ChaibasaJamshedpurJharkhandKhas-Khabar

Jamshedpur : यहां शराब के शौकीनों की बढ़ी मुसीबत, Beer के साथ Whiskey के कई ब्रांडों की शॉर्टेज

Jamshedpur : शहर के शराब पीने के शौकीनों की मुसीबत बढ़ गई है. इसकी वजह बीयर के साथ व्हीस्की के कई जाने-माने ब्रांडों का शॉर्टेज होना है. यह स्थिति जाने-माने बीयर और व्हीस्की के ब्रांड को लेकर ही बनी हुई है. क्योंकि फिलहाल लोग गर्मी के मौसम की मार झेलने पर विवश हैं. ऐसे में गिने-चुने लोग ही रम का इस्तेमाल करते हैं. इसके अलावा शराब के अधिकांश शौकीन इस सीजन में गले को तर करने के लिए ज्यादातर बीयर का ही इस्तेमाल करते हैं. वहीं ऐसे शौकीनों की भी कमी नहीं है जो मौसम कोई भी हो, लेकिन व्हीस्की पियेंगे तो पियेंगे, वह भी अपने मनपसंद ब्राड के ही. यह अलग बात है कि कौन किस ब्रांड को पसंद करता है.

पर यहां हालात यह है कि बीयर और व्हीस्की के शॉर्टेज की वजह से शराब पीने के शौकीन ही नहीं, लाइसेंसी दुकानदार (खुदरा विक्रेता) तक ज्यादा परेशान हैं. उनका कहना है कि डीपो में माल ही नहीं है. उन्हें महीने का कोटा उठाना तक मुश्किल हो गया है. शहर के एक जाने-माने शराब के लाइसेंसी ने बताया कि अप्रैल महीना आधा खत्म हो गया है, फिर भी उन्हें इस महीने का कोटा अब तक नहीं मिला है. अब देखते हैं क्या स्थिति रहती है, उसी के अनुसार माल आने पर कोटे का उठाव किया जाएगा. उस दुकानदार ने तो यहां तक कहा कि सिर्फ जमशेदपुर और कोल्हान का ही यह हाल नहीं है, बल्कि ले-देकर पूरे झारखंड का यह हाल बना हुआ है. इससे सारे लाइसेंसधारी परेशान हैं क्योंकि इस स्थिति में उन्हें भारी घाटा उठाना पड़ रहा है.
बीयर और व्हीस्की के इन ब्रांडों की है कमी
किंगफिशर, थंडर बोल्ट, टुबर्ग, गाॅडफादर समेत बीयर के बोतलों के साथ केन बीयर के अलावा व्हीस्की के मैक्डॉवल नंबर-वन, रॉयल स्टैग, रॉयल चैंलेंग, इंपीरियल ब्लू, ऑफिसर्स चॉइस, इंपेरियल ब्लू और स्टर्लिंग सेवन और टेन समेत ब्लेंडर्स प्राइड जैसे ब्रांडों की कमी हो गई है. यह शराब पीने के शौकीनों के साथ लाइसेंसधारियों के लिए भी परेशानी का सबब बना हुआ है.
चाईबासा के चैंबर का प्रतिनिधिमंडल प्रशासन के समक्ष उठा चुका है मामला
हालात यह है कि इस मामले में चाईबासा चैंबर ऑफ कॉमर्स का प्रतिनिधिमंडल बीते बुधवार को ही जिले के उपायुक्त से मुलाकात की थी. उनका कहना था कि बीयर और शराब के विभिन्न ब्रांडो का स्टॉक उपलब्ध नहीं होने पर पूरे जिले के लाइसेंसीधारियों को कुल 11 करोड़ का नुकसान का उठाना पड़ सकता है क्योंकि इस स्थिति में अनुज्ञाधारी उत्पाद परिवहन कर जमा नहीं कर पायेंगे. इससे उन्हें भारी फाइन देना पड़ेगा. यह शराब के खुदरा विक्रताओं के लिए बड़ी परेशानी का सबब बना हुआ है. बताया जा रहा है कि जल्द स्थिति में सुधार नहीं होने पर कोल्हान के अन्य जिलों समेत राज्य के भी कई अन्य जिलों में व्यापारियों का प्रतिनिधिमंडल जिला प्रशासन के समक्ष यह मामला उठाने की तैयारी में है.
ये भी पढ़ें- Jamshedpur Power Crisis: गर्मी बढ़ते ही बिजली की डिमांड में चारगुना बढ़ोत्तरी, तेनुघाट के यूनिट में खराबी से भी बिगड़े हालात, संकट गहराने से लोगों की दुश्‍वारी बढ़ी

Related Articles

Back to top button