Corona_UpdatesLead NewsNational

कोरोना के डेल्टा व डेल्टा प्लस वेरिएंट पर उतने प्रभावी नहीं हैं वैक्सीन, WHO अफसर का दावा

New Delhi : कोविड-19 बीमारी फैलानेवाला कोरोना वायरस बहुरूपिये की तरह अपना रूप बदलता जा रहा है. इसकी वजह से कोरोना के इलाज में काफी परेशानी होती है. अब तक कोरोना वायरस के कई वेरियंट बन चुके हैं. भारत में दूसरी लहर के लिए जिम्मेदार डेल्टा वेरियंट ने काफी तबाही मचायी है. इस लाखों लोगों की जान ले ली है. कोरोना पर रोक के लिए वैक्सीन भी आ चुकी हैं लेकिन WHO के एक अफसर के एक बयान ने समस्या को और गंभीर होने की तरफ इशारा किया है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के एक महामारी विज्ञानी ने सोमवार को कहा कि कोविड-19 टीके (Corona Vaccine) कोरोना वायरस वायरस (Corona virus) के डेल्टा वेरिएंट (Delta variants) के खिलाफ कम प्रभावकारिता के संकेत दिखा रहे हैं. हालांकि, टीके अभी भी गंभीर बीमारी और मृत्यु को रोकने में प्रभावी पाये गये हैं. हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, डब्ल्यूएचओ के अधिकारी ने कहा कि भविष्य में, वायरस में और म्यूटेशन देखने को मिल सकता है, जिसका अर्थ है कि टीके कोरोना वायरस से लड़ने के खिलाफ अपनी शक्ति खो सकते हैं.

advt

इसे भी पढ़ें :BIG NEWS : पंचायतों के एक्सटेंशन के अध्यादेश पर मंत्री की मुहर, मॉनसून सत्र में आयेगा बिल

डेल्टा प्लस वेरिएंट दूसरी लहर के लिए जिम्मेदार

डेल्टा प्लस वेरिएंट की पहचान डेल्टा या बी.1.617.2 संस्करण में एक उत्परिवर्तन के कारण हुआ है. इसे पहली बार भारत में पहचाना गया और देश में दूसरी लहर के मुख्य कारण माना गया है. यूके सहित कई अन्य देशों में भी इसे दूसरी लहर के लिए जिम्मेदार माना गया है. डब्ल्यूएचओ द्वारा वायरस के अत्यधिक संक्रमणीय संस्करण को चिंता के चौथे प्रकार के रूप में सूचीबद्ध किया गया है. नवीनतम संस्करण, यूनाइटेड किंगडम के लिए एक खतरा बन गया है जहां दैनिक मामले फिर से 10,000 से अधिक हो गये हैं.

इसे भी पढ़ें :BIG NEWS : भारत के पास होगा देसी 5G, जानिये TATA ने किस कंपनी हाथ मिलाकर की बड़ी घोषणा

ब्रिटिश प्रधानमंत्री ने कहा, सावधान रहने की जरूरत

ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने सोमवार को कहा कि आने वाले दिन कड़ी सर्दी के हो सकते हैं. उन्होंने कहा कि भले ही चीजें अच्छी लग रही हों, ऐसा लगता हो कि 19 जुलाई के बाद देश में सभी लॉकडाउन प्रतिबंधों को समाप्त कर दिया जाए, लेकिन सावधान रहने की जरूरत है. जॉनसन की चेतावनी ऐसे समय में आयी है जब यूके में रविवार को 9,284 दैनिक कोविड-19 संक्रमण दर्ज किये गये.

इसे भी पढ़ें :शादी को लेकर गलत जानकारी दे कर फंसी नुसरत जहां, संसद की सदस्यता भी पड़ सकती है खतरे में

प्रति सप्ताह लगभग 30 फीसदी की दर से बढ़ रहे हैं मामले

पिछली बार जब ब्रिटेन ने लॉकडाउन समाप्त करने की तैयारी की थी तब इसी डेल्टा वेरिएंट ने लॉकडाउन बढ़ाने की नौबत ला दी थी. जॉनसन ने कहा कि भारत में पहली बार पहचाने जाने वाले कोविड-19 के डेल्टा संस्करण के मामले, अस्पताल में भर्ती होने और गहन देखभाल के प्रवेश के साथ-साथ प्रति सप्ताह लगभग 30 फीसदी की दर से बढ़ रहे हैं.

इसे भी पढ़ें :वासेपुर में बमबाजी, मिल्लत कालोनी में बम फेंका

रूस में भी डेल्टा वेरिएंट ही मचा रहा तबाही

इधर, रूसी अधिकारियों ने मामलों में चल रहे उछाल के लिए डेल्टा वेरिएंट को ही दोषी ठहराया है, जिसमें 17,000 से अधिक नये कोविड-19 मामले चौथे दिन आये हैं. यह मानते हुए कि एक राष्ट्रव्यापी विज्ञापन अभियान लोगों को टीकाकरण के लिए प्रोत्साहित करने के लिए है, वे कम पड़ गया था. राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन ने सोमवार को चेतावनी दी कि कुछ रूसी क्षेत्रों में कोरोना वायरस की स्थिति खराब हो रही है.

इसे भी पढ़ें :रांची स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में विष्णु अग्रवाल की भूमिका पर निशिकांत ने उठाये सवाल, सरकार से कहा- करायें जांच

पुर्तगाल में भी असर

इसके अतिरिक्त, पुर्तगाली अधिकारियों ने संदेह की पुष्टि की है कि कोरोना वायरस का नया डेल्टा संस्करण लिस्बन क्षेत्र में नए मामलों में वृद्धि कर रहा है. पुर्तगाल के राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान ने रविवार को कहा कि भारत में पहली बार पाया जाने वाला अत्यधिक संक्रामक रूप देश की राजधानी में 60 फीसदी नये मामलों के लिए जिम्मेदार है.

 

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: