Bihar Updates

बिहार विधानसभा के अध्यक्ष बने विजय सिन्हा, लखीसराय से लगातार तीसरी बार मिली है जीत

Patna : बिहार विधानसभा में महागठबंधन की जमकर मोर्चेबंदी के बावजूद NDA उम्मीदवार विजय कुमार सिन्हा स्पीकर चुन लिए गये. आखिरी वक्त पर जदयू के व्हिप ने भाजपा को स्पीकर की कुर्सी दिलाई. इस चुनाव से पहले जमकर उठापटक हुई. पटना से करीब 350 किलोमीटर दूर रांची में चारा घोटाले की सजा काट रहे लालू प्रसाद यादव ने भी भाजपा विधायकों को अपने पक्ष में करने की कोशिश की. लेकिन उनका चारा काम न आया.

विजय सिन्हा लगातार तीसरी बार लखीसराय से भाजपा के टिकट पर चुनाव जीते हैं. पिछली सरकार में वह श्रम संसाधन मंत्री थे. श्री सिन्हा के पक्ष में 126 और विपक्ष में 114 वोट मिले. एनडीए की ओर से भाजपा के विधायक विजय कुमार सिन्हा उम्मीदवार थे. जबकि महागठबंधन की ओर से अवध बिहार चौधरी प्रत्याशी बनाए गये थे. प्रदेश में 51 साल बाद विधानसभा अध्यक्ष पद को लेकर वोटिंग हुई.

इसे भी पढ़ेंः वृद्ध माता को मिली छत, व्हीलचेयर-कपड़े-कंबल लेकर पहुंची टीम, न्यूजविंग की खबर पर सीएम का एक्शन

वोटिंग से पहले जमकर हंगामा हुआ

नए स्पीकर सिन्हा लखीसराय से भाजपा विधायक हैं. वे मंत्री भी रह चुके हैं. उनके चुनाव से पहले विधानसभा में जमकर हंगामा हुआ. विपक्षी सांसद वेल में आ गये और सीएम नीतीश कुमार की मौजूदगी का विरोध करने लगे. दो घंटे तक हंगामा चलता रहा.

पूर्व सीएम जीतनराम मांझी को प्रोटेम स्पीकर बनाया गया था. वे वॉइस वोट से स्पीकर का चुनाव कराना चाहते थे, लेकिन विपक्ष राजी नहीं था. विपक्ष इस बात पर भी अड़ा हुआ था कि जब सीएम नीतीश कुमार और दो मंत्री अशोक चौधरी और मुकेश सहनी नई विधानसभा के सदस्य नहीं हैं तो उन्हें मतदान प्रक्रिया के दौरान सदन से बाहर किया जाए और सीक्रेट बैलेट से वोटिंग कराई जाए.

इसे भी पढ़ेंः ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट : भयभीत न हों… करेंसी  नोटों के जरिए कोरोना वायरस फैलने का खतरा बेहद कम…

विपक्ष वेल तक आया, सीएम को बाहर जाना पड़ा

विपक्ष के सदस्य वेल में बैठ गये और नारेबाजी करने लगे. जब विपक्ष का बवाल नहीं थमा तो प्रोटेम स्पीकर मांझी ने विधान परिषद के सदस्य नीतीश कुमार और दोनों मंत्रियों चौधरी और सहनी को बाहर जाने को कहा. दोपहर 12 बजे करीब 5 मिनट के लिए सदन स्थगित करा दिया.

सिन्हा के पक्ष में 126 वोट और विरोध में 114 वोट पड़े

इसके बाद सदन जब दोबारा बैठा, तब भी विपक्ष ने सीक्रेट वोटिंग की मांग जारी रखी. प्रोटेम स्पीकर ने सत्तापक्ष और विपक्ष के सदस्यों को बारी-बारी से खड़ा कर वोटों की गिनती कराई. इसके बाद दोपहर करीब पौने एक बजे प्रोटेम स्पीकर ने NDA प्रत्याशी सिन्हा को स्पीकर घोषित कर दिया. सिन्हा के पक्ष में 126 वोट और विरोध में 114 वोट पड़े. हंगामे के बीच नए अध्यक्ष को तेजस्वी यादव और नीतीश कुमार ने आसन पर बैठाया. मांझी ने प्रोटेम स्पीकर होने की वजह से वोट नहीं दिया, जबकि बसपा के दो विधायक गैर-हाजिर रहे.

इसे भी पढ़ेंः राज्य के इंजीनियरिंग कॉलेजों में लेटरल एंट्री के लिए दो दिसंबर तक करें आवेदन, नौ को जारी होगी फाइनल मेरिट लिस्ट

नीतीश ने स्पीकर को बधाई दी, तेजस्वी बोले- निष्पक्ष रहना होगा

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने विजय सिन्हा के लिए कहा कि आपको नियमानुसार कार्य का संचालन करना है. आप मंत्री भी रहे हैं, विश्वास है कि आप विधानसभा अध्यक्ष का कार्यभार अच्छे से निभाएंगे. सभी लोगों को अपनी बात रखने का अधिकार है, नए अध्यक्ष नियमानुसार कार्यवाही संचालित करेंगे. मैं नए स्पीकर को बधाई देता हूं.

तेजस्वी ने भी सिन्हा को बधाई दी. कहा- आसन को निष्पक्ष होना होगा. ये जिम्मेदारी भरा पद है, ये जिम्मेदारी आपको निभानी होगी.

इसे भी पढ़ेंः कांग्रेस  के दिग्गज नेता अहमद पटेल नहीं रहे, पीएम मोदी ने शोक व्यक्त किया…

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: