HEALTHNational

Corona के हल्के लक्षण वाले मरीजों के इलाज के लिए प्लाज्मा थेरेपी का करें इस्तेमाल: CDSCO

विज्ञापन
Advertisement

New Delhi: केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) ने एक नोटिस जारी करते हुए कहा कि ‘कॉन्वलसेंट प्लाज्मा’ (थैरेपी) का इस्तेमाल उन हल्के लक्षण वाले कोविड-19 मरीजों में किया जा सकता है, जिनकी हालत में स्टेरॉयड देने के बाद भी कोई सुधार नहीं है.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा 27 जून को अद्यतन किये गये ‘नैदानिक प्रबंधन प्रोटोकॉल’ के संबंध में बुधवार को यह नोटिस जारी किया गया. मंत्रालय ने कोविड-19 के हल्के लक्षण वाले मरीजों के इलाज के लिए प्लाज्मा थैरेपी की अनुमति दे दी थी.

इसे भी पढ़ें- शिवराज मंत्रिमंडल का विस्तारः 20 कैबिनेट-आठ राज्यमंत्री ने ली शपथ, 12 सिंधिया समर्थक को मिला मौका

advt

क्या कहा है CDSCO ने

सीडीएससीओ ने ‘ इन्फोर्मेशन ऑन कॉन्वलसेंट प्लाज्मा इन कोविड-19’ शीर्षक से जारी किए नोटिस में कहा कि यह भारत सरकार द्वारा जारी ‘नैदानिक प्रबंधन प्रोटोकॉल’ के संबंध में है. जिसमें स्वास्थ्य मंत्रालय ने कुछ थैरेपी का जिक्र अनुसंधानात्मक थैरेपी के तौर पर किया है, जिसमें प्लास्माफेरेसिस द्वारा कॉन्वलसेंट प्लाज्मा को कोविड-19 में ‘ऑफ-लेबल’ के रूप में इंडिकेट किया गया है.

‘ऑफ-लेबल’ से यहां मतलब है कि आधिकारिक रूप से सिद्ध ना होने पर भी किसी दवा या किसी थैरेपी का इस्तेमाल किसी बीमारी के इलाज के लिए करने से है. नोटिस में कहा गया है कि कॉन्वलसेंट प्लाज्मा थैरेपी का इस्तेमाल उन हल्के लक्षण वाले कोविड-19 मरीजों के लिए जा सकता ह, जिनकी हालत स्टेरॉयड देने के बावजूद बेहतर नहीं हो रही है. प्लाज्मा थेरेपी में कोविड-19 के ठीक हो चुके मरीजों के रक्त से एंटीबॉडी ली जाती हैं और कोविड-19 मरीजों को चढ़ायी जाती है.

इसे भी पढ़ें- RTI में सीओ कार्यालय ने कहा- जमीन सरकारी है, फिर भी CO ने कर दी निबंधक से रजिस्ट्री की सिफारिश

देश में छह लाख से पार कोरोना केस

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा सुबह आठ बजे अपडेट किए गये आंकड़ों के अनुसार, भारत में कोविड-19 के मामले गुरुवार को एक दिन में सर्वाधिक 19,148 मामले सामने आने के बाद देश में इस वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 6,04,641 हो गयी है. जिनमें से 434 और लोगों की मौत हो जाने के बाद मृतक संख्या बढ़कर 17,834 हुई.

राहत की बात ये है कि बीमार केसेज से 3,59,860 लोग स्वस्थ हो चुके हैं. वहीं 2,26,947 एक्टिव केस हैं. आइसीएमआर के आंकड़ों के मुताबिक, एक जुलाई तक देश में 90,56,173 सैंपल की जांच की जा चुकी है. वहीं पिछले 24 घंटे में 2,29,588 सैंपल का टेस्ट किया गया.

इसे भी पढ़ें- राज्य के 4 आईपीएस अधिकारी का तबादला, सुरेन्द्र झा बने रांची एसएसपी

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close
%d bloggers like this: