Main SliderNational

Vikas Dubey Encounter: 24 घंटे में सरेंडर से इनकाउंटर तक उठ रहे कई सवाल, जिनके जवाब यूपी पुलिस को देने होंगे

Kanpur: यूपी के कानपुर में दो जुलाई को आठ पुलिसवालों की हत्या का आरोपी विकास दूबे 10 जुलाई को मारा गया. घटना के बाद से यूपी पुलिस लगातार गैंगस्टर की खाक छान रही थी. 9 जुलाई को उज्जैन में मोस्ट वांटेड दुबे गिरफ्तार हुआ, हालांकि इस गिरफ्तारी पर भी कई सवाल उठे. वहीं 10 जुलाई को कानपुर हाईवे पर पुलिस एनकाउंटर में विकास ढेर हो गया.

गुरुवार सुबह ही विकास दुबे को मध्य प्रदेश के उज्जैन में महाकाल मंदिर के बाहर पुलिस ने गिरफ्तार किया था. इस दौरान पुलिस ने उससे पूछताछ शुरू कर दी थी. लेकिन सरेंडर के 24 घंटे के भीतर ही विकास दुबे मारा गया.

इसे भी पढ़ेंःVikas Dubey Encounter: यूपी STF की टीम ने किया ढेर, हथियार छीनकर भागने की कर रहा था कोशिश

advt

मैं विकास दुबे कानपुर वाला…

दो जुलाई को पुलिस टीम पर हुए हमले के बाद से ही यूपी पुलिस लगातार विकास दुबे की खोज में थी. इस दौरान उसके कई साथी पुलिस के हत्थे चढ़े, कुछ को पुलिस ने ढेर किया. लेकिन गुरुवार को बड़े ही नाटकीय ढंग से विकास दुबे की गिरफ्तारी हुई. मोस्ट वांटेड गैंगस्टर यूपी से मध्य प्रदेश के उज्जैन पहुंचता है.

वहां वो महाकाल के मंदिर जाता है. इस दौरान सुरक्षाकर्मियों को उस पर शक होता है. मंदिर से लौटने के बाद उससे पूछताछ होती है, इस बीच महाकाल थाने की पुलिस मौके पर पहुंचती है और उसे गिरफ्तार कर लेती है. इस दौरान विकास दुबे चिल्लाकर कहता है कि ‘मैं विकास दुबे हूं कानपुर वाला…इन्होंने मुझे पकड़ लिया है…’

इसके बाद विकास से एक अज्ञात जगह पर पूछताछ की जाती है. और गुरुवार देर शाम यूपी एसटीएफ विकास दुबे को लेकर उज्जैन से यूपी के कानपुर के लिए रवाना होती है. लेकिन शुक्रवार सुबह करीब साढ़े छह बजे यूपी एसटीएफ के काफिले के एक्सीडेंट की खबर आई. तेज रफ्तार से चल रही गाड़ी अचानक पलट गई, जिसके बाद विकास दुबे ने भागने की कोशिश की और मारा गया.

इसे भी पढ़ेंःबिहार: लगातार दूसरे दिन Corona के 700 से अधिक केस, संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 14 हजार के करीब

adv

उठ रहे कई सवाल

यूपी पुलिस की माने तो विकास दुबे को लेकर आ रही एसटीएफ की गाड़ी पलट गयी. जिसके बाद विकास दुबे पुलिस वालों के हथियार छीनकर भागने की कोशिश करता है. और इसी जवाबी कार्रवाई में गैंगस्टर विकास दुबे पुलिस की गोली का शिकार हो जाता है. लेकिन अब इस मुठभेड़ को लेकर कई बड़े सवाल उठ रहे हैं, जिनके जवाब यूपी पुलिस को देने हैं.

  1. विकास दुबे को लेकर आ रही गाड़ी का एक्सीडेंट कैसे हुआ?
  2. एसटीएफ की गाड़ी किन हालात में पलटी?
  3. क्या गाड़ी के एक्सीडेंट होने के बाद विकास दुबे इस हालत में था कि हादसे के तुरंत बाद उसने पुलिस के हथियार छीन लिए?
  4. क्या एसटीएफ ने विकास दुबे को कानपुर लाते समय सावधानी नहीं बरती?
  5. कानपुर हाइवे पर हुए इस इनकाउंटर में पहले फायरिंग किसके ओर से हुई, विकास दुबे ने पहले पुलिस पर फायर किया या पुलिस ने उसे रोकने के लिए गोली चलाई?
  6. इस एनकाउंटर में दोनों तरफ से कितनी राउंड गोली चली?
  7. जिस विकास दुबे ने खुद उज्जैन में चिल्ला चिल्लाकर मीडिया के सामने गिरफ्तारी दी थी. शुक्रवार की सुबह अचानक उसने भागने का मन कैसे बना लिया?
  8. यूपी पुलिस की गाड़ियों के साथ इतने हादसे क्यों, 24 घंटे में पुलिस की एक गाड़ी पंचर हुई, दूसरी गाड़ी पलटी
  9. क्या विकास को हथकड़ी नहीं लगाई गई थी?
  10. क्या मुठभेड़ में सीने पर गोली मारी जाती है?
  11. इस पूरे एनकाउंटर के बारे में पुलिस और एसटीएफ के जवान जवाब देने से क्यों कतरा रहे हैं?

इसे भी पढ़ेंःबिहारः महागठबंधन में मतभेद को कांग्रेस ने किया खारिज, गोहिल बोले- सब चंगा है

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button