न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

विजय माल्या पर घमासान, आरोप-प्रत्यारोप जारी, माल्या किसके, भाजपा के या कांग्रेस के   

शराब कारोबारी विजय माल्या द्वारा वित्त मंत्री से मुलाकात को लेकर दिये गये बयान के बाद पक्ष-विपक्ष में धमासान मचा हुआ है.

183

NewDelhi : शराब कारोबारी विजय माल्या द्वारा वित्त मंत्री से मुलाकात को लेकर दिये गये बयान के बाद पक्ष-विपक्ष में धमासान मचा हुआ है. आरोप प्रत्यारोप का दौर जारी है. भाजपा के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि माल्या के इस आरोप के पीछे बड़ा षड्यंत्र है. भाजपा इसे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से जोड़ कर देख रही है. श्री प्रसाद ने आरोप लगाया कि क्या किसी ने नोटिस किया है कि राहुल गांधी के लंदन दौरे के बाद ही माल्या ने ऐसा आरोप क्यों लगाया? रविशंकर प्रसाद ने पूछा कि क्या माल्या के आरोप और राहुल गांधी का कोई कनेक्शन है? गुरुवार को उन्होंने पत्रकारों से कहा कि सारे आरोप बिल्कुल बेबुनियाद हैं.

कहा कि अरुण जेटली ने स्पष्ट कर दिया है कि माल्या ने जबर्दस्ती संसद के गलियारे में मिलने की कोशिश की, तो उन्होंने उसे झटक दिया कि आप बैंकों के पास जाइए. प्रसाद ने आरोप लगाया कि 1947 से 2008 के बीच भारतीय बैंकों ने 18 लाख करोड़ रुपये का लोन दिया, जबकि 2008-14 में यह बढ़कर 52 लाख करोड़ हो गया. इसका कांग्रेस को जवाब देना चाहिए.

इसे भी पढ़ेंःझारखंड से किनारा कर रहे IAS अधिकारी, 11 चले गये 4 जाने की तैयारी में

 माल्या के प्रति गांधी परिवार की नरमी की क्या वजह थी

भाजपा के प्रवक्ता संबित पात्रा ने भी प्रेस कॉन्फ्रेंस कर विजय माल्या और किंगफिशर एयरलाइंस को लेकर राहुल गांधी पर गंभीर आरोप लगाये. कहा कि कांग्रेस की पिछली सरकार और गांधी परिवार ने विजय माल्या और उसकी किंगफिशर एयरलाइंस के लिए नियम-कानूनों को दरकिनार कर दिया. उन्होंने राहुल गांधी से सवाल किया कि किंगफिशर एयरलाइंस और माल्या के प्रति गांधी परिवार की नरमी की क्या वजह थी, उन्हें प्रेस कॉन्फ्रेंस कर स्पष्ट करना चाहिए. पात्रा ने कहा, राहुल आजकल बेवजह की बातों को ट्वीट करते हैं. आप बेल बॉन्ड पर बाहर हैं आपको भ्रष्टाचार की बात करने का कोई हक नहीं है.

पात्रा ने आरोप लगाया कि नोटबंदी के कारण राहुल गांधी हायतौबा मचा रहे थे क्योंकि हवाला के जरिए काले धन को सफेद किया जा रहा था. उन्होंने पूछा कि राहुल गांधी आपने हवाला के जरिए कितना पैसा सफेद किया है. गांधी परिवार का कितना पैसा ऐसी कंपनियों में लगा है?

इसे भी पढ़ें- घुटन में माइनॉरटी IAS ! सरकार पर आरोप- धर्म देखकर साइड किए जाते हैं अधिकारी

मैंने माल्या को मुलाकात के लिए कोई अपॉइंटमेंट नहीं दिया

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने ब्लॉग लिखकर माल्या के आरोपों को खारिज किया है. अपने ब्लॉग में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने लिखा, विजय माल्या ने कहा कि वह भारत छोड़ने से पहले सेटलमेंट ऑफर को लेकर मुझसे मिले थे. तथ्यात्मक रूप से यह बयान पूरी तरह झूठ है. 2014 से अब तक मैंने माल्या को मुलाकात के लिए कोई अपॉइंटमेंट नहीं दिया है, ऐसे में मुझसे मिलने का सवाल ही नहीं उठता. अपने ब्लॉग में जेटली ने कहा, हालांकि वह राज्यसभा सदस्य थे और कभी-कभी सदन में आते थे. सदन की कार्रवाई के बाद एक बार मैं अपने कमरे की तरफ जा रह था. वह दौड़ते हुए मेरी तरफ आये थे.

palamu_12

इस दौरान उन्होंने कहा था, मैं सेटलमेंट के लिए एक ऑफर तैयार कर रहा हूं. मैंने उनके ऑफर को जानने की भी कोशिश नहीं की. मैंने माल्या से कहा, मेरे सामने ऑफर रखने का कोई मतलब ही नहीं है, उन्हें यह बात अपने बैंकों के सामने रखनी चाहिए.

इस पर विजय माल्या ने सफाई देते हुए कहा, मैंने संसद में उनसे मुलाकात की थी और उन्हें बताया था कि मैं लंदन के लिए निकल रहा हूं. उनके साथ मेरी कोई अधिकारिक मुलाकात नहीं हुई. इसके बाद समय के साथ मैंने संसद में कई सहयोगियों से मुलाकात की और अपने बकाये को सेटल करने की इच्छा के बारे में बताया.

इसे भी पढ़ें- सांसद रामटहल चौधरी पर ST/SC अधिनियम के तहत प्राथमिकी दर्ज

क्या जेटली जी को पीएम मोदी से ऑर्डर आया था : राहुल

राहुल गांधी ने अरुण जेटली पर हमलावर होते हुए कहा कि वे यह साफ करें  किमाल्या से क्या बात हुई, जेटली ने कहा कि कॉरिडोर में आकर माल्या ने जेटली को बताया कि वह लंदन भाग रहा है तो फिर आपने सीबीआई या ईडी को क्यों नहीं बताया जेटली माल्या से करीब 15 से 20 मिनट तक मिले. जेटली झूठ बोल रहे हैं.  प्रधानमंत्री की भूमिका पर सवाल उठाने के प्रश्न पर राहुल ने कहा, और क्या? बिल्कुल… बतायें कि क्या जेटली जी को पीएम मोदी से ऑर्डर आया था और जेटली जी तो मोदीजी की ही बात सुनते हैं.

सरकार विजय माल्या पर और राफेल पर झूठ बोल रही है. वित्त मंत्री ने एक आर्थिक अपराधी की भागने में मदद की है. राहुल ने आरोप लगाया कि अरेस्ट नोटिस को सूचना नोटिस में किसने बदला? वित्त मंत्री साफ करें कि क्या उनके लेवल पर डील हुई है या उनको ऊपर से ऑर्डर मिले थे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: