Corona_UpdatesLead NewsNationalWorld

Video: कोरोना का खौफ, चीन ने लगाया ‘क्रूर लॉकडाउन’, छोटे से मेटल बॉक्स में कैद किया हजारों लोगों को

2 करोड़ से ज्याादा लोग सख्ती लॉकडाउन के घेरे में

New Delhi : कोरोना ने पूरी दुनिया में कहर बरपा रखा है. कई देशों ने कोरोना की रोकथाम के लिए कड़े प्रतिबंध भी लगाए हैं. वहीं चीन ने तो कोरोना के खौफ से अब तक का सबसे कठोरतम लॉकडाउन लगा दिया है.
चीन ने कोरोना के नए वैरिएंट को रोकने के लिए सख्त कदम उठाया है. यहां कोरोना के डर से करोड़ों लोग घरों में कैद हैं. यहां कोरोना का इतना खौफ है कि कुछ लोगों को मेटल के छोटे से बॉक्स में बंद कर दिया गया है. कोरोना के डर से लोग इस मेटल बॉक्स में रहने को मजबूर हो रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : ग्रामीण हाट-बाजारों में टुसू पर उमड़ रही है भीड़, गाइड-लाइन का  पालन कराने वाला कोई नहीं

उठाए सख्त कदम

रिपोर्ट के अनुसार, चीन के शियान शहर में करीब सवा करोड़ और योझोयु शहर में करीब 10 लाख लोग लॉकडाउन की वजह से अपने घरों में कैद हैं. वहीं अनयांग शहर में 55 लाख लोग भी घरों में कैद हो गए हैं.
वहीं डेली मेल की रिपोर्ट के अनुसार, चीन ने कोरोना वायरस के नए वैरिएंट की रोकथाम के लिए सख्त नियम लागू किए हैं. इस वजह से चीन में ‘जीरो कोविड पॉलिसी’ के तहत करीब 2 करोड़ से ज्या दा लोग सख्तर लॉकडाउन के घेरे में हैं और अपने घरों में बंद रहने को मजबूर हैं.

इसे भी पढ़ें : पटना जंक्शन पर तैनात पांच टीटीई सस्पेंड, एक यात्री के कंप्लेन पर हुई कार्रवाई

मेटल बॉक्स में बंद किया लोगों को

एक रिपोर्ट के अनुसार, चीन को कोरोना का डर इस कदर सता रहा है कि सिर्फ कोरोना की आशंका के चलते लोगों को छोटे से मेटल बॉक्स में दो हफ्तों के लिए रखा जा रहा है. इस मेटल बॉक्स में एक बेड और टॉयलेट है. चीनी मीडिया ने मेटल बॉक्सए में क्वाशरंटीन लोगों की तस्वीबरें शेयर की हैं. इन तस्वीरों में दिखाया गया है कि 108 एकड़ में बने क्वारंटीन कैंपस में किस तरह से हजारों लोगों को रखा जा रहा है.

इसे भी पढ़ें : आदित्यपुर के डिप्टी मेयर को धमकी देने वाला आशीष नेपाल बॉर्डर से गिरफ्तार

मेटल बॉक्से में बंद लोगों के बुरे अनुभव

इस मेटल बॉक्स में क्वाबरंटीन से निकले लोगों ने अपने अनुभव साझा किए. उन्होंने बताया कि ठंडे मेटल बॉक्से में उन्हें बहुत ही कम भोजन मिलता था. साथ ही उन्होंने बताया कि यहां उन्हें जबरन बसों में भरकर लाया गया. साथ ही उन्होंने बताया कि यहां कुछ भी नहीं सिर्फ बुनियादी जरूरते हैं. बुजुर्गों, बच्चोंथ और गर्भवती महिलाओं को भी इसमें रखा जाता है.

इसे भी पढ़ें : जंगल छोड़कर शहर के पॉश इलाके में नक्सलियों ने ले रखा है पनाह, पुलिस की सिरदर्दी बढ़ी

Advt

Related Articles

Back to top button