Khas-KhabarRanchi

मधुपूर उपचुनाव के लिये विधानसभा ने भेजा रिक्विजिशन, मंत्री हाजी हुसैन असांरी की मौत के बाद खाली हुई सीट

Ranchi: मधुपूर विधानसभा सीट पिछले एक महीने से खाली है. मंत्री सह विधायक हाजी हुसैन अंसारी की मौत के बाद से ये सीट खाली है. अब विधानसभा और चुनाव आयोग की ओर से इस पर पहल की जा रही है. कुछ दिन पहले विधानसभा से राज्य निर्वाचन आयोग को इस संबध में रिक्विजिशन भेजा गया है. जिसमें चुनाव आयोग को इस सीट पर उपचुनाव कराने की मांग की गयी है. वहीं राज्य निर्वाचन आयोग की ओर से विधानसभा के रिक्विजिशन को चुनाव आयोग भेज दिया गया है.

Jharkhand Rai

इसे भी पढ़ेंः Corona Update: देश में कम हुई संक्रमण की रफ्तार लेकिन दिल्ली बनी चिंता का सबब

राज्य निर्वाचन आयोग के संयुक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी हीरा लाल मंडल ने बताया कि रिक्विजिशन देर से मिलने के कारण इस सीट पर अलग से उपचुनाव किया जायेगा. लगभग चार दिन पहले आयोग को विधानसभा से रिक्विजिशन मिला. जिससे चुनाव आयोग भेज दिया गया है. बता दें कि मधूपुर विधानसभा सीट देवघर जिला अंतर्गत है.

अगल से तय की जायेगी तारीख

राज्य निर्वाचन आयोग से जानकारी मिली कि विधानसभा से देर में रिक्विजिशन भेजा गया है. समय रहते ये रिक्विजिशन भेजा जाता तो इसी चुनाव में इस सीट पर भी उपचुनाव संभव होता. लेकिन अब बेरमो और दुमका में तीन नवंबर को चुनाव होने हैं.

Samford

बता दें कि मधुपूर विधायक सह मंत्री हाजी हुसैन असांरी की मौत तीन अक्टूबर को हो गयी. हेमंत सरकार में वे अल्पसंख्यक कल्याण और निबंधन विभाग के मंत्री रहे. कोरोना संक्रमित होने से मंत्री की मौत हुई थी. इसके बाद से ये सीट खाली है. बता दें विधानसभा सीट किसी भी स्थिति में खाली होने पर चुनाव आयोग को छह महीने में उस सीट के लिये उपचुनाव कराना है.

इसे भी पढ़ेंः खिलाड़ियों की सीधी नियुक्ति के लिए फिर से जारी हुआ विज्ञापन, 20 नवंबर तक मांगे गये हैं आवेदन

दुमका और बेरमो उपचुनाव तीन नवंबर को

राज्य में दुमका और बेरमो विधानसभा सीट पहले से खाली है. जहां मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने दुमका और बरहेट में 2019 चुनाव में जीत हासिल की थी. जिसके बाद मुख्यमंत्री ने दुमका सीट छोड़, बरहेट से विधायिकी जारी रखी. वहीं बेरमो विधायक राजेंद्र सिंह की मौत इसी साल मई में हुई. जिसके बाद इन दोनों सीटों पर बिहार चुनाव के साथ उपचुनाव कराने का निर्णय चुनाव आयेाग ने लिया. हालांकि कोरोना महामारी के कारण इसमें देर हुई.

इसे भी पढ़ेंः  डरना जरूरी है…कोरोना वायरस को छोड़िए…  दुनिया में मौजूद हैं 850,000 अज्ञात खतरनाक वायरस : रिपोर्ट

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: