दौरान गहमागहमी की स्थिति है. बाघमारा विधायक ढुल्लू महतो एवं कांग्रेस के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष जलेश्वर समर्थकों से पालिटेकनिक परिसर पटा हुआ है. हलांकि, ढुल्लू के परिवार से कोई भी सदस्य चुनाव नहीं लड़ रहा है. लेकिन, बाघमारा विधानसभा क्षेत्र की पांचों जिला परिषद सीटों पर भाजपा समर्थित प्रत्याशी हैं. सभी की जीत का झंडा ढुल्लू ने उठा रखा है.

वहीं महुदा से जलेश्वर की बहू रीना कुमारी मैदान में हैं. जलेश्वर महतो ने अपनी पुत्रवधू को जिला परिषद की 21 नंबर सीट से उतारा है. उनकी पुत्रवधू का मुकाबला यहां ढुल्लू महतो समर्थक भाजपा नेता शेखर सिंह की पत्नी से हुआ है. इधर ढुल्लू महतो के करीबी एवं भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा के महानगर अध्यक्ष गौरचंद बाउरी की पत्नी अंजना देवी का मुकाबला जलेश्वर समर्थित कांग्रेस नेता की पत्नी से है. अंजना देवी जिला परिषद की वर्तमान सदस्य हैं.

Chanakya IAS
Catalyst IAS
SIP abacus

यही कारण है कि माना जा रहा है कि पंचायत चुनाव को ढुल्लू महतो एवं जलेश्वर महतो दोनों ने अपने-अपने समर्थकों के लिए ताकत भी झोंका है. इस चुनाव के जरिए दोनों बाघमारा विधानसभा क्षेत्र में अपनी पकड़ की भी पड़ताल करेंगे. इस मुकाबले को विधानसभा चुनाव का सेमिफाइनल कहा जा रहा है.

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali

मतगणना स्थल के आसपास भारी भीड़ लगी है. अपने-अपने प्रत्याशियों के समर्थन में आए ग्रामीण भी यहां वहां पेड़ों के नीचे चादर बिछा कर बैठे दिख रहे हैं. उमस भरी गर्मी के बीच गांव की सरकार में अपना नाम दर्ज कराने की कोशिश में जुटे प्रत्याशियों की धड़कनें बढ़ी हुई है. अंदर मतगणना स्थल पर पसीना पोछते प्रत्याशी और उनके एजेंट पल दर पल मतगणना के रुझानों पर नजर रखते हुए अपना अपना जीत का गणित लगा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें: यूनियन का कार्यकाल 36 माह, 26 माह गुजर जाने के बाद भी चुनाव नहीं, अब हाई कोर्ट में केस कर जुस्को श्रमिक चुनाव कराने की मांग 

Related Articles

Back to top button