Lead NewsNationalTOP SLIDERUttar-Pradesh

UP Elections: यूपी में बीजेपी और सहयोगी पार्टियों के बीच सीट शेयरिंग का फॉर्मूला तय, जानिए किस दल को कितनी सीटें मिलेंगी

Lucknow : उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में विधानसभा चुनाव में अब एक महीने से भी कम का वक्त बचा है. ऐसे में बीजेपी (BJP) और उसकी सहयोगी पार्टियों के बीच सीट शेयरिंग का फॉर्मूला भी तय हो गया है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, अपना दल (Apna Dal) को 14 और निषाद पार्टी (Nishad Party) को 17 सीटें मिलेंगी. बाकी सीटों पर बीजेपी अपने उम्मीदवार उतारेगी.

कितनी सीटों की डिमांड कर रहे थे सहयोगी दल?

बुधवार देर रात हुई बैठक में अपना दल 25 और निषाद पार्टी 30 सीटों की डिमांड कर रही थी. लेकिन केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की मौजूदगी में अब अपना दल को 14 और निषाद पार्टी को 17 सीटें देने का फॉर्मूला तय हुआ है. पिछले विधानसभा चुनाव में अपना दल को 11 सीटें दी गई थीं, लेकिन इस बार 14 सीटें दी गई हैं.

ram janam hospital
Catalyst IAS

इसे भी पढ़ें : धनबाद में कोरोना संक्रमण की गति तेज जारी, 183 नए मामले

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

आज लगेगी उम्मीदवारों के नाम पर आखिरी मुहर

वहीं, इस बीच दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में बीजेपी केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक हो रही है. इस बैठक में विधानसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों के नाम पर अंतिम मुहर लगेगी.
यूपी समेत पांच राज्यों में होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी में उच्च स्तरीय बैठक पिछले दो दिन से लगातार चल रही हैं. बैठक में बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा, केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा और यूपी संगठन महामंत्री सुनील बंसल भी मौजूद हैं.

इसे भी पढ़ें : प्रमोशन पर लगी रोक को झारखंड हाईकोर्ट ने किया निरस्त, निर्देश-योग्य को चार सप्ताह में प्रमोशन दें

10 मार्च को आएंगे यूपी चुनाव के नतीजे

बता दें कि उत्तर प्रदेश की 403 विधानसभा सीटों के लिए सात चरणों में मतदान 10 फरवरी से शुरू होगा. यूपी में सात चरणों में 10, 14, 20, 23, 27 और 3 और 7 मार्च को वोट डाले जाएंगे. जबकि वोटों की गिनती 10 मार्च को होगी. चुनाव आयोग ने कोरोना के मद्देनज़र यूपी, पंजाब, गोवा, मणिपुर और उत्तराखंड में विधानसभा चुनावों के लिए 15 जनवरी तक किसी भी राजनीतिक रैलियों और रोड शो की अनुमति नहीं दी है.

इसे भी पढ़ें : कानीमोहली स्टेशन का 19वां स्थापना दिवस मनाया गया

Related Articles

Back to top button