न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

एग्जिट पोल्स से परेशान विपक्षी दलों का चुनाव आयोग के बाहर प्रदर्शन, उदित राज ने सुप्रीम कोर्ट पर सवाल उठाया

कांग्रेस नेता उदित राज ने कहा- सुप्रीम कोर्ट क्यों नहीं चाहता कि वीवीपैट की सारी पर्चियों को गिना जाए क्या वो भी धाँधली में शामिल है.

60

NewDelhi : 2019 लोकसभा चुनाव के नतीजे 23 मई को आयेंगे. लेकिन चुनाव नतीजे के पहले सामने आये एग्जिट पोल्स के बाद से विपक्ष परेशान है. बुधवार 22 मई को विपक्षी दलों ने चुनाव आयोग के ऑफिस के बाहर भी प्रदर्शन किया. बता दें कि इसके साथ ही कांग्रेस नेता उदित राज ने चुनाव आयोग के साथ सुप्रीम कोर्ट पर ही सवाल उठाये हैं.

कांग्रेस नेता उदित राज ने कहा- सुप्रीम कोर्ट क्यों नहीं चाहता कि वीवीपैट की सारी पर्चियों को गिना जाए क्या वो भी धाँधली में शामिल है. चुनावी प्रक्रिया में जब लगभग तीन महीने से सारे सरकारी काम मंद पड़ा हुआ है तो गिनती में दो- तीन दिन लग जाए तो क्या फ़र्क़ पड़ता है.

इसके पहले एक और ट्वीट करते हुए उदित राज ने लिखा था-  भाजपा को जहां-जहां ईवीएम बदलनी थी बदल ली होगी, इसीलिए तो चुनाव सात चरणों मे कराया गया. और आप की कोई नहीं सुनेगा चिल्लाते रहिए, लिखने से कुछ नहीं होगा, रोड पर आना पड़ेगा. अगर देश को इन अंग्रेजो के गुलामों से बचाना है तो आन्दोलन करना पड़ेगा साहब, चुनाव आयोग बिक चुका है.

इसे भी पढ़ें – राफेल  डील : SC में प्रशांत भूषण सहित अन्य याचिकाकर्ताओं ने लिखित पक्ष रखा

 सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की याचिका

बता दें कि मंगलवार,21 मई को सुप्रीम कोर्ट ने वीवीपैट के ईवीएम से 100 फीसदी मिलान की मांग वाली याचिका को खारिज कर दिया था.  साथ ही SC ने याचियों को फटकार लगाते हुए कहा था कि ऐसी अर्जियों को बार-बार नहीं सुना जा सकता.

WH MART 1

ईवीएम को लेकर विपक्ष किसी भी तरह से कोई ढील देता नहीं दिख रहा है. ऐसे में कुछ प्रत्याशी सुरक्षा का जायजा लेने के लिए स्ट्रॉंग रूम भी पहुंचे. इन प्रत्याशियों में मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से दिग्विजय सिंह शामिल हैं.वहीं मेरठ और बिहार के वैशाली से भी विपक्ष के प्रत्याशी स्ट्रॉंग रूम पहुंचे.

ईवीएम पर विपक्ष का हमला रंगबाजी

केन्द्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने ईवीएम पर विपक्ष के हमले को रंगबाजी बताया और कहा- ‘ईवीएम विलापमंडली सिर्फ ड्रामा कर रही है और उनकी रंगबाजी जारी है. ऐसे में पहले भी विपक्ष कई बार इस मामले पर बात कर चुका है लेकिन उनके पास कोई भी तर्क नहीं रहा.

पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत ने ईवीएम के बारे में कहा – ये एक दम सेफ है और किसी भी तरह से इसे हैक करना संभव नहीं है. चूंकि न इसमें ब्लूटूथ है, न ही इंटरनेट और न ही वाईफाई है. यहां तक कि इसमें बिजली के लिए भी तार का नहीं बल्कि बैट्री का इस्तेमाल किया जाता है. ऐसे में जब किसी भी तरह से यह किसी से कनेक्ट नहीं है तो इसे हैक करना संभव नहीं है.

इसे भी पढ़ें – मैं शेर की मांद में जाना चाहता था, आरएसएस मुख्यालय जाने पर प्रणब मुखर्जी का खुलासा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like