JharkhandJharkhand PoliticsLead NewsRanchiTop Story

Update : आरोपों के बाद स्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना प्रोत्साहन राशि का आदेश किया रद्द, भुगतान का प्रमाण देने की चुनौती के बाद सरयू ने दिया सबूत

Ranchi:  विधायक सरयू राय  द्वारा अवैध रूप से राशि की निकासी का आरोप लगाये जाने के बाद मंत्री बन्ना गुप्ता ने मंत्री कोषांग के लिए प्रोत्साहन राशि का आदेश रद्द कर दिया है. साथ ही कहा कि मैं एक संवैधानिक पद पर हूं और सार्वजनिक जीवन व्यतीत करना मेरा कर्तव्य है. ऐसी परिस्थिति में विभाग के मंतव्य के उपरांत मंत्री कोषांग में कर्मियों को प्रोत्साहन राशि की स्वीकृति दी थी. अब इसे रद्द करते हुए उक्त प्रोत्साहन राशि को स्वास्थ्य विभाग के अधीन अन्य जरूरतमंद कर्मियों को वितरित करने का आदेश दे दिया है. बताते चलें कि मंत्री कोषांग में मंत्री समेत 60 कर्मियों के बीच कुल 14 लाख 59 हजार रुपये प्रोत्साहन राशि के रूप में दिये जाने थे. इसके साथ ही मंत्री ने  चुनौती दी कि  सरयू राय बतायें कि मंत्री कोषांग के लोगों को कब, कैसे और किस खाते में पैसा मिला. इस आरोप के तत्काल बाद सरयू राय ने एक पत्र जारी कर दिया.  उन्होंने कहा है कि मंत्री बन्ना गुप्ता ने मुझसे जानना चाहा है कि प्रोत्साहन राशि का पैसा कहां गया, मैं बताऊं. मंत्री के अनुसार पैसा किसको मिला, यह भी मैं बताऊ. एक नमूना पेश कर रहा हूं, जिसे स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त सचिव ने महालेखाकार को भेजा है.

देखें पत्र 

इसे भी पढ़ें : ‘बन्नाबांट’ करने वाले मंत्री बन्ना गुप्ता को मुख्यमंत्री बर्खास्त करने की अनुशंसा करें: प्रतुल शाहदेव

ram janam hospital
Catalyst IAS

सर्विस सीक्रेट एक्ट के तहत करायेंगे जांच

The Royal’s
Pitambara
Pushpanjali
Sanjeevani

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि सरयू राय ने जो भी आरोप लगाये हैं, तो उसके कागजात भी सामने लायें. साथ ही बतायें कि अगर राशि की निकासी हुई है, तो कब और किसके खाते में गयी. इसके अलावा उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग से जुड़े दस्तावेज आखिर उनके पास कैसे पहुंचे. इस मामले की भी जांच करने का आदेश दिया गया है. उन्होंने कहा कि ये सर्विस सीक्रेट एक्ट का उल्लंघन है और जो भी दोषी होंगे, उन पर कार्रवाई भी करायी जायेगी.

बन्ना के बोल 

  • स्वास्थ्य विभाग अंतर्गत कार्यरत पदाधिकारियों एवं कर्मियों को प्रोत्साहन राशि भुगतान हेतु संचिका मेरे समक्ष दिनांक 14.02.2022 को भेजी गयी.
  • 16.02.2022 को उक्त विभागीय प्रस्ताव अनुमोदन नहीं किया गया और यह पृच्छा की गयी कि स्वास्थ्य विभाग के अन्य कर्मियों को अनुशंसा में किस प्रकार से परिभाषित किया गया है और उक्त श्रेणी में कौन-कौन लोग लाभार्थी होंगे.
  • विभागीय संयुक्त सचिव द्वारा 23.02.2022 को पत्र भेजकर यह सूचित किया गया कि विभागीय संकल्प संख्य 54 (7), दिनांक 01.05.2021 की कंडिका 3 के स्वास्थ्य विभाग के अन्य कर्मियों में मंत्री एवं उनके स्थापना के अधीन कार्यरत कर्मी भी शामिल हैं. तदनुसार कोषांग के अंतर्गत सभी कार्यरत पदाधिकारियों / कर्मियों की सूची की मांग की गयी.
  • मंत्री कोषांग से उपर्युक्त पत्र के आलोक में पत्रांक 241/गो. दिनांक 26.02.2022 से कोषांग अंतर्गत कार्यरत पदाधिकारियों/ कर्मियों की सूची विभाग को उपलब्ध करायी.
  • तदुपरांत मंत्री कोषांग के साठ (60) लोगों की सूची, जिसमें वे लोग थे, जो कोविड काल में अधोहस्ताक्षरी के साथ यथा सुरक्षाकर्मी, चालक, अनुसेवक, साफ-सफाई कर्मी एवं मंत्री कोषांग के अन्य कर्मियों, जिनके द्वारा कोविड महामारी के क्रम निरंतर 24×7 कार्य किया गया एवं मेरे भ्रमण के कम में मेरे सुरक्षाकर्मी संक्रमण के भय से बिना अक्रांत हुए मेरे साथ कोविड अस्पताल तक जाया करते थे. इस प्रकार विभागीय पदाधिकारियों की कुल 94 लोगों की सूची के साथ कोषांग के 60 लोगों की सूची, कुल 154 लोगों की समेकित सूची दिनांक 25.03.2022 को अनुमोदन हेतु विभाग के द्वारा भेजा गया, जिसपर अघोहस्ताक्षरी के द्वारा अनुमोदन प्रदान करते हुए संचिका वापस की गयी.

सरयू राय ने मूल बातों को गायब कर दिया

बन्ना गुप्ता ने कहा कि सरयू राय ने मूल बातों को गायब कर दिया. मंत्री ने कहा कि मंत्री कोषांग के लिए राशि स्वीकृत हुई, मगर किसी को भुगतान नहीं हुआ. बन्ना गुप्ता ने कहा कि उनके कोषांग में 60 और स्वास्थ्य विभाग के 94 लोगों का नाम सूची में था. इसका अनुमोदन किया गया. मंत्री कोषांग के लिए 14 लाख 59 हजार के व्यय का अनुमान था, मगर किसी को राशि नहीं मिली थी.

निकासी की बात प्रमाणित करें सरयू

बन्ना ने कहा कि सरयू राय बतायें कि मंत्री कोषांग के लोगों को कब, कैसे और किस खाते में पैसा मिला. आकलन ओर व्यय के हकीकत को समझने की जरूरत थी. मंत्री कोषांग के लोगों के ऊपर व्यय का जो आकलन किया गया था, उस स्वीकृत्यादेश को मैंने स्वयं रद्द किया. इससे संबंधित आदेश भी जारी किया गया. मंत्री ने सरयू राय को चुनौती दी कि वह मंत्री कोषांग के लोगों द्वारा पैसे लेने का सबूत दें. निकासी की बात प्रमाणित करें.

इसे भी पढ़ें – बन्ना गुप्ता ने भ्रष्टाचार किया, साक्ष्य से छेड़छाड़ और महापुरुष का अपमान किया, सीएम जांच करायें, रिपोर्ट आने तक मंत्री को बर्खास्त करें : सरयू

Related Articles

Back to top button