न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

विधानसभा समिति ने जल संसाधन विभाग के घोटाले की जांच की अनुशंसा की

27

सभापति ने डीसी के लेट आने पर जाहिर की नाराजगी

Giridih: शून्य-प्रश्नकाल सह ध्यानाकषर्ण समिति की बैठक में समिति ने कई पदाधिकारियों को फटकार लगायी. बैठक में गिरिडीह डीसी डॉ नेहा अरोड़ा की खिंचाई करने के साथ बैठक में लेट आने पर सूबे के मुख्य सचिव को रिपोर्ट भेजने की बात कही गयी. एसपी सुरेन्द्र झा के प्रति भी समिति के सभापति सह निरसा विधायक अरूप चटर्जी की नाराजगी देखने को मिली.

नाराज हुए समिति के अध्‍यक्ष

जिस वक्त शहर के सर्किट हाउस में समिति की बैठक शुरू हुई. उस वक्त डीसी नेहा अरोड़ा समाहरणालय स्थित अपने कोर्ट में बहस सुन रही थीं. इसके बाद समिति के सभापति निरसा विधायक अरूप चटर्जी का पारा गर्म हो गया. सभापति ने योजना पदाधिकारी को भी जमकर खरीखोटी सुनायी. वैसे ध्यानाकषर्ण समिति की बैठक में कई विभागीय पदाधिकारियों के अनुपस्थित रहने पर समिति कड़ी नाराजगी जाहिर की.

गड़बड़ी के सवालों का अधिकारियों से नहीं मिला जवाब

silk_park

इधर सर्किट हाउस में शुरू हुई बैठक में समिति के सदस्य सह धनवार विधायक राजकुमार यादव ने धनवार के भूधरणी में जल संसाधन विभाग द्वारा 2 करोड़ की लागत से बने चेक डैम में गड़बड़ी पर सवाल उठाया. जिसका जवाब जल संसाधन विभाग के पदाधिकारियों के पास नहीं होने पर समिति के सुझाव पर घोटाले की जांच जिला स्तरीय जांच कमेटी से जांच कराने का निर्देश दिया गया. इस दौरान धनवार विधायक ने बताया कि योजना साल 2017 की थी. जिसमें पहले से बने डैम के पानी को पाइपलाईन लिफ्ट के माध्यम से खेत तक पहुंचाना था. जिसे विभाग की ओर से नहीं किया गया. हैरत की बात यह भी रही कि विभाग से योजना लेने वाले संवेदक ने धनवार के एक पेटी संवेदक उदय सिंह को योजना दे दिया. क्योंकि पूरे मामले में राशि के हुए बंदरबाट साफ साबित होता है. ऐसे में योजना की जांच होना जरूरी हो जाती है.

और भी कई ज्‍वलंत मुद्दों पर हुई चर्चा

वहीं बैठक में ही एससी/एसटी से जुड़े लंबित केसों से जुड़े सवाल भी उठाये गये. जिसमें समिति ने बैठक में मौजूद डीएसपी वन नवीन सिंह से पूछे जाने पर डीएसपी सवाल का जवाब नहीं दे पाये. इस पर समिति ने नाराजगी जाहिर कर समय पर जवाबों का रिपोर्ट भेजने का निर्देश दिया. इस दौरान समिति ने केसों को लेकर पूछा कि अब तक कितने केस दर्ज हुए हैं, कितने केसों का निष्पादन कर लिया गया है. इसी प्रकार गिरिडीह में प्रस्तावित पालिटेक्नीक कॉलेज निर्माण का जवाब मांगे जाने पर बैठक से शिक्षा विभाग के पदाधिकारी के अनुपस्थित रहने पर भी डीसी को विभागीय पदाधिकारियों से रिपोर्ट भेजने का निर्देश दिया गया. वहीं बैठक में गांवा के पीहरा में अधूरे पड़े स्वास्थ्य केन्द्र के साथ गांवा के गोयरी नदी में अधूरे सिंचाई डैम का सवाल भी उठा. जबकि डुमरी विधायक जगरन्नाथ महतो ने डीसी से गिरिडीह में भूमिहीन परिवार की संख्या की रिपोर्ट मांगी. जिस पर डीसी ने भरोसा दिलाया कि जल्द ही समिति को इसकी रिपोर्ट भेजी जाएगी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: