न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Article370 हटाने के फैसले पर भारत के साथ अमेरिका लेकिन कश्मीर के हालात पर जताई चिंता

1,033

Washington: जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाये जाने पर अमेरिका ने एकबार फिर बयानबाजी की है. ट्रम्प प्रशासन ने मंगलवार को अनुच्छेद 370 हटाये जाने पर एकबार फिर भारत का समर्थन किया है.

अमेरिका ने कहा कि वह जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 को निरस्त करने के पीछे के भारत के मकसद का समर्थन करता है. लेकिन साथ ही घाटी में मौजूदा स्थिति को लेकर चिंता जताई है.

उसने कहा कि वह भारत के पांच अगस्त के इस फैसले के बाद से राज्य में हालात पर करीब से नजर रख रहा है.

इसे भी पढ़ेंः पलामू के बकोरिया में भीषण सड़क हादसा, एक ही परिवार की तीन महिलाओं की मौत

hotlips top

दक्षिण एवं मध्य एशिया मामलों की अमेरिकी कार्यवाहक सहायक विदेश मंत्री एलिस जी वेल्स ने अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की विदेश मामलों की समिति की एशिया, प्रशांत एवं निरस्त्रीकरण उपसमिति को बताया कि भारत सरकार ने तर्क दिया है कि अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान निरस्त करने का फैसला आर्थिक विकास करने, भ्रष्टाचार कम करने और खासकर महिलाओं एवं अल्पसंख्यकों के संदर्भ में जम्मू-कश्मीर में सभी राष्ट्रीय कानूनों को समानता से लागू करने के लिए लिया गया है.

80 लाख लोगों का जीनवन प्रभावित

वेल्स ने कहा, ‘हम इन उद्देश्यों का समर्थन करते हैं, लेकिन अमेरिकी विदेश मंत्रालय कश्मीर घाटी में हालात को लेकर चिंतित है जहां पांच अगस्त के बाद करीब 80 लाख लोगों का दैनिक जीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है.’

30 may to 1 june

इसे भी पढ़ेंःमांडू के बागी विधायक जेपी पटेल की पहचान इतनी कि वे टेकलाल महतो के बेटे हैं : फागू बेसरा

उन्होंने कहा कि इस फैसले के बाद से अमेरिका जम्मू-कश्मीर में हालात पर करीब से नजर रख रहा है. वेल्स ने कहा, ‘हालांकि जम्मू और लद्दाख में हालात सुधरे हैं, लेकिन घाटी में स्थिति सामान्य नहीं हुई है.’ उन्होंने कहा कि अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्रियों समेत नेताओं और स्थानीय निवासियों को हिरासत में लेने को लेकर भारत सरकार के समक्ष चिंता जताई है.

उन्होंने कहा, ‘हमने भारत सरकार से मानवाधिकारों का सम्मान करने और इंटरनेट एवं मोबाइल नेटवर्कों समेत सेवाओं तक पूर्ण पहुंच बहाल करने की अपील की है.’ वेल्स ने कहा कि कश्मीर में हुए घटनाक्रम को विदेशी और स्थानीय पत्रकारों ने बड़े पैमाने पर कवर किया है. लेकिन सुरक्षा संबंधी पाबंदियों के कारण उन्हें दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.

इसे भी पढ़ेंः#JPSC ने ले ली छठी सीमित सिविल सेवा परीक्षा, लेकिन 18 साल में नहीं ले पायी पहली परीक्षा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like