World

चीन पर भड़का अमेरिका, विदेश मंत्री पोम्पिओ ने कहा- पुरानी नीति काम नहीं आई, अपनाना होगा दूसरा रास्ता

विज्ञापन

Washington: एकबार भी अमेरिका चीन पर भड़का है. अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने कहा कि अमेरिका को चीन के साथ अब अलग तरीके से पेश आना होगा क्योंकि अधिक राजनीतिक स्वतंत्रता मिलने की उम्मीद में उन्हें आर्थिक अवसर प्रदान करने की पुरानी नीति काम नहीं आई.

इसे भी पढ़ेंःCoronaUpdate: 24 घंटे में 22 हजार से अधिक नये केस, सात लाख के पार संक्रमितों की संख्या

advt

 अपनाना होगा दूसरा रास्ता

पोम्पिओ ने ‘वाशिंगटन वॉच’ में टोनी पर्केन्स को दिए एक इंटरव्यू में कहा, ‘ यह सिद्धांत है कि अधिक आर्थिक अवसर प्रदान करने से चीन के लोगों को अधिक राजनीतिक स्वतंत्रता और अधिक मौलिक अधिकार मिलेंगे, सही साबित नहीं हुआ. यह काम नहीं आया. मैं पुराने शासकों की आलोचना नहीं कर रहा हूं, हम स्पष्ट रूप से देख सकते हैं कि यह सफल नहीं हुआ और इसका मतलब है कि अमेरिका को दूसरा रास्ता अपनाना होगा.’

उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने स्पष्ट रूप से यह मार्ग प्रशस्त किया है. पोम्पिओ ने कहा, ‘वह ऐसा करने वाले पहले राष्ट्रपति हैं और यह पक्षपातपूर्ण नहीं है. उनसे पहले सभी रिपब्लिकन और डेमोक्रेट राष्ट्रपतियों ने चीन को अमेरिका के साथ व्यापार संबंध स्थापित करने का मौका दिया, जिसका भुगतान पूरे अमेरिका में मध्यम वर्ग, कामकाजी लोगों को नौकरी खोकर उठाना पड़ा.’’

इसे भी पढ़ेंःCorona Virus की टेस्टिंग से जुड़ी मशहूर वैज्ञानिक गगनदीप कंग का टीएचएसटीआइ से इस्तीफा

adv

राष्ट्रीय सुरक्षा कानून का विरोध

अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा, ‘अब हम देख सकते हैं कि इससे ना केवल अमेरिका को आर्थिक नुकसान हुआ है बल्कि चीन के भीतर भी लोगों के साथ भी सही व्यवहार नहीं किया जाता.’ विदेश मंत्री ने आरोप लगाया कि राष्ट्रीय सुरक्षा कानून ने हांगकांग के लोगों की स्वतंत्रता छीन ली है.

पोम्पिओ ने कहा, ‘ आप चाहते हैं चीन के लोग सफल हों, अच्छा जीवन जिएं और आपको अमेरिका के साथ भी अच्छे संबंध चाहिए, लेकिन हमें पता है कि वामपंथी शासन क्या करता है, हमें पता है कि सत्तावादी शासक अपने लोगों के साथ कैसा व्यवहार करते हैं और यही आज हम चीन में देख रहे हैं.’

उन्होंने कहा कि धार्मिक और नस्ली अल्पसंख्यकों के खिलाफ चीन की कार्रवाई केवल बढ़ी है. विदेश मंत्री ने कहा, इस दुर्व्यवहार को दूर करने के लिए कूटनीतिक रूप से जो कर सकते हैं वो करेंगे.

इसे भी पढ़ेंःजम्मू-कश्मीर: पुलवामा में मुठभेड़ में एक आंतकी ढेर, सेना का एक जवान शहीद, एक पुलिसकर्मी जख्मी

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close