न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रांची-टाटा रोड की बदहाली के लिए यूपीए सरकार जिम्मेवार: बीजेपी

रघुवर सरकार में सबसे ज्यादा सड़कों का हुआ निर्माण- राजेश शुक्ल

234

Ranchi: टाटा-रांची रोड की बदहाली के लिए भाजपा ने यूपीए सरकार को जिम्मेवार ठहराया है. बीजेपी के प्रवक्ता राजेश कुमार शुक्ल ने कहा है कि रांची-टाटा-बहरागोड़ा एनएच के निर्माण में देरी के लिए पूरी तरह यूपीए सरकार जिम्मेवार है. इसकी वजह से भाजपा की केंद्र और राज्य सरकार को कई तकनीकी कठिनाईयों से गुजरना पड़ रहा है.

इसे भी पढ़ें-एसटी सूची में शामिल होने की मांग करते हैं, पर विश्व आदिवासी दिवस नहीं मनाते कुरमियों के अगुआ राजनेता

आरपीएन सिंह के बयान पर जताई नाराजगी

राजेश शुक्ला ने कांग्रेस के झारखंड प्रभारी आरपीएन सिंह के उस बयान पर कड़ा एतराज जताया है, जिसमें कहा गया है कि भाजपा राज में सड़क नहीं बनी. उन्हों ने कहा कि झारखंड राष्ट्रीय राजमार्ग आज दोगुना हो गया है. पहले यह राजमार्ग 2402 किलोमीटर था, जो अब 5390 किलोमीटर हो गया है. देश में पहले 2 किलोमीटर सड़क बनती थी, पर अब रोज 23 किलोमीटर सड़क बन रही है.

इसे भी पढ़ें-भाजपा के 12 सांसद स्कूल मर्जर के खिलाफ, सीएम को लिखा पत्र

सड़कों के मामले में झारखंड अग्रणी राज्य

silk_park

राजेश शुक्ला ने कहा कि सड़क निर्माण के मामले में आज झारखंड की गिनती देश के अग्रणी राज्यों में की जा रही है. देश में कई सार्वजनिक मंचों से झारखंड के सड़कों की प्रशंसा की जा चुकी है. उन्होंने कहा कि रघुवर दास के कुशल नेतृत्व में राज्यों के सभी क्षेत्रों को मुख्य मार्गों से जोड़ने का काम तेजी से चल रहा है.

इसे भी पढ़ें-जेएमएम ने कहा-मसानजोर डैम हमारा मुद्दा, बीजेपी को नहीं है विस्थापितों की परवाह

दोगुनी हो गई सड़कों की लंबाई

बीजेपी प्रवक्ता ने कहा कि 28 दिसंबर 2014 के पहले इस राज्य में 3105 किलोमीटर नई सड़क के साथ कुल सड़क 5400 किलोमीटर से बढ़कर 8503 किलोमीटर हो गई थी. रघुवर दास के नेतृत्व में साढ़े तीन साल में ही 2915 किलोमीटर नई सड़क बनी, और राज्य में कुल सड़कों की लंबाई 8503 किलोमीटर से 11418 किलोमीटर हो गई. राज्य के प्रत्येक हिस्से में तेजी से सड़कें बन रही हैं. सड़कों के मामले में संताल परगना की सड़कों को आज देखें तो वहां की तस्वीर बदल चुकी है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: