न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

विहिप की धर्मसंसद : संतों को है पीएम मोदी पर विश्वास, लोकसभा चुनाव तक राम मंदिर आंदोलन स्थगित

धर्म संसद में शुक्रवार को कहा गया कि केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी देकर देकर अपनी प्रतिबद्धता जाहिर कर दी है.  संतों को मोदी सरकार पर पूरा भरोसा है.

42

Prayagraj :  विहिप की धर्म संसद में दूसरे दिन शुक्रवार को लिये गये फैसले से मोदी सरकार को राहम मिली है. बता दें कि संतों ने पीएम मोदी पर भरोसा जताते हुए लोकसभा चुनाव तक राम मंदिर निर्माण को लेकर आंदोलन स्थगित करने की बात कही है.  धर्म संसद में शुक्रवार को कहा गया कि केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी देकर देकर अपनी प्रतिबद्धता जाहिर कर दी है.  संतों को मोदी सरकार पर पूरा भरोसा है.  हालंकि पहले दिन  हिंदुओं की आस्था पर चोट करार देते हुए अयोध्या जैसे आंदोलन की घोषणा की गयी थी.  स्वामी वासुदेवानंद की अध्यक्षता तथा राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सर संघचालक मोहन भागवत, योग गुरु रामदेव समेत अनेक साधु संतों की मौजूदगी में हिंदू समाज के विघटन का षड्यंत्र रोकने का प्रस्ताव भी पारित किया गया. बता दें कि गुरुवार को पूरे दिन कवायद चलती रही. संघ, सरकार और संत तीनों अपनी-अपनी जिम्मेदारी के अनुसार रणनीति बनाने में व्यस्त रहे.

इस कवायद से यह बात निकलकर आयी  कि कुंभ क्षेत्र में मंदिर पर कोई चौंकाने वाला फैसला आ सकता है. जानकारी के अनुसार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और संघ प्रमुख मोहन भागवत के बीच लगभ्ळाग डेढ़ घंटे तक चली वार्ता का मुख्य विषय राम मंदिर निर्माण रहा था. मुख्यमंत्री कुंभ क्षेत्र में संघ प्रमुख से मिलकर मंदिर मसले पर सरकार की स्थिति स्पष्ट करने आये थे.

सरकार मंदिर निर्माण करने पर दृढ़ प्रतिज्ञ

Related Posts

पूर्व सीजेआई आरएम लोढा हुए साइबर ठगी के शिकार, एक लाख रुपए गंवाये

साइबर ठगों ने  पूर्व सीजेआई आरएम लोढा को निशाना बनाते हुए एक लाख रुपए ठग लिये.  खबर है कि ठगों ने जस्टिस आरएम लोढा के करीबी दोस्त के ईमेल अकाउंट से संदेश भेजकर एक लाख रुपए  की ठगी कर ली.

SMILE

मुख्यमंत्री ने संघ प्रमुख से बताया कि सरकार मंदिर निर्माण करने पर दृढ़ प्रतिज्ञ है, लेकिन कोर्ट की वजह से इसमें समय लग रहा है.  इस वजह से सरकार चाहकर भी इसमें जल्दीबाजी नहीं कर पा रही है.  इसी तरह संतों से मुलाकात के दौरान  मुख्यमंत्री ने मंदिर निर्माण पर सरकार का समर्थन मांगा. योगी ने शंकराचार्य निश्चलानंद को आश्वस्त किया कि अयोध्या में मंदिर अवश्य बनेगा लेकिन इसमें उसे मोहलत चाहिए. पहले दिन की धर्म संसद के समापन के बाद मोहन भागवत, सह सर कार्यवाह कृष्णगोपाल, विहिप के केंद्रीय अध्यक्ष वीएस कोंकजे, केंद्रीय महामंत्री मिलिंद परांडे के बीच शुक्रवार को मंदिर मुद्दे पर होने वाली धर्म संसद को लेकर बैठक हुई.  जिसमें संतों में मंदिर निर्माण में देरी से चल रही नाराजगी को दूर करने और मंदिर पर किस तरह का फैसला लिया जाये, इस पर मंथन किया गया. बैठक में बाद पहली फरवरी की धर्म संसद के प्रस्ताव की रिपोर्ट में क्या-क्या लिखा जायेगा, यह भी पदाधिकारियों के बीच तय हुआ.

से भी पढ़े :  बजट 2019 अपडेटः मीडिल क्लास को बड़ी राहत- इनकम टैक्स स्लैब में बदलाव, 5 लाख रुपए आय तक में कोई टैक्स नहीं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: