न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अमेरिका-चीन ट्रेड वार चरम पर,  ट्रंप ने कहा, हमें चीन की जरूरत नहीं, अमेरिकी कंपनियां चीन छोड़ें

पार युद्ध पहले ही अमेरिका की प्रगति की गति कम कर चुका है और वैश्विक अर्थव्यवस्था को कमजोर किया है  शेयर बाजारों की भी हालात खराब की है.

62

Washington : अमेरिका और चीन के बीच ट्रेड वार थम नहीं रहै है. राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने  हमला बोलते हुए चीन की ओर से नये शुल्क लगाने की योजना पर त्वारित जवाबी कार्रवाई की बात कही है.  जान लें कि  ट्रंप ने मेरिकी कंपनियों से चीन छोड़ने को कहा है. इस क्रम में ट्रंप ने कहा कि हमें चीन की जरूरत नहीं है. कहा कि अगर ईमानदारी से कहूं तो हम उनके बिना बहुत बेहतर होंगे. व्यापार युद्ध पहले ही अमेरिका की प्रगति की गति कम कर चुका है और वैश्विक अर्थव्यवस्था को कमजोर किया है  शेयर बाजारों की भी हालात खराब की है.

इसे भी पढ़ें-  200 दिनों से 4,500 करोड़ रुपये बकाया नहीं चुकाने पर रांची सहित छह एयरपोर्ट पर एयर इंडिया के विमानों को फ्यूल सप्लाई बंद

चीन ने अरबों डॉलर कीमत की बौद्धिक संपदा चुराई

ट्रंप ने आरोप लगाया कि अमेरिका को इतने सालों में चीन में खरबों डॉलर का नुकसान हुआ है.  चीन ने एक साल में अरबों डॉलर कीमत की हमारी बौद्धिक संपदा चुराई है और वे यह जारी रखना चाहते हैं, लेकिन मैं यह नहीं होने दूंगा. उन्होंने कहा कि हमारी महान अमेरिकी कंपनियों को आदेश दिया जाता है कि वे चीन का विकल्प देखना शुरू कर दें और वे वापस देश आने का भी विकल्प रखें तथा अमेरिका में अपने उत्पाद बनायें.

Related Posts

अमेरिका में #GeneralMotors के 46,000 श्रमिक हड़ताल पर चले गये

वाल स्ट्रीट जर्नल ने इस घटनाक्रम को पिछले एक दशक से भी ज्यादा अवधि में जनरल मोटर्स में काम बंदी की पहली घटना करार दिया है.

जान लें कि इससे पूर्व  चीन ने शुक्रवार को घोषणा की कि वह अमेरिका से आयात किये जाने वाले 75 अरब डॉलर के उत्पादों पर दस प्रतिशत का जवाबी शुल्क लगायेगा. इससे पहने ट्रंप सरकार ने 15 अगस्त को घोषणा की थी कि अमेरिका 300 अरब डॉलर के चीनी उत्पादों पर दस प्रतिशत का अतिरिक्त शुल्क लगायेगा. यह शुल्क दो चरणों, एक सितंबर और 15 दिसंबर को लागू होंगे.   इसी के जवाब में चीन ने अमेरिका में बने वाहनों और कलपुर्जों पर 25 प्रतिशत या 5 प्रतिशत का अतिरिक्त शुल्क लागू करने की घोषणा की है.

इसे भी पढ़ें-  ऑटो सेक्टर में गिरावट का असर,  400 कंपनियों को 10 हजार करोड़ के नुकसान का अनुमान

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: