Lead NewsNational

UP ELECTION : गैंगस्टर नाहिद हसन टिकट देने में घिरे अखिलेश यादव, सुप्रीम कोर्ट से सपा की मान्यता खत्म करने की मांग

New Delhi : सुप्रीम कोर्ट में अधिवक्ता अश्विनी उपाध्याय की ओर से समाजवादी पार्टी की मान्यता खत्म करने की मांग करते हुए याचिका दाखिल की गई है. इस याचिका में कहा गया है कि चुनाव में उम्मीदवार तय करने के मामले में सुप्रीम कोर्ट के आदेश का सपा ने उल्लंघन किया है और इसके लिए उसकी मान्यता खत्म की जाए.

Advt

यूपी के कैराना से नाहिद हसन को उतारकर सपा ने सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों का उल्लंघन किया है. आरोप है कि सपा ने उसका क्रिमिनल रिकॉर्ड अपने ट्विटर अकाउंट और वेबसाइट पर जारी नहीं किया था. इसके अलावा इलेक्ट्रॉनिक, प्रिंट मीडिया और सोशल मीडिया में भी कोई जानकारी नहीं दी गई.

इसे भी पढ़ें:हेमंत सरकार ने सभी को निराश किया, अब रघुवर सरकार को याद कर रहे हैं लोगः नीलकंठ मुंडा

कैराना से दिया गया था टिकट

गौरतलब है कि समाजवादी पार्टी ने अपनी पहली सूची में कैराना से गैंगस्टर नाहिद को चुनाव मैदान में उतारा था. उधर, नाहिद को यूपी पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए जाने के बाद सपा ने उसका टिकट काट दिया है और नाहिद की बहन को टिकट दिया है.

इसे भी पढ़ें:जेपीएससी मुख्य परीक्षा का टाइम टेबल जारी, कल से डाउनलोड करें एडमिट कार्ड

क्या है मामला

याचिका में कहा गया है कि 13 जनवरी को समाजवादी पार्टी ने कुख्यात गैंगस्टर नाहिद हसन को कैराना विधानसभा से मैदान में उतारा है, लेकिन शीर्ष अदालत के निर्देश के अनुसार 48 घंटे के भीतर न तो उसके आपराधिक रिकॉर्ड को इलेक्ट्रॉनिक, प्रिंट और सोशल मीडिया में प्रकाशित किया और न ही उसके चयन का कारण बताया गया.

याचिका में शीर्ष अदालत के निर्देशों का उल्लंघन करने वाले राजनीतिक दल का पंजीकरण रद्द करने के लिए चुनाव आयोग को निर्देश देने की मांग की गई है.

इसे भी पढ़ें:59 लाख कार्डधारकों के लिए पेट्रोल पर सब्सिडी पाने की डगर नहीं आसान

पार्टी अध्यक्ष पर अवमानना का मामला हो दर्ज

अधिवक्ता अश्विनी उपाध्याय द्वारा दायर याचिका में चुनाव आयोग से यह सुनिश्चित करने का भी आग्रह किया गया कि प्रत्येक राजनीतिक दल 48 घंटे के भीतर इलेक्ट्रॉनिक, प्रिंट और सोशल मीडिया में आपराधिक मामलों को प्रकाशित करे और जिसकी पार्टी शीर्ष अदालत के निर्देशों का उल्लंघन करती है उसके अध्यक्ष के खिलाफ अवमानना का मामला दर्ज किया जाए.

हसन पर करीब 11 महीने पहले लगाए गए गैंगस्टर एक्ट के तहत हिरासत में है और वह उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के पहले चरण में नामांकन दाखिल करने वाले पहले उम्मीदवार हैं.

13 फरवरी 2021 को कैराना से दो बार विधायक रहे नाहिद हसन पर शामली पुलिस ने गैंगस्टर एक्ट लगा दिया था. उसपर कई आपराधिक मामले हैं.

इसे भी पढ़ें:Punjab Election 2022 : पंजाब में 14 फरवरी की जगह 20 फरवरी को होंगे मतदान, सीएम चन्नी के आग्रह पर EC ने लिया फैसला

नाहिद पर धोखाधड़ी और जबरन वसूली सहित कई आपराधिक मामले

याचिका में कहा गया है कि नाहिद पर धोखाधड़ी और जबरन वसूली सहित कई आपराधिक मामले हैं और विशेष विधायक-एमपी कोर्ट ने उन्हें भगोड़ा घोषित किया था.

याचिका में कहा गया है कि मान्यता प्राप्त राजनीतिक दल भी खूंखार अपराधियों को टिकट दे रहे हैं, और इसलिए मतदाताओं को अपना वोट स्वतंत्र और निष्पक्ष रूप से डालना मुश्किल लगता है.

हालांकि, नाहिद हसन को यूपी पुलिस की ओर से गिरफ्तार किए जाने के बाद समाजवादी पार्टी उनका टिकट भी काट चुकी है. विरोध के बाद सपा ने नाहिद हसन की बहन को टिकट दिया है.

इसे भी पढ़ें:औरंगाबाद में नक्सलियों को सीआरपीएफ और जिला पुलिस ने गिरफ्तार किया

Advt

Related Articles

Back to top button