Fashion/Film/T.VLead NewsNational

सनी लियोनी के ‘मधुबन’ गाने पर भड़के यूजर्स, कहने लगे हिंदू धर्म का मजाक बनाकर रख दिया, देखें गाने का VIDEO

Mumbai : बॉलीवुड अभिनेत्री और पॉर्न फिल्मों के लिए फेमस सनी लियोनी अपने नए गाने ‘मधुबन’ को लेकर विवादों में आ गई हैं. ‘ ये दुनिया पित्तल दी’ के बाद कनिका कपूर और सनी लियोनी की जोड़ी मधुबन लेकर आई है. कनिका कपूर ने इसमें अपनी आवाज दी है. यह गाना 22 दिसंबर को रिलीज हुए इन गाने को सनी लियोनी ने अपने ट्विटर खाते से साझा किया. लियोनी ने लोगों से इसे देखने के अपील की. लोगों ने देखा. इसके बाद यूजर्स ने सनी लियोनी पर जमकर गुस्सा निकाला.

इसे भी पढ़ें : जनवरी से मार्च तक झारखंड में एडवेंचर एक्टिविटी का रोमांच, तैयारी में पर्यटन विभाग

हिंदू भावनाओं को आहत करनेवाला करार दिया

Catalyst IAS
SIP abacus

ट्विटर यूजर्स ने इस गाने को हिंदू भावनाओं को आहत करनेवाला करार दिया. लोगों ने 1960 में दिलीप कुमार और मधुबाला अभिनीत फिल्म ‘कोहिनूर’ के गाने ‘मधुबन में राधिका नाचे रे’ की याद दिलाई. जिसे रफी मोहम्मद ने अपनी आवाज दी थी और शकील बदायूंनी ने गीत को रचा था. सनी को जवाब देते हुए एक यूजर ने लिखा, हाँ देखा और फिर मैंने बॉलीवुड के क्रिंग रीमेक वायरस से उबरने के लिए इसे (कोहिनूर के गाने को) देखा.
एक अन्य ने भी कोहिनूर के गाने को साझा करते हुए सनी लियोनी को लताड़ लगाई. लिखा, मधुबन में राधिका नाचे रे…. क्या आप राधिका के बारे में जानती हैं? देखिए ये खूबसूरत वीडियो. ये भी बॉलीवुड का है.

MDLM
Sanjeevani

इसे भी पढ़ें : डिमना-पारडीह के बीच यूटिलिटी सर्विस का खाली जगह बना परेशानी का शबब

इसे भी पढ़ें : झारखंड में बढ़ रहा है कोरोना का खतरा, 24 घंटे में 51 संक्रमित मिले, 38 सिर्फ रांची व कोडरमा से

राधा डांसर नहीं है वह एक भक्त है

इसके साथ ही एक यूजर ने कहा कि राधिका कोई डांसर नहीं थी. कमेंट किया, राधा डांसर नहीं है वह एक भक्त है … मधुबन एक महान जगह है. मधुबन में राधा ऐसा नृत्य नहीं करती … शर्मनाक गाना.
एक यूजर ने टिप्पणी की, “मधुबन में राधिका नचे रे” में कृष्ण के प्रति प्यार को खूबसूरती से बयां किया गया है. सनी लियोनी अभिनीत कामुक गीत के लिए राधिका और मधुबन के संदर्भ का उपयोग क्यों किया गया है. समझ नहीं आता ऐसे गाने क्यों बनाए जाते हैं. अपमानजनक…. एक यूजर ने कहा, आप लोग हिंदू धर्म का मजाक बनाकर रख दिए हो…

एक ने लिखा- यह तो बुरा हुआ. कृपया देवताओं के किसी भी नाम या शब्दों का उपयोग करने से बचना चाहिए जो धार्मिक हैं या किसी भी धर्म से जुड़े हैं. ऐसे और भी कई शब्द हैं जिनसे आप लोग गाने बना सकते हैं. इसलिए किसी की भावनाओं को ठेस न पहुंचाएं.

इसे भी पढ़ें : झारखंड में बिजली बिल वसूली में 38 फीसदी तक की कमी, जीएम एचआर ने जूनियर इंजीनियरों से पूछा कारण

Related Articles

Back to top button