न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सब्जियों की कीमतों में उछाल, #RBI ने दूसरी छमाही के लिए बढ़ाया इनफ्लेशन का अनुमान

573

Mumbai: भारतीय रिजर्व बैंक ने चालू वित्त वर्ष की दूसरी छमाही के लिए अपने इनफ्लेशन के अनुमान को बढ़ाकर 5.1- 4.7 प्रतिशत कर दिया है.

मुख्य रूप से प्याज और टमाटर जैसी सब्जियों की कीमतों में उछाल को देखते हुये केंद्रीय बैंक ने इनफ्लेशन का अनुमान बढ़ाया है. रिजर्व बैंक ने इससे पहले चालू वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में खुदरा मुद्रास्फीति के 3.5 से 3.7 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया था.

Sport House

इसे भी पढ़ें- #Zero_Tolerance वाली रघुवर सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि भी हो गयी दागदार

क्या कहा रिजर्व बैंक ने

रिजर्व बैंक ने गुरुवार को चालू वित्त वर्ष की पांचवीं द्विमासिक मौद्रिक समीक्षा में कहा कि आगे चलकर मुद्रास्फीति का परिदृश्य कई कारकों से प्रभावित होगा. सब्जियों की कीमतों में तेजी आने वाले महीनों में जारी रह सकती है.

हालांकि, खरीफ फसल की आवक बढ़ने और सरकार द्वारा आयात के जरिये आपूर्ति बढ़ाने के प्रयासों से फरवरी, 2020 की शुरुआत में सब्जियों के दाम नीचे लाने में मदद मिलेगी.

Mayfair 2-1-2020

केंद्रीय बैंक ने कहा कि दूध, दालों और चीनी जैसे खाद्य उत्पादों में कीमतों पर जो शुरुआती दबाव दिख रहा है, वह अभी कायम रहेगा. इससे खाद्य मुद्रास्फीति प्रभावित होगी. अक्टूबर में खुदरा मुद्रास्फीति बढ़कर 4.6 प्रतिशत पर पहुंच गयी. मुख्य रूप से खाद्य वस्तुएं महंगी होने से खुदरा मुद्रास्फीति बढ़ी है.

इसे भी पढ़ें- महंगाई की #Onion पर मार, चुप क्यों है मोदी सरकार.. कांग्रेस  ने संसद में प्रदर्शन किया, पी चिदंबरम भी  शामिल हुए

प्याज की कीमतों में उल्लेखनीय इजाफा

उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) को प्रभावित करने में खाद्य मुद्रास्फीति का प्रमुख योगदान रहा. अक्टूबर में खाद्य मुद्रास्फीति बढ़कर 6.9 प्रतिशत पर पहुंच गयी, जो 39 माह का उच्चस्तर रहा है.

विशेषरूप से प्याज की कीमतों में उल्लेखनीय इजाफा हुआ है. सितंबर में प्याज की कीमतें जहां 45.3 प्रतिशत चढ़ गयीं, वहीं अक्टूबर में इसमें 19.6 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई.

इसके साथ ही फल, दूध, दलहन और अनाज के दाम में वृद्धि हुई है. इनकी वृद्धि के पीछे विभिन्न कारक परिलक्षित हुये हैं. जहां दूध के मामले में चारे के दाम बढ़ना वजह रही है वहीं दालों में उत्पादन और बुवाई क्षेत्रफल कम होना वजह रही है. चीनी उत्पादन कम होने के कारण अक्टूबर माह में चीनी के दाम गिरावट से उबर गये.

SP Jamshedpur 24/01/2020-30/01/2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like