Top StoryWorld

कोरोना के कारण अमेरिका-चीन के रिश्ते तल्ख, ट्रेड डील के दूसरे फेज को प्राथमिकता नहींः ट्रंप

Washington: कोरोना संक्रमण के कारण चीन और अमेरिका के संबंधों में काफी खटास आ चुकी है. कई बार अमेरिका वायरस संक्रमण को लेकर चीन पर निशाना साध चुका है. और इस तल्खी का असर व्यापार पर भी पड़ रहा है. अब एक बार फिर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कोरोना वायरस को लेकर चीन पर हमला बोला है. साथ ही कहा है चीन के साथ दूसरे चरण के व्यापार समझौते (ट्रेड डील) की प्राथमिकता कम हो गई है.

इसे भी पढ़ेंःCoronaUpdate: देश में संक्रमण का आंकड़ा आठ लाख के पार, 22 हजार से अधिक मौतें

‘व्यापार सौदे के दूसरे चरण की संभावना नहीं

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन के साथ दूसरे चरण के व्यापार सौदे से फिलहाल के लिए इनकार कर दिया है. उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस प्रकोप से निपटने के बीजिंग के तरीके के चलते दोनों देशों के बीच संबंधों को बहुत अधिक नुकसान पहुंचा है.

ट्रंप ने व्यापार समझौते के बारे में पूछे जाने पर एयर फोर्स वन से शुक्रवार को संवाददाताओं को बताया, ‘चीन के साथ संबंध बुरी तरह प्रभावित हुए हैं. मैं अभी इसके बारे में नहीं सोच रहा हूं.”

बता दें कि साल की शुरुआत में, ट्रंप प्रशासन ने चीन के साथ गहन बातचीत के बाद पहले चरण का बड़ा व्यापार सौदा किया था. लेकिन, कोरोना वायरस के प्रकोप के बाद से वाशिंगटन और बीजिंग के बीच संबंधों में लगातार खटास आती गई. राष्ट्रपति ट्रंप कोविड-19 वैश्विक महामारी से निपटने के एशियाई महाशक्ति के तरीके पर सवाल उठाते रहे हैं.
इसे भी पढ़ेंःबिहार: RJD के बाद लोजपा ने भी विस चुनाव को लेकर जताई चिंता, इलेक्शन के पक्ष में JDU

‘चीन महामारी रोक सकता था’

चीन द्वारा हांग कांग में नये राष्ट्रीय सुरक्षा कानून को लागू करने, अमेरिकी पत्रकारों पर प्रतिबंध, उइगर मुस्लिमों के साथ बर्ताव और तिब्बत में सुरक्षा उपायों को लेकर भी दोनों देशों में विवाद रहा.

ट्रंप ने कहा, “चीन के साथ संबंध बहुत अधिक खराब हो चुके हैं. वे महामारी को रोक सकते थे लेकिन उन्होंने इसे रोका नहीं. उन्होंने इसे वुहान प्रांत से चीन के अन्य हिस्सों में फैलने से रोका. वे चाहते तो इस महामारी को और जगह जाने से भी रोक सकते थे लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया.”

बता दें कि सबसे पहले चीन के वुहान शहर में उभरे कोरोना वायरस से अमेरिका में 1,30,000 से अधिक लोगों की जान गई और 31 लाख लोग इससे संक्रमित हुए. चीन में संक्रमण के 85,000 मामले सामने आए और यहां मृतक संख्या 4,641 है.

इसे भी पढ़ेंःजम्मू-कश्मीरः नियंत्रण रेखा के पास घुसपैठ की कोशिश नाकाम, दो आतंकवादी ढेर

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: