Corona_UpdatesJharkhandLead NewsRanchi

Jharkhand में वैक्सीनेशनः 18 जिले रेड जोन में, 18 प्लस वाले नहीं आ रहे सेकेंड डोज लेने

New Delhi: कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीनेशन को अहम माना जा रहा है. चूंकि इससे वायरस से लड़ने के लिए हमारी बॉडी को इम्युनिटी मिल रही है. इसलिए टॉरगेट ग्रप को हर हाल में वैक्सीनेशन कराने का निर्देश जारी किया गया है। लेकिन झारखंड में 18 प्लस के वैक्सीनेशन के आंकड़े चौकाने वाले हैं. 18 जिले वैक्सीनेशन के मामले में रेड जोन में हैं. इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि राज्य के 18 जिलों में 18 प्लस वाली 46 परसेंट आबादी सेकेंड डोज लगाने के लिए नहीं पहुंची. ऐसे में सवाल यह उठता है कि आखिर इतनी बड़ी आबादी को स्वास्थ्य विभाग 15 दिनों में कवर कैसे करेगा.

इसे भी पढ़ें :   तीन वर्षों तक पीएल खातों में पड़ा रहा 19.13 करोड़ रु, रांची जिप में सबसे अधिक 8.57 करोड़

ram janam hospital
Catalyst IAS

15 जनवरी तक 100 परसेंट वैक्सीनेशन

The Royal’s
Sanjeevani

स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी पत्र में सभी उपायुक्तों को निर्देश दिया गया है. जिसमें कहा गया है कि 15 जनवरी तक अभियान चलाकर सभी टारगेट ग्रुप का वैक्सीनेशन सुनिश्चित कराए. साथ ही इसकी पूरी जानकारी भी मांगी गई है. ऐसे में बड़ी आबादी को वैक्सीनेशन के तहत कवर करना स्वास्थ्य विभाग के लिए चुनौती साबित होगा.

23 परसेंट को फर्स्ट डोज नहीं लगी

राजधानी समेत पूरे राज्य में 18 प्लस की आबादी का टारगेट रखा गया है. जिसके तहत 77 परसेंट लोगों को वैक्सीन की फर्स्ट डोज लग गई है, लेकिन 23 परसेंट अब भी ऐसे हैं जिन्होंने कोविड वैक्सीन की फर्स्ट डोज नहीं लगाई है. वहीं सेकेंड डोज की बात करें तो राज्य में मात्र 46 परसेंट ने वैक्सीन की सेकेंड डोज ली है.

जिला फर्स्ट डोज (% में सेकेंड डोज (% में)
बोकारो 76 47
चतरा 73 40
देवघर 76 45
धनबाद 71 41
दुमका 80 51
इंस्ट सिंहभूम 91 65
गढ़वा 73 39
गिरिडीह 68 39
गोड्डा 73 45
गुमला 75 44
हजारीबाग 79 50
जामताड़ा   80
43    
खूंटी 85 50
कोडरमा 79 46
लातेहार 76 40
लोहरदगा   68
44    
पाकुड़ 82 38
     
पलामू 70 47
रामगढ़ 81 52
रांची 81 50
साहेबगंज 78 38
सराइकेला खरसावां 75 43
सिमडेगा 73 52
वेस्ट सिंहभूम 75 41
टोटल 77 46

इसे भी पढ़ें :  कोरोना प्रोत्साहन राशि के लिये एमजीएम अस्पताल के आउट सोर्सिंग कर्मचारियों ने किया विरोध-प्रदर्शन

Related Articles

Back to top button