JharkhandRanchi

सितंबर शुरू होने तक पाइपलाइन हटाने का काम हो जायेगा शुरू, बनेगा पक्का डायवर्सन : जुडको

Ranchi : कांटाटोली फ्लाईओवर निर्माण से पहले डायवर्सन बनाने के लिए नगर आयुक्त ने पहले जुडको को जो सख्त निर्देश दिया था, उसके आलोक में संबंधित अधिकारियों ने काम शुरू कर दिया है. जुडको के मुताबिक, पक्का डायवर्सन बनाने से पहले पिलर के नीचे बिछी पाइपलाइन एक प्रमुख समस्या है. इस समस्या से निपटने के लिए ‘मदनलाल बजाज’ नामक निजी कंपनी के साथ समझौता किया गया है. कंपनी वैसे तो इस माह के शुरू में ही पाइपलाइन हटाने का काम शुरू कर दिया है, अगले माह की शुरुआत तक सभी पाइपलाइनों को हाटने का काम शुरू हो जायेगा. इससे पक्का डायवर्सन बनाने के काम में आसानी आयेगी. दूसरी और बहू बाजार इलाके में काम शुरू नहीं किया गया है. विभाग का यह टारगेट है कि मॉनसून खत्म होने से पहले पाइपलाइन हटा दी जाये, ताकि पक्का डायवर्सन बनाया जा सके.

इसे भी पढ़ें- सभी सिटी मैनेजरों का वेतन बंद करना गलत, संबंधित लोगों पर होगी कार्रवाई : आशीष सिंहमार

नगर आयुक्त ने नहीं दिया ऐसा निर्देश

ram janam hospital
Catalyst IAS

मालूम हो कि दो दिनों पहले एक स्थानीय अखबार ने खबर छापी थी कि कांटाटोली फ्लाईओवर डायवर्सन के दौरान इलाके में भरे कीचड़ को लेकर नगर आयुक्त ने एक बैठक की थी. बैठक में नगर आयुक्त ने आदेश दिया था कि पक्का डायवर्सन जल्द बनायें, वरना फ्लाईओवर निर्माण कार्य करना बंद किया जायेगा. लेकिन जुडको के अधिकारियों ने इस खबर को पूरी तरह नकराते हुए कहा है कि नगर आयुक्त ने ऐसा कोई आदेश नहीं दिया. फिर भी शहर के लोगों को किसी तरह की कोई परेशानी नहीं हो, इसके लिए जुडको पक्का डायवर्सन बनाने के काम को लेकर तत्पर है.

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

जुडको के अधिकारी ने न्यूज विंग से बातचीत में बताया कि पक्का डायवर्सन बनाने से पहले यहां की सबसे बड़ी समस्या पाइपलाइन का बिछा होना है. फ्लाईओवर वाले इलाके में करीब चार बड़ी पाइपलाइन बिछी हुई है, जिससे शहर के करीब 60 से 70 प्रतिशत आबादी को जलापूर्ति की जा रही है. इसमें से एक पाइपलाइन के लिए जुडको ने संबंधित कंपनी को काम करने का आदेश दे दिया है. इस माह के अंत या सितंबर के प्रथम सप्ताह से पाइपलाइन हटाने पर काम शुरू कर दिया जायेगा. पाइपलाइन निर्माण कार्य शुरू करने से पहले भी भारी वाहनों से पाइपलाइन फटने की समस्या देखी जाती रही है.

इसे भी पढ़ें- पूर्व सीएस राजबाला वर्मा हो सकती हैं JPSC की अध्यक्ष! पहले सरकार की सलाहकार बनने की थी चर्चा

पाइपलाइन स्टेटस नहीं होने से उत्पन्न हुईं समस्याएं

जुडको के अधिकारियों ने बताया कि नगर विकास सहित संबंधित विभागों से फ्लाईओवर निर्माण कार्य शुरू करने के आदेश के बाद पता चला कि पाइपलाइन इस इलाके में एक बड़ी समस्या है. हालांकि डीपीआर बनानेवाली कंपनी मेकॉन ने इसे पेश करने के वक्त पाइप आने की समस्या को ठीक तरीके से समझा नहीं सकी थी. अब जबकि पक्का डायवर्सन बनाने का निर्देश दिया गया है, तो पाइपलाइन हटाने का काम शीघ्र शुरू किया जायेगा. इसी को ध्यान में रख जुडको ने संबंधित कंपनी ‘मदनलाल बजाज’ के साथ समझौता किया है. कंपनी को सख्त निर्देश है कि अगले छह माह के अंदर पाइपलाइन को बिछा लिया जाये. हालांकि जुडको की कोशिश रहेगी कि अगले तीन से चार माह के अंदर इस कार्य को पूरा किया जाये.

इसे भी पढ़ें- जेल में हुई थी मो जलील की मौत, अब परिजनों को पुलिस का जवान दे रहा धमकी

कंपनी ने एक अगस्त से शुरू किया है काम

सूचना के मुताबिक, जुलाई के अंत में ही संबंधित कंपनी को पाइपलाइन हटाने का टेंडर दिया गया है. कंपनी एक अगस्त से पाइपलाइन हटाने का काम शुरू कर दिया है. इस माह के अंत तक या सितंबर तक पिलर के नीचे पाइपलाइन को पूरी तरह हटाने का काम पूरी तरह से शुरू कर दिया जायेगा.

Related Articles

Back to top button