न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#unnaokibeti: पीड़िता के परिवार ने कहा- CM योगी के आने तक नहीं होगा अंतिम संस्कार

रविवार सुबह 10 बजे अंतिस संस्कार की खबर है. वहीं रेप पीड़िता के परिवार ने कहा है कि शव को दफनाया जायेगा न कि जलाया जायेगा.

919

Lucknow: उन्नाव रेप पीड़िता की मौत के बाद उसके परिजन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलने पर अड़े हैं. पीड़िता के परिवार का कहना है कि वो अपनी बेटी का अंतिम संस्कार तभी करेंगे जब सीएम योगी उसमें शामिल होगें. उनके आने से पहले शव का अंतिम संस्कार नहीं किया जायेगा. उल्लेखनीय है कि पीड़िता के परिवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 25 लाख रुपये की सहायता देने का ऐलान किया है. साथ ही फास्ट ट्रैक कोर्ट में मामले की सुनवाई कर अपराधियों को जल्द से जल्द सजा दिलाने की बात कही है.

रेप पीड़िता की 6 दिसंबर की देर रात दिल्ली में सफदरजंग अस्पताल में मौत हो गयी थी. जिसके बाद 7 दिसंबर की रात उसका शव उन्नाव पहुंचा. शव पहुंचने के बाद पीड़िता के परिवार ने कहा कि उसके शव को दफनाया जायेगा न कि जलाया जायेगा.

Sport House

8 दिसंबर की सुबह करीब 10 बजे पीड़िता का अंतिम संस्कार होना है लेकिन इसी बीच उसके परिवार का कहना है कि जब तक सीएम योगी उनसे मिलने नहीं आते हैं वो अंतिम संस्कार नहीं करेंगे.

इसे भी पढ़ें- दिल्ली के अनाज मंडी में लगी भीषण आग, 10 की मौत, कई घायल

फास्ट ट्रैक में होगी सुनवाई- योगी

उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता की मौत पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दुख जताते हुए कहा कि मुकदमे को फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलाकर अपराधियों को कड़ी सजा दिलायी जायेगी.

Mayfair 2-1-2020

सरकार के एक प्रवक्ता ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उन्नाव पीड़िता के सन्दर्भ में कहा कि घटना दुर्भाग्यपूर्ण है, उसकी मौत अत्यंत दुखद है. उनके द्वारा परिवार के प्रति पूरी संवेदना व्यक्त की गयी. सभी अपराधी पुलिस के द्वारा गिरफ्तार किए जा चुके हैं. मामले को त्वरित अदालत में ले जाकर कड़ी सज़ा दिलायेंगे.

गौरतलब है कि आग के हवाले की गई उन्नाव रेप पीड़िता ने 6 दिसंबर की देर रात दिल्ली में सफदरजंग अस्पताल में दम तोड़ दिया. दुष्कर्म के आरोपियों सहित पांच लोगों ने पीड़िता को अदालत जाते समय आग के हवाले कर दिया था. आरोपियों में से दो के खिलाफ पीड़िता ने रेप का मुकदमा दर्ज कराया था.

इसे भी पढ़ें- आखिर क्यों बोकारो विधानसभा क्षेत्र में मुद्दों की नहीं हो रही चर्चा

आग के हवाले करने से पहले उसके साथ मारपीट की गयी

साथ ही प्रियंका ने ट्वीट किया, उन्नाव की पिछली घटना को ध्यान में रखते हुए सरकार ने पीड़िता को तत्काल सुरक्षा क्यों नहीं दी? जिस अधिकारी ने प्राथमिकी दर्ज करने से मना किया, उस पर क्या कार्रवाई हुई? उत्तर प्रदेश में रोज-रोज महिलाओं पर जो अत्याचार हो रहे हैं, उसे रोकने के लिए सरकार क्या कर रही है?’  जान लें कि पीड़िता को गुरुवार को उसे बेहतर इलाज के लिए लखनऊ से एयरलिफ्ट कर दिल्ली के सफ़दरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

सफ़दरजंग अस्पताल में पीड़िता के लिए अलग आईसीयू बनाया गया था. जहां डॉक्टरों की एक टीम लगातार निगरानी कर रही थी. लेकिन आखिरकार उसे बचाया नहीं जा सका. उधर, रेप पीड़िता के रिश्तेदारों ने आरोप लगाया है कि लड़की के जलाये जाने के बाद से उन्हें लगातार धमकी दी जा रही है.

पीड़िता ने पुलिस को बताया कि उसे आग के हवाले करने से पहले उसके साथ मारपीट की गयी और चाकू से गोदा गया. हमला करने वाले वही लोग थे, जिन पर उससे रेप करने का आरोप था. वह अपने रेप मामले में कोर्ट की सुनवाई के लिए रायबरेली जा रही थी, तभी पांच लोगों ने उसे घेरकर आग के हवाले कर दिया. जब पीड़िता को दिल्ली शिफ्ट किया जा रहा था, तो वह पूरे रास्ते होश में थी, और उसने पांचों आरोपियों की पहचान करते हुए पुलिस को बयान दिया.

SP Jamshedpur 24/01/2020-30/01/2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like